Latest Hindi News Rajasthan

जयपुर/नागौर/दौसा। चुनावों से ठीक पहले नेताओं के राजनीतिक दलों में शामिल होने का दौर जारी हैं। विधानसभा चुनावों से पहले किरोड़ीलाल मीणा और अब हनुमान बेनीवाल से गठबंधन और किरोड़ी बैंसला को भाजपा में शामिल कराके भाजपा ने नै रणनीति तैयार की हैं राजनीतिक दिगज्जो की ये तिकड़ी राजस्थान की 10 से ज्यादा सीटों पर प्रभाव डाल सकती हैं ।

बुधवार को केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर की मौजूदगी में किरोडी सिंह बैंसला अपने बेटे के साथ भाजपा में शामिल हुए। बता दें कि बैंसला राजस्थान में गुर्जर आरक्षण आंदोलन से जुड़े रहे हैं। पार्टी उन्हें दौसा से चुनाव मैदान में उतर सकती हैं ।कर्नल बैंसला ने कहा कि आरक्षण के मुद्दे पर हर सरकार से काम करवाने होते हैं लेकिन इस बार उनका मन और ह्रदय दोनों भाजपा के साथ है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के अंदर जो गुण है वो किसी के अंदर नहीं है,इसलिए उन्होंने भाजपा में शामिल होने की सोची ।

62 और 65 के युद्ध में लिया भाग
कर्नल बैंसला ने 1962 के भारत-चीन और 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में भी अपनी बहादुरी का जौहर दिखाया । वे राजपूताना राइफल्स में थे और पाकिस्तान के युद्धबंदी भी रहे. उनके सीनियर्स उन्हें ‘जिब्राल्टर का चट्टान’ कहते थे और साथी कमांडो ‘इंडियन रेम्बो’ कहा करते थे। उनकी बहादुरी और कुशाग्रता का ही नतीजा था कि वे सेना में एक मामूली सिपाही से तरक्की पाते हुए कर्नल के रैंक तक पहुंचे और फिर रिटायर हुए।

नमोनारायण को दे सकते है चुनौती
विधानसभा चुनाव में प्रदेश में हार के बाद भाजपा ने अपनी रणनीति में बदलाव किया है। अपनी इसी रणनीति के तहत पार्टी ने hanuman beniwal के बाद बैंसला को अपने पक्ष में किया है। कर्नल बैंसला का दौसा, करौली, भरतपुर, टोंक-सवाईमाधोपुर और धौलपुर में खासा प्रभाव माना जाता है। ऐसे में पार्टी को लोकसभा चुनावों में इसका बड़ा फायदा मिल सकता है। आपको बता दें कि किरोड़ी सिंह बैंसला 2009 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के टिकट पर टोंक-सवाईमाधोपुर से चुनाव लड़ चुके हैं और बहुत कम अंतर से कांग्रेस के नमोनारायण मीणा से चुनाव हारे थे।

बेनीवाल फैक्टर भी करेगा काम
2014 के चुनावों में कांग्रेस प्रत्याशी के वोट काटकर भाजपा को फायदा पहुंचने वाले जाट नेता हनुमान बेनीवाल का राजस्थान का कई सीटों पर खासा प्रभाव है ।
राष्ट्रीय राजनीति में पैठ बनाने की कोशिश कर रहे आरएलपी के तेज तर्रार जाट नेता हनुमान बेनीवाल के लिए यह गठजोड़ काफी महत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *