January 29, 2023

तुनिषा के बाद Instagram मॉडल की मौत… सर्दियों में क्यों बढ़ रहे सुसाइड के मामले, जानिए इसकी बड़ी वजह

wp-header-logo-442.png

Suicide Rate Increases In Winters: एक्ट्रेस तुनिषा शर्मा (Tunisha Sharma) की मौत से अभी तक लोग उभरे भी नहीं थे कि सुसाइड का एक और मामला हम सभी के सामने आ गया। दरअसल इंस्टाग्राम मॉडल लीना नागवंशी (Leena Nagwanshi) के सुसाइड (Sucide) ने सभी को हैरान कर दिया है। कम उम्र के लोगों में सुसाइड की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। हाल ही में डिप्रेशन (Depression) का शिकार होकर दस साल के बच्चे ने भी सुसाइड कर लिया था। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सर्दियों में सुसाइड के मामले सबसे ज्यादा बढ़ जाते हैं। विशेषज्ञों का भी कहना है कि विंटर डिप्रेश सिंड्रोम के चलते सुसाइड के मामले बढ़ जाते हैं। ऐसे में आपके घर में कोई डिप्रेशन से पीड़ित है तो उस पर विशेष ध्यान देना जरूरी है। विशेषज्ञों ने ऐसे मरीजों की पहचान के लिए कई लक्षण भी बताए हैं। तो चलिए देखते हैं कि कौन से ऐसे लक्षण हैं, जो बताते हैं कि कोई इंसान डिप्रेशन में है या नहीं?
डिप्रेशन के लिए हार्मोंस भी जिम्मेदार
सर्दियों का मौसम किसी के लिए कंबल में बैठकर पॉपकॉर्न के साथ नेटफ्लिक्स और चिल होता है। वहीं कुछ लोगों के लिए सर्दियां रोमांटिक मौसम होता है। कई लोगों के लिए सर्दियां जानलेवा भी हो जाती हैं। इसके पीछे बहुत सी वजह हैं, लेकिन कुछ हर्मोंस भी इसके लिए जिम्मेदार होते हैं।
सर्दी में क्यों बढ़ रहा डिप्रेशन?
सर्दियों में डिप्रेशन बढ़ने का कारण मौसम से जुड़ा होता है क्योंकि सूरज की रोशनी कम समय के लिए रहती है। इससे दिमाग में सेरेटोनिन हॉर्मोन (serotonin hormone) का सीक्रेशन प्रभावित होता है। बता दें कि यह हॉर्मोन इंसान के मूड को लाइट करता है, जिसे हैपी हॉर्मोन भी कहते हैं। यह इंसान के मूड को सीधे तौर पर असर डालता है। सर्दियों में इसका लेवल कम हो जाता है, इसलिए मेंटल हेल्थ पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है। इस वजह से लोग डिप्रेशन के शिकार हो जाते हैं।
थकान के कारण भी होता है डिप्रेशन?
जैसा की हम सभी जानते हैं कि सर्दियों में दिन छोटे और रातें बड़ी हो जाती है। हालांकि रात बड़ी हो रही है या नहीं बता पाना मुश्किल है क्योंकि नींद तो अब भी पूरी नहीं होती। खैर समय में आए इस बदलाव के कारण आपको थकान ज्यादा होने लगती है। स्लीप हॉर्मोन सीधे तौर पर रोशनी और अंधेरे से जुड़ा होता है। सर्दियों में सूरज जल्दी छिप जाता है, जिस कारण दिमाग में मेलैटोनिन (melatonin) बनाने लगता है। इसकी वजह से नींद बढ़ जाती है और आप थका हुआ महसूस करते हैं। यह डिप्रेशन का कारण भी बनता है।
जानिए क्या है डिप्रेशन के लक्षण?
डिप्रेशन से कैसे करें अपना बचाव?
– सर्दी में जितना हो सके धूप में बैठें, नेचुरल लाइट आपके और आपके दिमाग के लिए फायदेमंद साबित होगी।
– अपना शेड्यूल बनाएं, सोने और जागने का समय तय करें।
– नेगेटिव विचारों से बचने के लिए मेडिटेशन और एक्सरसाइज का सहारा लें।
– अपने फेवरेट काम को ज्यादा से ज्यादा काम करें।
– हफ्ते में कम से कम एक बार पार्क जरूर जाएं या किसी ऐसी जगह घूमने जाएं, जहां जाना आपको पसंद है।
– डिप्रेशन पर कंट्रोल न होने की स्थिति में सायकाइट्रिस्ट से मिलें। इस कंडिशन में हॉर्मोनल सीक्रेशन को बैलंस करने के लिए दवाइयों की जरूरत होगी।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author