February 6, 2023

Coronavirus: चीन में कोरोना के बढ़ते मामलों का भारत पर होगा कैसा असर, जानें विशेषज्ञों की राय

wp-header-logo-497.png

Corona Cases Increases In China: चीन में एक बार फिर कोरोना वायरस बहुत तेजी से फैल रहा है। यही वजह है कि जीरो कोविड पॉलिसी (Zero Covid Policy) के अंतर्गत चीन (China) ने कई जगहों पर पूरी तरह से लॉकडाउन (Lockdown) की पाबंदियों को जारी कर रखा है। हालांकि इस लॉकडाउन का विरोध भी हो रहा है। इसके चलते शी जिनपिंग सरकार के खिलाफ बड़ी संख्‍या में लोग सड़कों पर आ गए हैं। चीन में रोजाना कोरोना के 30 हजार से ज्‍यादा केस आ रहे हैं। वहीं भारत में इस वक्‍त कोरोना के काफी कम या यूं कहें कि 300-400 मामले ही देखने को मिलते हैं। हालांकि इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि भारतवासी बेफिक्र होकर सड़कों पर बिना मास्क के घूम सकते हैं। चीन के हालात पर एम्स के पूर्व निदेशक डॉ. एमपी मिश्रा ने भी सलाह दी है।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्‍ली के ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) के पूर्व निदेशक डॉ. एमसी मिश्र का कोरोना को लेकर कहना है कि अगर इस स्वरुप बदल रही महामारी का डेल्‍टा जैसा कोई नया वेरिएंट नहीं आता है, तो चीन में बढ़ते मामलों का भारत पर खास असर नहीं होना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि चीन को उसकी अपनी जीरो कोविड पॉलिसी ने ही नुकसान पहुंचाया है।

चीन में कोरोना के मामले बढ़ने के पीछे ये है वजह
डॉ. एमसी मिश्र के मुताबिक चीन की जीरो कोविड पॉलिसी की वजह से वहां के लोग कोरोना के हल्‍के वेरिएंट जैसे ओमिक्रॉन आदि से संक्रमित नहीं हुए और उनमें कोरोना के खिलाफ हर्ड इम्‍यूनिटी भी विकसित नहीं हो पाई है। इसके अलावा चीन में वैक्‍सीनेशन बहुत ही कम हुआ है, वहां की ज्यादातर जनसंख्‍या को कोरोना वैक्सीन ही नहीं लगा है, इन हालातों में कोरोना के किसी भी वेरिएंट का फैलना उनके लिए बहुत ही खतरनाक साबित हो सकता है।
चीन में कोरोना मामले बढ़ने का भारत पर कैसा होगा असर?
वहीं अगर हम भारत की बात कर रहे हैं तो हमारे यहां कोरोना वैक्‍सीनेशन बहुत ही अच्छे से हुआ है। कोरोना वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज देश के लगभग हर व्यक्ति को लग गयी है, वहीं बूस्‍टर डोज भी बहुत से लोग लगवा चुके हैं। भारत में कोरोना से लड़ाई के लिए पर्याप्त मात्रा में वैक्‍सीन उपलब्‍ध है। अगर लोग चाहें तो वैक्‍सीन की बूस्‍टर डोज लगवा सकते हैं, इसके अलावा भारत में ओमिक्रोन वेरिएंट के फैलने के बाद देशवासियों में हर्ड इम्‍यूनिटी बनी और वैक्‍सीनेशन के बाद यह सुपर इम्‍यूनिटी में तब्दील हो चुकी है। अगर देश में कोई नया वेरिएंट नहीं आता है तो भारत में चीन के अंदर बढ़ते कोरोना मामलों का विशेष असर नहीं पड़ेगा, हालांकि कोरोना के मामलों की संख्या में बढ़ोत्‍तरी हो सकती है।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author