December 3, 2022

World Heart Day : जिंदादिली के लिए दिल से 'दिल्लगी' जरूरी, इन तरीकों से अपने दिल को रखें सेहतमंद

wp-header-logo-592.png

World Heart Day 
नरेंद्र वत्स : रेवाड़ी

इंसान के शरीर का दिल ही वो हिस्सा है, जो इंसान के सोते समय भी धड़कता रहता है। दिल का धड़कना बंद होते ही मौत का रास्ता खुल चुका होता है। जिंदा रहने के लिए दिल की ‘जिंदादिली’ सबसे जरूरी है। दिल की बीमारी पहले 50 की उम्र पार करने वाले लोगों में देखने को मिलती थी, परंतु अब यह बीमारी 20 साल तक के युवकों को भी शिकार बना रही है। असंतुलित खानपान और युवाओं में नशे की लत दिल के साथ खिलवाड़ करने का काम करती है। वर्तमान समय में अव्यवस्थित दिनचर्या, तनाव, गलत खान-पान, पर्यावरण प्रदूषण एवं अन्य कारणों के चलते हृदय की समस्याएं तेजी से बढ़ी हैं। छोटी उम्र से लेकर बुजर्गों तक में हृदय से जुड़ी समस्याएं होना अब आम बात हो गई है।
हर साल 29 सितंबर का दिन विश्व हृदय दिवस ( World Heart Day ) के रूप में मनाया जाता है। इस दिन लोग यह शपथ लेते हैं कि अपने दिल का ख्याल रखने के लिए वह हर आवश्यक कदम उठाएंगे। समय बीतता है और लोग दिल के प्रति उदासीन हो जाते हैं। परिणाम यह होता है कि समय से पहले युवा वर्ग दिल की बीमारियों की चपेट में आ जाता है। हृदय रोग विशेषज्ञ डा. अभय कुमार यादव ने बताया कि विगत कुछ सालों से हृदय रोगियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। उनका मानना है कि नशे की लत समाज में दिल के रोगियों की संख्या बढ़ाने में काफी हद तक जिम्मेदार है। युवाओं का कम उम्र में शराब का सेवन और लोगों की हुक्का, बीड़ी व सिगरेट की आदत हार्ट की बीमारियों को न्योता देने के लिए सबसे बड़ी भूमिका निभा रही हैं।
डब्ल्यूएचओ के आंकड़ों के मुताबिक हर साल दुनिया में 17.9 मिलियन लोग हार्ट अटैक के कारण मौत का शिकार हो जाते हैं। डा. अभय कुमार के अनुसार अगर लोग अपनी जीवनशैली में बदलाव करते हुए दिल के प्रति जरा भी गंभीर हो जाएं, तो इस गंभीर बीमारी से बचा जा सकता है। हृदय रोग विशेषज्ञ डा. पवन गोयल का मानना है कि शराब और धूम्रपान के साथ-साथ जंक फूड भी हार्ट के लिए सबसे बड़ा खतरा साबित हो रहे हैं। लोगों को हर्ट की बीमारियों से बचने के लिए तले हुए पदार्थों का सेवन कम से कम करना चाहिए। तैलीय पदार्थों के अधिक सेवन ने शरीर में वसा की मात्रा बढ़ जाती है, जो हृदय वाहिनियों को जाम करने का काम करती है। हाई ब्लड प्रेशर और शुगर भी हार्ट के लिए खतरनाक साबित होते हैं।
कम से कम आधे घंटे तक व्यायाम करें
अगर हमें दिल की बीमारी से बचना है तो इस बात की जरूरत है कि हम अपने दिल की आवाज सुनें, दिल को दुरुस्त रखने के लिए तनाव दूर भगाएं। हार्ट अटैक के लक्षण हर शरीर में अलग-अलग तरीके के होते हैं। कुछ लोगों के सीने में धीमा दर्द उठता है जबकि कुछ लोगों को एकदम से तीव्र दर्द होता है। हार्ट अटैक आने से पहले चेतावनी के तौर पर सीने में हल्का दर्द होता है या सीने में दबाव महसूस होता है। अपने दिल को स्वस्थ रखने के लिए प्रतिदिन कम से कम आधे घंटे तक व्यायाम करें जोकि हृदय के लिए अच्छा होता है। समय की कमी है तो टहला जा सकता है। सेहत के अनुरूप आहार लिया जाना चाहिए। नमक कम मात्रा में सेवन करना चाहिए व कम वसा वाले आहार लेने चाहिए। ताजी सब्जियां और फल लेने चाहिए और नशीले पदाथोंर् से दूर रहना चाहिए। सीने में होने वाले दर्द या दिल की तकलीफ को हलके में नहीं लेना चाहिए। जब भी ऐसी कोई परेशानी महसूस हो तो तुरंत ही मेडिकल उपचार करवाना चाहिए। हृदय रोग पूरे विश्व में आज एक गंभीर बीमारी के तौर पर उभरा है। हर साल विश्व हृदय दिवस के बहाने पूरे विश्व के लोगों में इसके बारे में जागरूकता फैलाई जाती है।

हार्ट अटैक के कारण, लक्षण और बचाव के बारे में जानकारी रखें

अगर हमें दिल की बीमारी से बचना है तो जरूरी है कि हमें हार्ट अटैक के कारण, लक्षण और बचाव के बारे में जानकारी हो। बाहर का खाना जैसे फास्ट फूड, जंक फूड, शराब का सेवन, अतिरिक्त वसा वाला भोजन, शारीरिक गतिविधियों में भाग न लेना, जरूरत से ‘यादा तनाव पालना आदि दिल की बीमारी के मुख्य कारण होते हैं। क्योंकि जब हृदय ठीक से पंप नहीं कर पाता है तो हमें हृदय की बीमारी घेरने का खतरा बन जाता है। इसमें कोरोनरी धमनियों में ब्लाकेज हो जाता है जिसकी वजह से रक्त को ऑक्सीजन का प्रवाह होना कम हो जाता है और मनुष्य को हार्ट अटैक आ जाता है। ऐसे में हमें जंक फूड से हमेशा दूर रहना चाहिए।

ऐसे रखें हार्ट को स्वस्थ ( Healthy Heart Tips )

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author