November 27, 2022

बाइडेन-जिनपिंग की 2 घंटे लंबी वर्चुअल मीटिंग: चीनी राष्ट्रपति ने US प्रेसिडेंट से कहा- जो लोग आग से खेलते हैं, अकसर जल जाते हैं

wp-header-logo-596.png

news website
वॉशिंगटन/बीजिंग. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने गुरुवार देर रात चीन के प्रेसिडेंट शी जिनपिंग से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। करीब 2 घंटे 17 मिनट चली इस बातचीत में जिनपिंग का रवैया काफी तल्ख रहा। न्यूज एजेंसी ‘रॉयटर्स’ के मुताबिक, ताइवान में अमेरिकी दखलंदाजी से नाराज चीनी राष्ट्रपति ने बाइडेन को एक तरह से सीधी धमकी दे दी। जिनपिंग ने कहा- मैं आपसे सिर्फ इतना कहूंगा कि जो लोग आग से खेलने की कोशिश करते हैं, वो जल जाते हैं।
इस वॉर्निंग के सीधे मायने ये हैं कि दोनों देशों के बीच कड़वाहट तेजी से बढ़ रही है। चीन को यह कतई मंजूर नहीं है कि अमेरिका और बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन ताइवान की मदद करे।
इस तल्खी की वजह क्या है
माना जा रहा है कि अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी अगले हफ्ते ताइवान के दौरे पर जा रही हैं। 25 साल बाद अमेरिका का कोई इतना बड़ा नेता ताइवान की ऑफिशियल विजिट पर जा रहा है। यह चीन के लिए साफ संकेत है कि अमेरिका अब ताइवान को अकेले नहीं छोड़ेगा और उसको हर स्तर पर मदद देगा। चीन को यह सख्त नामंजूर है। यही वजह है कि चीन कई दिनों से अमेरिका को नतीजे भुगतने की धमकी दे रहा है।
दूसरी तरफ, अमेरिका ने भी साफ कर दिया है कि वो किसी सूरत में कदम पीछे नहीं खींचेगा। गुरुवार को बाइडेन-जिनपिंग की मुलाकात में भी रिश्तों की यह तल्खी साफ दिखी।
मार्च के बाद दूसरी बार बातचीत
बाइडेन और जिनपिंग ने मार्च में भी 2 घंटे तक इसी तरह वर्चुअल मीटिंग की थी। तब यूक्रेन और रूस की जंग पर बातचीत हुई थी। बाइडेन के सत्ता में आने के बाद जिनपिंग से उनकी पांच बार बातचीत हो चुकी है। हालांकि, ट्रेड और ताइवान समेत किसी भी मुद्दे पर दोनों नेता किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सके। बहरहाल, व्हाइट हाउस ने गुरुवार की बातचीत के बारे में अब तक कोई ऑफिशियल स्टेटमेंट जारी नहीं किया है। माना जा रहा है कि दोनों नेताओं की एक और बातचीत होगी, लेकिन इसके पहले विदेश मंत्री मुलाकात करेंगे।
ताइवान को अमेरिकी हथियार
बुधवार को पहली बार ताइवान मिलिट्री के तीनों विंग्स ने वॉर एक्सरसाइज की। इस दौरान सिर्फ चीन से निपटने की स्ट्रैटेजी पर फोकस किया गया। ताइवान मिलिट्री ने अमेरिका से खरीदी गईं मिसाइलों का टेस्ट किया। इन्हें वॉरशिप और फाइटर जेट्स पर लगाकर भी देखा गया। इसके अलावा अमेरिकी ड्रोन भी इस्तेमाल किए गए।
कहा जा रहा है कि अमेरिकी फौज ने नैंसी पेलोसी को फिलहाल, ताइवान न जाने की सलाह दी है। फौज का मानना है कि यूक्रेन और रूस के बीच जंग चल रही है और ऐसे में अगर ताइवान में कोई संघर्ष होता है तो यह मामला बेहद खतरनाक साबित हो सकता है।
Your email address will not be published. Required fields are marked *







This is the News Website by Chambal Sandesh
Rajasthan, Kota
THIS IS CHAMBAL SANDESH YOUR OWN NEWS WEBSITE

  • एजुकेशन
  • कर्नाटक
  • कोटा
  • गुजरात
  • Chambal Sandesh

    source

    About Post Author