August 8, 2022

Health Tips: जोड़ों को दर्द को नेचुरली करें मैनेज, इन आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के जरिए मिलेगी राहत

wp-header-logo-507.png

Health Tips: आयुर्वेद चिकित्सा (Ayurveda Medicine) का एक प्राचीन रूप है जिसकी शुरुआत भारत में हुई थी। यह अच्छे स्वास्थ्य (Health) को प्रोत्साहित करने के लिए पोषक तत्वों, व्यायाम और ध्यान का एक साथ उपयोग करता है। आयुर्वेद (Ayurveda) आपकी बीमारी की जड़ तक पहुंच कर उसके कारण को खत्म करने की कोशिश करता है। किसी बीमारी से जड़ से निजात पाने के लिए आप आयुर्वेद चिकित्सा का सहारा ले सकते हैं। अगर आपको जोड़ों का दर्द (Joint Pain) है तो कुछ पोषक तत्वों (Nutrients) और अन्य सप्लीमेंट्स को आधुनिक चिकित्सा के साथ मिलाना फायदेमंद हो सकता है। यहां हम आपको जोड़ों के दर्द करने के कुछ नेचुरल तरीके बता रह हैं। ये प्राकृतिक उपचार (Natural Remedies) कुछ संयुक्त दर्द के लक्षणों को कम करने और प्रगति को रोकने में मदद कर सकते हैं।
नीलगिरी का तेल
निलगिरी या नीलगिरी का उपयोग जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द के लिए आयुर्वेदिक तेल के रूप में किया जाता है। इसका तेल सूजन को कम करने में मदद करता है, इस प्रकार दर्द के दौरान मदद करता है। नीलगिरी का तेल प्रकृति द्वारा एक एनाल्जेसिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी है, जो हमारे जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द से राहत देने में फायदेमंद पाया गया है। आयुर्वेदिक डॉक्टर अक्सर गठिया, मोच वाले स्नायुबंधन, कठोर मांसपेशियों, दर्द और तंत्रिका दर्द से पीड़ित रोगियों को इस तेल का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं।
दशमूला
दशमूला एक पारंपरिक आयुर्वेदिक सूत्रीकरण है जो दस पौधों की जड़ों से बना है। यह आयुर्वेद में सहायक एंटी- इंफ्लेमेटरी उत्पादों में से एक है। यह वात को बनाए रखने और जोड़ों के दर्द का प्रबंधन करने में मदद करता है। यह एक स्वस्थ मांसपेशी देखभाल को भी बढ़ावा देता है।
नीरगुंडी
नीरगुंडी गठिया और जोड़ों के दर्द के प्रबंधन में उपयोग किए जाने वाले सबसे लोकप्रिय और सहायक जड़ी -बूटियों में से एक है। इसके एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सिडेंट गुण सूजन, कठोरता और दर्द के प्रबंधन में मदद करते हैं।
शालकी
शालकी एक जड़ी बूटी है जो स्वाभाविक रूप से दर्द को प्रबंधित करने में मदद करती है। यह जोड़ों को मजबूत करने में मदद करता है और गतिशीलता में सुधार करता है। गठिया के मरीज जोड़ो में सूजन से राहत पाने के लिए पानी के साथ 1-2 शालकी गोलियां ले सकते हैं। यह अपनी एंटी इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण जोड़ो में सूजन के साथ-साथ जकड़न को भी कम करता है। नियमित रूप से शालकी रस (भोजन लेने से पहले) का सेवन करने से मस्तिष्क के कार्य को बेहतर बनाने में मदद मिलती है क्योंकि यह एंटीऑक्सिडेंट गतिविधि के कारण मुक्त कणों से होने वाली कोशिका क्षति को रोकता है।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author