December 5, 2022

कितना गंभीर और जानलेवा हो सकता है Brain Stroke? जानिए इसके लक्षण और उपचार

wp-header-logo-375.png

World Stroke Day 2022: विश्व स्ट्रोक दिवस (World Stroke Day) हर साल 29 अक्टूबर को मनाया जाता है। ज्यादातर लोग समझते हैं कि स्ट्रोक दिल की बीमारी है, लेकिन असल में इसका संबंध दिमाग से होता है। कैंसर (Cancer) की ही तरह हर साल स्ट्रोक के कारण भी कई मौतें हो रही हैं। कैंसर से बचने के लिए अब तक कोई पर्टिकुलर दवाई या मेडिकेशन नहीं मिल सकी है, लेकिन स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारी का इलाज संभव है। दरअसल, इस गंभीर और जानलेवा बीमारी से बचाव के लिए बी-फास्ट (B-Fast Formula) एक ऐसा फॉर्मूला है, जिससे न सिर्फ ब्रेन स्ट्रोक के खतरे से बचा जा सकता है बल्कि इस बीमारी से ठीक होने के भी चांसेस होते हैं। आइये आज हम आपको स्ट्रोक से जुड़ी कुछ बहुत ही अहम जानकारियों के बारे में बताएंगे जिनसे आप खुदको और आपके परिवार को ब्रेन स्ट्रोक (Brain Stroke) के खतरे से बचा सकता है।
जानिए किन लक्षणों को नहीं करना चाहिए नजरअंदाज (Brain Stroke Symptoms)
अगर कभी लगे कि शरीर का संतुलन बिगड़ रहा है। अगर अपने आप चलने में असमर्थ हैं, तो यह ब्रेन स्ट्रोक का लक्षण हो सकता है। चेहरे की शेप का बिगड़ना, अगर चेहरा टेढ़ा हो जाए या महसूस होने लगे तो इसे आपको हल्के में नहीं लेना चाहिए। स्ट्रोकसे जूझते लोगों में हाथ मुड़ने या पैरों में टेढ़ापन महसूस होने लगता है। बोलने में कठिनाई होती है या फिर इंसान बहुत ज्यादा हकलाने लगता है, इसके साथ ही वह अचानक कुछ भी कहने में असमर्थ हो जाता है। अगर ऐसा कोई लक्षण दिखने लगे तो तुरंत अस्पताल पहुंचें जहां सीटी स्कैन की सुविधा उपलब्ध हो।

एक मिनट में दिमाग की 17 लाख कोशिकाएं टूटती हैं
अगर रोगी ब्रेन स्ट्रोक आने से जूझ रहा है तो पहले साढ़े चार घंटे में उसे एक इंजेक्शन देकर मस्तिष्क की कोशिकाओं को होने वाले नुकसान को रोका जा सकता है। दिमाग शरीर का बहुत ही नाजुक पार्ट होता है और इस तरह की बीमारी में हर पल बहुत कीमती होता है। बताते चलें कि ब्रेन स्ट्रोक जब आता है तब एक मिनट में लाखों कोशिकाएं टूट जाती हैं। जितनी देर होगी, शरीर को उतना ही अधिक नुकसान होगा। कभी-कभी स्ट्रोक इतना गंभीर होता है कि यह रोगी को हमेशा के लिए बिस्तर पर पहुंचा देता है। मस्तिष्क की कोशिकाओं को बनने में काफी समय लगता है, जीवन भर दवा खानी पड़ती है। इसलिए कीमती वक्त को बचाएं और मरीज को हॉस्पिटल ले जाएं।

इन चीजों को कंट्रोल करना है बहुत जरुरी
ब्लड प्रेशर, शुगर, कोलेस्ट्रॉल, मोटापा, वजन और हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करना बहुत जरूरी है। जब उनकी हालत बिगड़ती है तो ब्रेन स्ट्रोक का खतरा बढ़ जाता है।

हैल्दी डाइट के साथ एक्सरसाइज है जरुरी
हर इंसान को अपने खाने-पीने का ध्यान रखना चाहिए, धूम्रपान और शराब से ब्रेन स्ट्रोक की संभावना कई गुना बढ़ जाती है। स्वस्थ आहार लें जिसमें फल और सब्जियां शामिल हों। रोज एक्सरसाइज करना बहुत आवश्यक है, तली हुई चीजें कम खाएं।

अब युवाओं पर भी है स्ट्रोक का खतरा
ब्रेन अटैक तब होता है जब मस्तिष्क की किसी भी नस में खून का थक्का जमने या नस फटने के कारण मस्तिष्क को रक्त की आपूर्ति कम हो जाती है। 87 फीसदी मामले नस में थक्कों के कारण होते हैं, जिनका इलाज किया जा सकता है। हर मिनट दिमाग की 19 लाख कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं। नई तकनीक यांत्रिक थ्रोम्बेक्टोमी के आने से रोगी का 24 घंटे के भीतर इलाज किया जा सकता है। इस तकनीक से बिना किसी कट के सफल ट्रीटमेंट किया जा सकता है।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author