August 18, 2022

Menstrual Hygiene Day 2022: पीरियड्स को लेकर चले आ रहे कई सारे मिथ, जानें पीछे क्या है सच्चाई

wp-header-logo-492.png

Menstrual Hygiene Day 2022: मासिक धर्म (Menstruation Cycle) के बारे में जागरूकता फैलाने और महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता (Menstrual Hygiene) प्रथाओं के बारे में शिक्षित करने के लिए हर साल 28 मई को ‘मासिक धर्म स्वच्छता दिवस’ यानी ‘मेंस्ट्रुअल हाइजीन डे’ (Menstrual Hygiene Day) मनाया जाता है। इसकी शुरुआत जर्मनी के एनजीओ WASH United ने 2014 में की थी। यह दिन 28 मई को मनाया जाता है क्योंकि मासिक धर्म चक्र औसतन 28 दिन लंबा होता है और महिलाओं को हर महीने में पांच दिन तक रहता है और मई साल का पांचवा महीना है। मासिक धर्म स्वच्छता दिवस 2022 की थीम ‘2030 तक मासिक धर्म को जीवन का एक सामान्य तथ्य बनाना’ है। इसका लक्ष्य एक ऐसी दुनिया का निर्माण करना है जहां 2030 तक मासिक धर्म होने के कारण कोई भी पीछे न रहे। यहां हम आपको पीरियड्स (Periods) से जुड़े कुछ मिथ के बारे में बता रहे हैं कि वो कितने सच है…
मासिक धर्म अशुद्ध होता है
ये बात एकदम सही नहीं है। मासिक धर्म एक प्राकृतिक घटना है जो हर महीने होती है। यह गर्भाशय की आंतरिक परत के साथ एक साइकलिक ब्लीडिंग है। स्कूल, कॉलेज और कार्यालय में उचित चर्चा और सेनिटाइजेशन बहुत मदद करता है क्योंकि यह सभी प्रकार की शर्मिंदगी पर अंकुश लगाता है और महिलाओं को सामाजिक कलंक से रहित वातावरण में पनपने में मदद करता है।
कपड़ा सेनेटरी पैड से बेहतर है
मासिक धर्म मैनेजमेंट एक बुनियादी आवश्यकता है। इसलिए बिना झिझक किसी फार्मासिस्ट से सलाह लें। सैनिटरी नैपकिन, पुन: प्रयोज्य पैड, टैम्पोन, मासिक धर्म कप का उपयोग करके स्वच्छता बनाए रखें।
पीरियड्स में एक्सरसाइज हानिकारक है
स्वस्थ रहने के लिए तनाव मुक्त कसरत व्यवस्था बनाए रखना महत्वपूर्ण है। कैलेंडर या ऐप्स का पालन करके अपने मासिक धर्म चक्र को ट्रैक करें और एक्सरसाइज करते रहते हैं।
मासिक धर्म के दौरान पूजा नहीं करनी चाहिए
मासिक धर्म मासिक धर्म वाली महिला या उसके परिवार की पूजा करने की क्षमता को खतरे में नहीं डालता है। ये आपकी सोच पर निर्भर करता है कि आप पूजा करना चाहती हैं या नहीं। डॉक्टर्स में से किसी व्यक्ति के साथ चर्चा करने से परिवार की जागरूकता में सुधार हो सकता है।
पीएमएस रियल नहीं है
मासिक धर्म के दौरान और उससे पहले महिलाओं में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं। दिल से दिल की बातचीत इस तरह से मनोवैज्ञानिक स्थान को बेहतर ढंग से समझने में मदद करती है। इसलिए ऐसा सोचना कि ये रियल नहीं है बिल्कुल गलत है। माहवारी को समझना जरूरी है। अपने दिमाग में बैठे मिथकों को खत्म करने के लिए चर्चा करें और विश्वास पैदा करें और एक महिला के फलने-फूलने के लिए एक स्वस्थ वातावरण को आकार देने में मदद करें।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author