May 21, 2022

Health Tips: गर्मी से राहत पाने के लिए अपनी डाइट में शामिल करें मौसमी सब्जियां और फल, यहां जानें इनके फायदे

wp-header-logo-510.png

Health Tips: सर्दी, गर्मी, बरसात प्राकृतिक मौसम (Natural Season) हैं, जिनका होना हमारी धरती के लिए अनिवार्य है। प्रकृति ने अगर ये मौसम दिए हैं, तो इन मौसमों को झेलने की शक्ति भी हमें प्रदान की है। जैसे कड़ाके की सर्दी को झेलने के लिए उस मौसम में तरह-तरह के गर्म साग-सब्जियां पैदा होती हैं, ठीक वैसे ही गर्मी की मार और लू झेलने के लिए प्रकृति की ओर से हमें कई तरह के फल और सब्जियां (Fruits and Vegetables) दी गई हैं। गर्मी के मौसम में कई ऐसे फल और सब्जियां मिलती हैं, जिनका नियमित सेवन इस मौसम में बहुत उपयोगी है। आपने अकसर डॉक्टरों और वैद्यों को ये कहते सुना होगा कि स्वस्थ रहने के लिए हमेशा मौसमी फल और सब्जियों (Seasonal Fruits and Vegetables) का सेवन करना चाहिए। इससे आप ना सिर्फ स्वस्थ रहेंगे, बल्कि आपके शरीर में पानी की कमी भी नहीं होगी। यहां हम आपको ऐसे कुछ फलों और सब्जियों के बारे में बता रहे हैं, जिनका सेवन इस मौसम में अवश्य करना चाहिए।
आम
आम को फलों का राजा कहा जाता है। यह गर्मी के मौसम में शीतलता का आभास कराता है। शरीर में पानी की कमी नहीं होने देता है। यह पोषक तत्वों से भरपूर होता है और इसमें कैलोरी भी काफी होती है। इसमें पाए जाने वाले विटामिन ए, विटामिन सी, सोडियम और अन्य मिनरल्स शरीर को पोषण देते हैं। यह रोग प्रतिरोध शक्ति बढ़ाने वाला होता है, जो हृदय रोग, मधुमेह और मोटापा नियंत्रण में सहायक है। इसमें मौजूद फाइबर्स पाचन को सही रखते हैं|
तरबूज
यह फल ठंडा, मीठा और स्वादिष्ट होता है। इसमें लगभग 92 प्रतिशत पानी होता है। इस तरह यह डिहाइड्रेशन से बचाता है। इसमें पोटेशियम, विटामिन-ए, विटामिन-सी, मैग्नीशियम और एंटीआक्सीडेंट्स होते हैं, जो लू, गर्मी से बचाते हैं। लेकिन ध्यान रहे, तरबूज खाने के बाद पानी नहीं पीना चाहिए।
खीरा
सलाद के रूप में आप रोज खीरा का सेवन कर सकते हैं। स्वाद के साथ यह शीतलता का भी खजाना है। इसमें विटामिंस, पोटेशियम, मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसमें 95 प्रतिशत पानी होता है। इसमें कैलोरी बहुत कम मात्रा में होती है। यह त्वचा को स्वस्थ-सुंदर बनाता है।
टमाटर
टमाटर हर मौसम में मिल जाता है। इसको सलाद के रूप में खाने से ढेरों पोषक तत्व मिलते हैं, जो शरीर की प्रतिरोधक शक्ति में बढ़ोतरी कर हृदयाघात की संभावना को कम करने में मददगार है। इसमें पानी की मात्रा 95 प्रतिशत होती है, जो डिहाइड्रेशन को दूर करता है।
लेखक- वैद्य हरिकृष्ण पांडेय ‘हरीश’
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source