July 5, 2022

Health Tips: अगर आप भी रहते हैं एसिडिटी से परेशान तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खे, मिलेगी तुरंत राहत

wp-header-logo-464.png

Health Tips: कई बार भारी खाना या फिर अपनी गलत आदतों के कारण हम एसिडिटी (Acidity) का शिकार हो जाते हैं। सबसे आम पाचन विकारों में से एक एसिडिटी है। एसिडिटी को एक पाचन रोग (Digestive Problem) के रूप में परिभाषित किया जाता है जिसमें पेट में एसिड या पित्त भोजन की पाइपलाइन को परेशान करता है। एसिडिटी से हार्टबर्न, छाती, पेट और गले में जलन जैसी समस्याएं हो सकती हैं। ऐसा बार-बार होने से गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (Gastroesophageal Reflux Disease) जैसी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं, जिसमें चिकित्सा हस्तक्षेप की आवश्यकता होती है। इसलिए हम अपनी इस स्टोरी में आपको बताएंगे कुछ घरेलू नुस्खे (Home Remedies For Acidity) जिनके जरिए आपकी एसिडिटी की समस्या दूर हो सकती है।
अजवायन
अजवायन लंबे समय से गैस्ट्रिक परेशानी को कम करने और मजबूत पाचन में सहायता के साथ जुड़े हुए हैं। इसका जैव रासायनिक थाइमोल, अजवाइन में एक सक्रिय घटक, मजबूत पाचन में सहायता करता है। अजवायन को चुटकी भर नमक के साथ चबाकर खा सकते हैं; आप रात भर पानी में एक चम्मच भिगोकर पानी पी सकते हैं, इससे आपकी एसिडिटी की समस्या दूर हो जाएगी।

सौंफ
भोजन के बाद एक चुटकी सौंफ लेना भारतीय परंपरा का काफी सामान्य हिस्सा है। यह मुंह की दुर्गंध को कम करने में मदद करता है लेकिन इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि यह इसलिए शुरू हुआ क्योंकि यह पाचन में मदद करता है। सौंफ और मिश्री का मिश्रण पाचन के लिए बेहतर होता है। छोटे बच्चों को पेट के दर्द से राहत के लिए सौंफ दी जाती है – यह सुरक्षित और असरदार है। खाना खाने के अलावा रात भर पानी में भिगोई हुई सौंफ का भी इस्तेमाल किया जा सकता है या सौंफ का गर्म पानी बनाया जा सकता है। इसके अलावा आप चाय में सौंफ भी डाल सकते हैं। सौंफ के साथ थोड़ी सी चीनी मिलाने से ज्यादा मदद मिलती है।

दूध और दही
दूध एसिडिटी के लिए एक अचूक मारक है। ठंडा या कमरे के तापमान वाला दूध एसिडिटी से तुरंत राहत देता है। एसिडिटी कम करने के लिए इसे घूंट घूंट कर पिएं। दूध एक प्राकृतिक एंटासिड है। कैल्शियम लवण से भरपूर यह एसिड को बेअसर करता है। दही एसिडिटी को नियंत्रित करने का एक और तरीका है। कैल्शियम के अलावा, यह एक प्राकृतिक प्रोबायोटिक भी है जो एक स्वस्थ आंत और बेहतर पाचन प्रदान करता है।

शहद
शोध से पता चला है कि एक चम्मच शहद को गर्म पानी के साथ लेने से एसिडिटी में राहत मिलती है। इसमें थोड़ा सा नींबू मिलाने से यह एक अच्छा एल्कलाइजिंग एजेंट बन जाता है जो पेट में एसिड को निष्क्रिय कर देता है।
धनिया
एसिडिटी से निपटने के लिए धनिया को ताजी पत्तियों और सूखे बीजों दोनों के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। हरे धनिये का लगभग 10 मिलीलीटर रस को पानी या छाछ में मिला कर पीने से एसिडिटी से छुटकारा मिलता है। सूखे धनिया के बीज का पाउडर खाना पकाने या खाने के ऊपर अगर छिड़का जाए तो ये एसिडिटी दूर करने में मदद करता है। धनिया इंफ्लेमेशन को कम करने में मदद करता है, जो अम्लता का एक सामान्य लक्षण है और साथ ही मतली और उल्टी को नियंत्रित करता है।
नोट: यहां दी गई जानकारी सामान्य ज्ञान पर आधारित है, अगर समस्या ज्यादा हो तो विशेषज्ञ से सलाह लें।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source