January 31, 2023

Sonam Kapoor: डिलीवरी के 3 महीने बाद टोंड फिगर में लौटीं सोनम कपूर, जानिए एक्ट्रेस का जबरदस्त वेट लॉस सीक्रेट

wp-header-logo-474.png

Sonam Kapoor Weight Loss Tips: बॉलीवुड (Bollywood) अभिनेत्री सोनम कपूर (Sonam Kapoor) ने हाल ही में एक बहुत ही क्यूट से बेटे को जन्म दिया है। हालांकि एक्ट्रेस सभी महिलाओं के लिए इंस्पिरेशन बन गईं हैं, जो डिलीवरी के बाद वेट लॉस करने की योजना बना रही हैं। दरअसल एक्ट्रेस ने अपनी डिलीवरी के महज 3 महीने के अंदर अपना वजन कम कर लिया है। एक्ट्रेस सोनम कपूर के पति बिजनेसमैन आनंद आहूजा उनके वजन घटाने की जर्नी से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। आनंद अपनी पत्नी के ट्रांसफॉर्मेशन से बहुत ही ज्यादा खुश है, उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर सोनम का एक वीडियो भी शेयर किया। उन्होंने अपनी फीलिंग्स को व्यक्त करने के लिए दिल की आंखों वाले इमोजी के साथ हैरान करने वाले इमोजी चेहरे लगाए हैं। आनंद ने सोनम की नई इंस्टाग्राम पोस्ट में उनके ट्रांसफॉर्मेशन पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, “व्हाट!”
बता दें कि सोनम कपूर अगस्त में अपने बेटे को जन्म के बाद से अपनी फिटनेस को लेकर सुर्खियों में बनी हुई हैं। हाल ही में हुए एक इंटरव्यू में सोनम ने खुलासा किया कि उनकी गर्भावस्था आसान नहीं थी क्योंकि उन्हें पहले तीन महीनों में मॉर्निंग सिकनेस का सामना करना पड़ा था। सोनम ने कहा था कि “यह बहुत मुश्किल रहा है- कोई आपको नहीं बताता कि यह कितना मुश्किल है। हर कोई आपको बताता है कि यह कितना शानदार है। मैं अपने बेटर वर्जन का इंतजार कर रही हूं।
A post shared by Sonam Kapoor Ahuja (@sonamkapoor)
सोनम कपूर का फिटनेस रूटीन
हाल ही में अपने इंस्टाग्राम पर सोनम ने अपने फिटनेस रूटीन की एक झलक दी, जिसे उन्होंने जन्म देने के ठीक 60 दिन (लगभग 2 महीने) बाद वर्कआउट फिर से शुरू किया। अपने शरीर को आराम करने और ठीक होने के लिए पर्याप्त समय देने के बाद, सोनम ने पिलेट्स रूटीन में स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करते हुए एक वर्किंग मदर का जीवन जीना शुरू किया।
पिलेट्स शरीर के लिए क्या करता है?
यह अभ्यास मसल्स की ताकत और सहनशक्ति, साथ ही लचीलापन बढ़ाने और पोस्चर बैलेंस करने में मदद करता है। लचीलेपन, पेट और लम्बोपेल्विक स्टेबिलिटी (lumbopelvic stability) और मांसपेशियों की गतिविधि में सुधार करने में पिलेट्स बहुत जरुरी होता है। जानकारी के मुताबिक इसे कंट्रोलॉजी कहा जाता है, पिलेट्स पूरे शरीर को कार्यात्मक (फंक्शनल) और टिकाऊ (सस्टेनेबल) मूवमेंट पैटर्न देता है।
पिलेट्स करने के फायदे
– ताकत बढ़ाता है: क्योंकि व्यायाम में कोर शामिल होता है, यह सभी मांसपेशियों को मजबूत करता है। यह शरीर को स्थिर करता है, यह पेल्विक फ्लोर डिसफंक्शन को कम करने में भी मदद करता है।
– पोस्चर में सुधार करता है: पिलेट्स करने से आपको अपने पोस्चर में सुधार करने और इरिटेटिंग स्लाउच से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है। पिलेट्स पूरे शरीर के एलाइनमेंट पर ध्यान केंद्रित करता है और पोस्टुरल मांसपेशियों को मजबूत करता है।
– पीठ दर्द कम करता है: पिलेट्स आपकी पीठ को स्थिर करने में मदद करता है क्योंकि यह पेट की मांसपेशियों को मजबूत करता है, जिससे पीठ दर्द कम होता है।
– चोटों से बचाता है: पिलेट्स शरीर की मांसपेशियों को संतुलित करने में भी मदद करता है ताकि वे लचीली हों, इसलिए उन्हें चोट न लगे।
– ऊर्जा बढ़ाता है: पिलेट्स थकान को कम करने में मदद करता है और कार्डियोरेस्पिरेटरी कैपेसिटी में सुधार करता है।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author