February 7, 2023

Coronavirus: स्ट्रोक की वजह बन रहा कोरोना वायरस, महामारी की चपेट में आए बच्चों पर पड़ा बुरा असर

wp-header-logo-458.png

बच्चों पर कोरोना वायरस का हुआ बुरा असर
Coronavirus Has Affected Your Kid’s Health: कोरोना महामारी का असर वैसे तो हर उम्र के लोगों पर देखने को मिला है। लेकिन इस बीमारी का प्रभाव बच्चों पर ज्यादा दिखा है। हालही में हुए एक अध्ययन में दावा किया गया है कि कोविड-19 (Covid-19) की चपेट में आने के बाद बच्चों में स्ट्रोक का खतरा बढ़ गया। बता दें कि मार्च 2020 और जून 2021 के बीच इस्केमिक स्ट्रोक का सामना करने वाले अस्पताल के 16 मरीजों पर यह अध्ययन किया गया, जिसके तुरंत बाद अमेरिका में बच्चों में कोविड -19 के मामलों में उछाल आया। यह अध्ययन पीडियाट्रिक न्यूरोलॉजी जर्नल में प्रकाशित हुआ था। शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि बच्चों में स्ट्रोक का बढ़ता जोखिम हाइपर-इम्यून प्रतिक्रिया के कारण था, जो कोविड-19 के परिणामस्वरूप हुआ।
कोरोना ने बच्चों के स्वास्थ्य को इस तरह किया है प्रभावित:-
1. पेट, टांगों में दर्द और आंत में खून आना
टांगों में दर्द, पेट में दर्द और आंत में खून आना कुछ ऐसे लक्षण हैं जो बच्चों में मौजूद होते हैं, जब उनका शरीर कोविड संक्रमण के संपर्क में आता है। वे अत्यधिक इंफ्लेमेटरी मार्करों के कारण या तो बहुत ज्यादा थक्के या अपर्याप्त थक्के का विकास करते हैं, जिससे विभिन्न लक्षण पैदा होते हैं।
2. हृदय रोगों का उच्च जोखिम
डॉक्टरों का कहना है कि कोविड-19 से संक्रमित होने के दौरान कुछ बच्चों में हृदय को ब्लड पहुंचाने वाली आर्टरी का फैलाव हुआ। कुछ बच्चों में ये समस्या कुछ हफ्तों के बाद हल हो गई थी, लेकिन अन्य मामलों में कड़ी निगरानी और उपचार की आवश्यकता थी। कुछ बच्चों में मायोकार्डिटिस भी देखा गया, जिसमें दिल में सूजन आ जाती है। इनमें से अधिकांश को कुछ समय में सुलझा लिया गया।
3. मस्तिष्क से संबंधित लक्षण जैसे सिरदर्द, मतिभ्रम (hallucinations)
बड़ी संख्या में बच्चों में सिरदर्द और मतिभ्रम जैसे न्यूरोलॉजिकल लक्षण विकसित हुए। ये लक्षण आमतौर पर कुछ हफ्तों के भीतर कम हो जाते हैं।
4. बुखार
बच्चों में खांसी के साथ बुखार होना एक आम बात है। कोविड-19 संक्रमण में, बच्चे को खांसी और बुखार के लिए एंटीहिस्टामाइन या खांसी की दवाएं नहीं देंगे। कई बच्चों को खांसी और बुखार को नियंत्रित करने के लिए स्टेरॉयड की आवश्यकता होती है। इस समस्या के चलते बड़ी संख्या में बच्चों ने अस्थमा के मरीजों की तरह व्यवहार किया।
5. भूख में कमी
कई बच्चों को कब्ज जैसे अन्य गैस्ट्रोएंटरोलॉजिकल लक्षणों के साथ-साथ कोविड-19 के संपर्क में आने के दौरान भूख न लगने का भी सामना करना पड़ा।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author