June 29, 2022

साउथ वर्सेज बॉलीवुड के विवाद में कूदे कमल हासन, कहा- 'हम अलग भाषा बोल सकते हैं लेकिन…'

wp-header-logo-485.png

पिछले कुछ समय से एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री (Entertainment Industry) में साउथ फिल्मों (South Cinema) का बोलबाला है। जहां बॉलीवुड फिल्मों को लोग ज्यादा पसंद नहीं कर रहे हैं और वह आए दिन फ्लॉप हो रही है वहीं साउथ फिल्में लोगों को खूब पसंद आ रही है और उनकी मोटी कमाई हो रही है। इन दिनों बॉलीवुड (Bollywood) और साउथ फिल्मों को लेकर लगातार तुलना की जा रही है और इस मामले में कई सेल्ब्स के बयान आ चुके हैं। अब इस मामले में एक्टर कमल हासन (Kamal Haasan) भी कूद पड़े हैं और वह पैन इंडिया फिल्म्स और हिंदी वर्सेज साउथ को लेकर अपनी बात रखी है।
#WATCH | Actor-politician Kamal Haasan says, “…Padosan is a pan-India film…What do you call Mughal-e-Azam? It’s a pan-India film for me…Our country is unique. Unlike America, we’re very different. We speak different languages but are united. That’s beauty of this country..” pic.twitter.com/NEgEcwmQSt
उन्होंने कहा कि ‘पैन इंडिया’ फिल्म एक नया गढ़ा गया है। भारतीय सिनेमा ने हमेशा ‘मुगल ए आजम’ (Mughal-e-Azam) और ‘चेम्मीन’ जैसी फिल्में बनाई जिसे हर भाषा के दर्शकों ने पसंद किया।उन्होंने कहा कि ‘पैन इंडिया’ फिल्मों की सफलता उसकी गुणवत्ता पर निर्भर करती है। एक्टर ने कहा, “आप पत्थर छान कर सोना निकाल सकते हैं तो आप नए शब्द भी गढ़ सकते हैं। देश में हमेशा से पैन इंडिया फिल्में हमेशा से बनती रही हैं।”

उन्होंने आगे कहा कि “पड़ोसन एक पेन इंडिया फिल्म है और आप मुग़ल-ए-आजम को क्या कहोगे ? यह मेरे लिए पैन इंडिया फिल्म है। हमारा देश विशिष्ट है। यह अमेरिका की तरह नहीं है। हम विभिन्न भाषाएं बोलते हैं लेकिन हम एक हैं। यह इस देश की सुंदरता है।” अभिनेता ने अपनी आगामी फिल्म ‘विक्रम’ के प्रोमोशन के लिए आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान यह कहा। गौरतलब है कि कमल हासन 200 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं जिसमें तमिल, तेलुगु, मलयालम, कन्नड़, हिंदी और बंगाली भाषा की फिल्में शामिल हैं।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source