July 5, 2022

अप्रैल से कम आएगा बिजली बिल, जानिए कितनी मिलेगी छूट

wp-header-logo-501.png

जयपुर। प्रदेश में अशोक गहलोत सरकार आगामी चुनाव की तैयारी में जुट गई है। कांग्रेस सरकार ने इस बजट से कर्मचारी वर्ग को ध्यान में रखा है। हर घर में जाने वाली बिजली के बिल में भी सरकार ने इस बजट में बड़ी राहत दी है। राज्य़ सरकार ने 1.18 करोड़ उपभोक्ताओं को बिजली बिल में बड़ी राहत दी है। सरकार की बजट घोषणा के तहत घरेलू उपभोक्ताओं को बिल 175 से 750 रुपए तक छूट (सब्सिडी) मिलेगी। इसमें 300 यूनिट से ज्यादा बिजली उपभोग करने वाले उपभोक्ता भी शामिल हैं, जिन्हें स्लैबवार बिल में छूट दी जाएगी।
50 यूनिट तक बिजली​ बिल माफ
इससे बीपीएल और छोटे घरेलू श्रेणी के पचास यूनिट तक उपभोग करने वाले उपभोक्ताओं का तो विद्युत शुल्क शून्य हो जाएगा। हालांकि बिल शून्य नहीं होगा। इसमें फिक्स चार्ज, इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी और शहरी सेस जुड़कर आएगा। फिक्स चार्ज 100 से 400 रुपये प्रतिमाह है। नोटिफिकेशन जारी होने के साथ ही यह सब्सिडी प्रभावी हो जाएगी।
शहरी उपभोक्ता पर पड़ेगा ये असर
शहरी उपभोक्ता से 15 पैसे प्रति यूनिट देना पडेगा। साथ ही इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी भी देनी होगी। सभी उपभोक्ताओं से 40 पैसे प्रति यूनिट देना होगा और इसमें फिक्स चार्ज अलग देना होगा। कृषि कनेक्शन भी देगी सरकार उर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी की मानें तो घरेलू उपभोक्ताओं के अलावा साल 2012 से बाद से कृषि कनेक्शन का इंतजार कर रहे किसानों को भी इस बजट से बड़ी राहत मिली है। साल 2012 से लेकर अब तक की पेंडेसी में से दो लाख नए कृषि कनेक्शन अगले एक साल से दो साल में दे दिए जाएंगे।
जानिए बिजली बिल में कितनी मिलेगी छूट
उपभोक्ता श्रेणी                                  अभी विद्युत शुल्क सब्सिडी                अब विद्युत शुल्क
1. बीपीएल व आस्था कार्डधारक उपभोक्ता (50 यूनिट तक उपभोग)  175 रुपये       175 रुपये— शून्य
2. बीपीएल (100 यूनिट तक उपभोग)             500                       325— 175
3. स्मॉल घरेलू (50 यूनिट तक)                 192.50                       192.50— शून्य
4. स्मॉल घरेलू (100 यूनिट तक)                517.50                       342.50— 175
5. सामान्य घरेलू (50 यूनिट तक)                237.50                         150— 87.50
6. सामान्य घरेलू (150 यूनिट तक)               887.50                        450— 437.50
7. सामान्य घरेलू (300 यूनिट तक)                1990                           750— 1240
8. सामान्य घरेलू (500 यूनिट तक)                 3520                           750— 2770
(इसमें फिक्स चार्ज, इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी, शहरी सेस अलग है। इन पर किसी तरह की सब्सिडी नहीं है। यानि इनका चार्ज तो बिल में जुड़कर आएगा ही, भले ही विद्युत शुल्क शून्य ही क्यों न हो जाए। अरबन सेस : शहरी उपभोक्ता से 15 पैसे प्रति यूनिट देना पड़ेगा। साथ ही इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी: सभी उपभोक्ताओं से 40 पैसे प्रति यूनिट देना होगा और इसमें फिक्स चार्ज अलग देना होगा।) ​


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source