July 1, 2022

Knowledge News: दुनिया के सबसे रहस्यमयी कैलाश पर्वत के बारे में जानें 10 आश्चर्यजनक तथ्य, पढ़कर रह जाएंगे दंग

wp-header-logo-467.png

Knowledge News: इस दुनिया में कई ऐसी अद्भुत और आश्चर्यजनक चीजें हैं जिनके बारे में जानकर या सुनकर हम हैरान रह जाएंगे। कहा जाता है कि वैज्ञानिकों के पास सभी सवालों के जवाब हैं, लेकिन इस दुनिया में कुछ चीजें ऐसी भी हैं जिनका जवाब आज तक वैज्ञानिक भी नहीं खोज पाए हैं। आज के लेख में हम कैलाश पर्वत के बारे में कुछ रोचक तथ्य जानने जा रहे हैं जो रहस्यमय और पवित्र में से एक है। जिसके आगे वैज्ञानिकों ने भी हाथ खड़े कर दिए हैं। हम जो तथ्या आपको बताने जा रहा हैं उस पढ़कर आप जरूर हैरान रह जाएंगे।
बताया जाता है कि कैलाश पर्वत को भगवान शिव और देवी पार्वती का निवास माना जाता है। अधिकांश लोगों का मानना ​​है कि भगवान शंकर अभी भी कैलाश पर्वत पर अपने परिवार के साथ हैं। वहीं, मस्त्यपुराण, स्कंद पुराण जैसे भारतीय संस्कृति के कई पुराणों में कैलाश पर्वत का अलग-अलग वर्णन किया गया है।
कैलाश पर्वत के बारे में कुछ रोचक बातें…
* अधिकांश वैज्ञानिकों के अनुसार, कैलाश पर्वत और उसके परिवेश का वातावरण बहुत अलग है। क्योंकि जब वैज्ञानिक ज़ार निकोलाई रोमानोव और उनकी टीम कुछ तिब्बती पुजारियों से मिली तो उन्होंने भी कहा कि कैलाश पर्वत के चारों तरफ एक अलग तरह की अलौकिक शक्ति है।

* अधिकांश वैज्ञानिक कैलाश पर्वत को पृथ्वी का उपरिकेंद्र मानते हैं। हम सभी जानते हैं कि पृथ्वी के एक तरफ उत्तरी ध्रुव और दूसरी तरफ दक्षिणी ध्रुव है। अब हैरान करने वाली बात ये है कि इन दोनों ध्रुवों के बीच में हिमालय है और हिमालय के बीच में कैलाश पर्वत है। इसलिए अधिकांश वैज्ञानिक कैलाश पर्वत को पृथ्वी का उपरिकेंद्र मानते हैं।

* सूर्योदय के समय कैलाश पर्वत के कुछ हिस्सों में एक रहस्यमय स्वस्तिक दिखाई देता है। इसे भी आश्चर्य माना जा सकता है। स्वस्तिक चिन्ह का हिंदू संस्कृति में बहुत ही विशेष स्थान है।

* अब इस जानकारी को पढ़ने के बाद आप हैरान रह जाएंगे कि माउंट एवरेस्ट कैलाश पर्वत से 2,000 मीटर ऊंचा है। क्योंकि एवरेस्ट की ऊंचाई 8850 मीटर है, कैलाश पर्वत की ऊंचाई 6640 मीटर है। इसका मतलब है कि माउंट एवरेस्ट कैलाश पर्वत से भी ऊंचा है। माउंट एवरेस्ट पर आज तक हजारों लोग चढ़ चुके हैं, लेकिन कैलाश पर्वत पर आज तक कोई नहीं चढ़ पाया है।

* अन्य पर्वतों के विपरीत कैलाश पर्वत को बहुत ही पवित्र और रहस्यमयी माना जाता है। अपनी किताब में एक पर्वतारोही कहता है कि जब उसने पहाड़ पर चढ़ने की कोशिश की तो उसके बाल और नाखून बहुत तेजी से बढ़ने लगे। एक अन्य पर्वतारोही ने कहा कि जब मैं कैलाश पर्वत चढ़ने का प्रयास कर रहा था तो मेरा दिल जोरों से धड़क रहा था। लेकिन जब तक मैं उस पहाड़ से थोड़ा दूर होता मेरा दिमाग हल्का हो जाता और दिल की धड़कने भी सामान्य हो जातीं। अधिकांश लोगों ने अपने अनुभवों में कहा है कि जब उन्होने कैलाश पर्वत पर चढ़ने की कोशिश करते हैं, तो उन्हें कैलाश पर्वत की चोटी दिखाई देती है। लेकिन अचानक वे अपनी दिशा खो देते हैं या उसी स्थान पर भटकते रहते हैं। कभी-कभी अचानक बर्फानी तूफान आ जाता है, जिस कारण स्थिति अचानक बिगड़ जाती है।

* कैलाश पर्वत शिवलिंग के आकार का है और कैलाश मानसरोवर के पास एक ध्वनि नियमित रूप से सुनाई देती है। यदि आप उस आवाज को बहुत ध्यान से सुनते हैं, तो वह ढोल की आवाज जैसी लगती है। वैज्ञानिकों ने इसका पता लगाने की काफी कोशिश की है, लेकिन इसका जवाब नहीं मिल पाया है। कुछ शोधकर्ताओं के अनुसार यह आवाज इस वजह से है कि पहाड़ों से आने वाली हवाएं चट्टानों से टकराती हैं और पहाड़ों पर बर्फ जम जाती है। हालांकि वह इस बारे में कोई पुख्ता जानकारी नहीं दे सका है।

* कैलाश पर्वत की तलहटी में दो सरोवर हैं। उनमें से एक है पवित्र मानसरोवर और दूसरी है अशुभ दैत्य झील। मानसरोवर दुनिया भर के शुद्ध प्राकृतिक पानी का स्रोत है, वहीं दूसरी तरफ खारे और पीने योग्य पानी की झील है। आकाश से देखने पर मानसरोवर का आकार सूर्य जैसा दिखता है। जबकि राक्षस झील को आकाश से देखने पर चंद्रमा के आकार जैसी दिखती है। ऐसा माना जाता है कि रावण ने यहां महादेव की पूजा की थी और आशीर्वाद प्राप्त किया था। हालांकि ये दोनों जलाशय एक-दूसरे के बहुत करीब हैं। लेकिन इन दोनों झीलों का पानी और जैव विविधता बहुत अलग है। राक्षस क्षेत्र में कोई वनस्पति और जीव नहीं पाए जाते हैं। साथ ही इसमें पानी हमेशा अशांत रहता है। दूसरी ओर चाहे कितनी भी हवा चले, मानसरोवर में पानी हमेशा साफ और शांत रहता है।

* कैलाश पर्वत को हिंदू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म और तिब्बती बौद्ध धर्म का आध्यात्मिक केंद्र माना जाता है। कैलाश पर्वत पर चढ़ना वर्जित है। क्योंकि भारत और दुनिया भर में लोग सोचते हैं कि यह एक पवित्र स्थान है। इसलिए इस पर किसी को चढ़ने नहीं दिया जाता है।

* कैलाश पर्वत को चार महान नदियों का उद्गम स्थल माना जाता है। इनमें सिंधु, ब्रह्मपुत्र, सतलुज और घाघरा की पवित्र नदियां शामिल हैं। इन सभी नदियों को हिंदू संस्कृति में बहुत पवित्र माना जाता है।

* कैलाश पर्वत शिवलिंग के आकार का है। कैलाश पर्वत को ओम पर्वत के नाम से भी जाना जाता है। अधिकांश लोगों का कहना है कि कैलाश पर्वत के आसपास के क्षेत्र पर ध्यान देने से ओंकारा की आवाज सुनी जा सकती है।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source