December 3, 2022

प्रदेश में बाढ़ से 7 जिले डूबे: 40 हजार लोग फंसे, आर्मी और NDRF की 17 टीमें तैनात

wp-header-logo-519.png

जयपुर। राजस्थान में बीते दो दिन से भारी बारिश का दौर जारी है। आधा दर्जन से ज्यादा जिलों में बाढ़ से हालत काफी खराब है। धौलपुर और झालावाड़ में पानी में फंसे हजारों लोगों का रेस्क्यू करने के लिए सेना को तैयार करने के लिए कहा गया है। बारां में 20 लोगों को एयरलिफ्ट करने के लिए सेना से हेलिकॉप्टर मांगा गया है। वहीं, पांच से ज्यादा जिलों में एनडीआरएफ नेशनल डिजास्टर रिलीफ फोर्स और एसडीआरएफ स्टेट डिजास्टर रिलीफ फोर्स की 17 टीमों को भेजा गया है।
40 हजार से ज्यादा लोग फंसे
उफान मारती नदियों और ओवरफ्लो डैम से पानी छोड़े जाने के कारण स्थिति तेजी से बिगड़ी है। झालावाड़, बारां, बूंदी, कोटा, सवाई-माधोपुर और करौली में 40 हजार से ज्यादा लोग बाढ़ की स्थिति का सामना कर रहे हैं। प्रशासन की सेना से मदद मांगने के बाद आर्मी ने झालावाड़, धौलपुर में एक.एक कॉलम उतारे हैं।
ओवरफ्लो हुआ माही डेम, सभी 16 गेट खोले
मानसून की तूफानी बारिश के दौर में आदिवासी अंचल के बांसवाड़ा जिले में स्थित सबसे बड़े माही बांध के मंगलवार को सभी 16 गेट खोल दिये गये। इनमें किनारे के दो गेट आधा-आधा मीटर खुले हैं, जबकि बीच वाले 14 गेटों की ऊंचाई लगातार बढ़ाई जा रही है। बांध के सभी गेट खोलने के बाद भारी मात्रा में निकले पानी की आवाज ने लोगों को डरा दिया। इस मानसून सीजन में मंगलवार को पहली बार सभी गेट एक साथ खोले गये हैं।
चंबल नदी खतरे के निशाने से 6 मीटर ऊपर
कोटा बैराज से अत्यधिक मात्रा में पानी छोड़े जाने के कारण चंबल का जलस्तर काफी बढ़ गया है और यह खतरे के निशान को पार कर गई है। इस जलस्तर के मंगलवार को और बढ़ने की संभावना है। इसके चलते धौलपुर जिले के 80 से अधिक गांवों पर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। चंबल नदी में बढ़ते जल स्तर को देखते हुए जिला कलक्टर अनिल कुमार अग्रवाल ने अधिकारियों को आवश्यक राहत और बचाव संबधी तैयारियों के साथ मुस्तैद रहने के निर्देश दिए हैं। जिला कलेक्टर ने बतया कि चंबल नदी का जल स्तर मंगलवार को सुबह आठ बजे 136.40 मीटर पहुंच चुका है। यह खतरे के निशान से 6.40 मीटर ऊपर है।
झालावाड़ में 12 और प्रतापगढ़ में 10 इंच बारिश
मानसून की भारी बारिश रोजना नये रिकॉर्ड कायम कर रही है। मंगलवार को सुबह साढ़े आठ बजे तक बीते 24 घंटों के दौरान राजस्थान के कई इलाकों में भारी से भारी दर्ज की गई है। सबसे ज्यादा बारिश मध्य प्रदेश की सीमा से सटे झालावाड़ जिले के डग में दर्ज की गई है। वहां 24 घंटों में रिकॉर्ड करीब 12 इंच बारिश हुई है। यहां 289 एमएम बारिश दर्ज की गई है। मौसम विभाग के अनुसार अभी बारिश का दौर जारी रहने की संभावना है।
8 जिलों के लिए अलर्ट जारी
मौसम विभाग ने मंगलवार को भी कई इलाकों में भारी बारिश के आसार जताए हैं। मौसम विभाग ने आठ जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी करते हुए भारी बारिश की चेतावनी दी है। आज डूंगरपुर बांसवाड़ा, उदयपुर, सिरोही, पाली, जालोर, बाड़मेर और जैसलमेर में भारी बारिश हो सकती है। इसके अलावा झालावाड़, प्रतापगढ़, राजसमंद, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, नागौर, जोधपुर और बीकानेर में भी बारिश के आसार हैं।
 


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source

About Post Author