January 29, 2023

Birthday Special: 25 साल के हुए पदकवीर नीरज चोपड़ा, पढ़ें खिलाड़ी के Golden Boy बनने तक की 6 बड़ी उपलब्धियां

wp-header-logo-357.png

टोक्यो ओलंपिक 2020 (Tokyo Olympics 2020) में देश के लिए एकमात्र गोल्ड मेडल जीतने वाले जेवलिन थ्रोअर (Javelin thrower) नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) 24 दिसंबर को अपना 25वां जन्मदिन मना (happy birthday neeraj chopra) रहे हैं। 2022 का साल नीरज चोपड़ा के लिए बेहद खास रहा है। इस साल उन्होंने कई ऐतिहासिक जीत (historic victories) हासिल की हैं। यही वो साल है जब नीरज ने बतौर एथलीट अपनी विरासत को मजबूत किया और आजादी के बाद के युग में ट्रैक और फील्ड एथलेटिक्स में देश का पहला ओलंपिक स्वर्ण पदक (Olympic gold medal) जीतकर इतिहास रचा है।
दरअसल टोक्यो ओलंपिक 2020 (Tokyo Olympics 2020) में पुरुषों की भाला फेंक स्पर्धा में भाग लेते हुए, गोल्डन बॉय (golden boy) नीरज ने 87.58 मीटर की दूरी दर्ज की, जो उनके और भारत के लिए एथलेटिक्स में एक ऐतिहासिक ओलंपिक स्वर्ण पदक का जश्न (Olympic gold medal celebration) मनाने के लिए पर्याप्त था। गोल्ड मेडलिस्ट नीरज चोपड़ा ने अपने करियर में कई ऊंचाइयां छुई हैं। सिर्फ टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड (winning gold in the Tokyo Olympics) जीतना ही नहीं बल्कि कई और उपलब्धियां भी उन्होंने अपने नाम की हैं। आज उनके जन्मदिन पर हम उन उपलब्धियों (achievements) के बारे में जानेंगे…
6 बड़ी उपलब्धियों
1. नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने 2016 में दक्षिण एशियाई खेलों में भी गोल्ड मेडल जीता था। उस दौरान उन्होंने 84.23 मीटर भाला फेंककर पुराने रिकॉर्ड की बराबरी की। यही वो मौका था जब गोल्डन बॉय ने अपना पहला अंतर्राष्ट्रीय मेडल अपने नाम किया।
2. महज 18 साल की उम्र में, नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने IAAF वर्ल्ड U20 चैंपियनशिप में रिकॉर्ड तोड़ प्रदर्शन किया। नीरज ने ट्रैक एंड फील्ड में पुरुषों के U20 (World U20 Championships) भाला फेंक में विश्व रिकॉर्ड तोड़ते हुए 86.48 मीटर का थ्रो दर्ज किया। इस रिकॉर्ड की खास बात ये है कि ये रिकॉर्ड आज भी नीरज के नाम पर दर्ज है इसे अभी तक कोई नहीं तोड़ पाया है।
3. वहीं नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने भारत के सबसे प्रतिभाशाली और होनहार ट्रैक और फील्ड एथलीटों में से एक के रूप में रैंक बढ़ाना जारी रखा। वहीं उन्होंने 2018 में राष्ट्रमंडल खेलों (Commonwealth Games in 2018) में अपना डेब्यू किया और गोल्ड मेडल अपने नाम किया। उस दौरान उन्होंने 86.47 मीटर का थ्रो किया, जिससे उन्हें बैग हासिल करने में मदद मिली। इसके साथ ही वह राष्ट्रमंडल खेलों में भाला फेंक स्पर्धा में स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय भी बने। नीरज ने एक साल पहले, यानी की 2017 एशियाई एथलेटिक्स चैंपियनशिप (2017 Asian Athletics Championships) में भी स्वर्ण जीता था।
4. नीरज चोपड़ा खुद के ही रिकॉर्ड तोड़ने में भी कामयाब रहे। 2018 में एशियाई खेलों (Asian Games) में 88.06 मीटर के थ्रो कर उन्होंने अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया। उस दौरान भी उन्होंने गोल्ड मेडल जीता था।
5. और सबसे बड़ी उपलब्धि (biggest achievement) जो नीरज ने अपने नाम की वो थी टोक्यो ओलंपिक 2020 (Tokyo Olympics 2020) में गोल्ड मेडल जीतना। ओलंपिक में उन्होंने 87.58 मीटर भाला फेंकर गोल्ड मेडल अपने नाम किया। ये ट्रैक एंड फील्ड में भारत के इतिहास में पहला गोल्ड मेडल था। नीरज से पहले बीजिंग ओलंपिक 2008 (Beijing Olympics 2008) में अभिनव बिंद्रा ने शूटिंग में देश के लिए गोल्ड जीता था।
6. इसके अलावा इस साल भारत के भाला फेंक स्टार खिलाड़ी नीरज चोपड़ा India’s (javelin thrower Neeraj Chopra) ने लुसाने डायमंड लीग में कमाल का प्रदर्शन किया है। उन्होंने पहले ही प्रयास में 89.08 मीटर दूर भाला फेंककर खिताब पर कब्जा जमाया। 25 साल के नीरज को वर्ल्ड चैम्पिनशिप के दौरान चोट लग गई थी, जिसके चलते वह बर्मिंघम में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 (Commonwealth Games 2022) में भाग नहीं ले पाए थे।
नीरज ने एक इंटरव्यू में बताया
बता दें कि ये उपलब्धियां अपने नाम करने के लिए नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) ने जी तोड़ मेहनत की। किसे पता था कि जो बच्चा अपना अपना वजन कम करने के लिए मैदान पर जाए करता है आज वो देश का गोल्डन बॉय कहलाएगा। नीरज (Neeraj) ने एक इंटरव्यू में बताया था कि वो जब छोटे थे तो उनका वजन काफी ज्यादा था, जिस कारण लोग उन्हें परेशान करते थे चिढ़ाते थे, जिस कारण वो मैदान पर जाने लगे ताकी उनका वजन कम हो सके।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author