May 21, 2022

Health Tips: डायबिटीज में बेहद फायदेमंद होते हैं कच्चे केले, जाने इसके अन्य गुण

wp-header-logo-506.png

Health Tips: आपने पके केले (Ripe Banana) तो बहुत खाएं होंगे पर क्या आपने कभी कच्चे केले (Raw Banana) खाएं है। हमारे देश में कच्चे केले से कई चिप्स, सब्जी और वड़ा जैसी कई चीजें बनती है। पर इस बात को कम ही लोग जानते हैं कि कच्चे केले एनर्जी का एक पावर-पैक होता है, जिसमें आपको कई तरह के पोषक तत्व जैसे विटामिन, मिनरल्स और फाइबर मिल जाएंगे। जहां पके हुए केले के अपने अलग फायदे होते हैं वहीं कच्चा केला कई सारे गुणों से भरपूर होता है। आज की अपनी इस स्टोरी में हम आपको कच्चे केले खाने के कई फायदों (Benefits of Eating Raw Banana) के बारे में बताएंगे…
किडनी के लिए होता है फायदेमंद (Good For Kidney)
कच्चे केले में पोटैशियम होता है जो किडनी के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसलिए, यह ब्लड शूगर लेवल को बनाए रखने में मदद करता है, जो आगे चलकर अच्छे हार्ट की हेल्थ को बढ़ावा देने में मदद करता है।
पाचन तंत्र को रखता है दुरुस्त (Makes Digestive System Healthy)
कच्चे केले आंत बैक्टीरिया को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं। इसमें प्रतिरोधी स्टार्च होता है, एक प्रकार का कार्बोहाइड्रेट जो छोटी आंत में पाचन का “प्रतिरोध” करता है और पाचन तंत्र में आंत के अनुकूल माइक्रोब्स के विकास के लिए भोजन के रूप में कार्य करता है। यह शॉर्ट-चेन फैटी एसिड () के प्रोडक्शन को भी बढ़ाने में मदद करता है। एससीएफए पाचन तंत्र की हेल्थ के लिए काफी जरूरी होता है।
कोलेस्ट्रोल लेवल को कम करते हैं (Lowers Cholesterol Level)
कच्चे केले में काफी ज्यादा मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो कि कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। क्योंकि कच्चा केला फाइबर से भरपूर होता है, यह आपके ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रण में रखने में मदद करता है। इसके अलावा, रोज कच्चे केलेख को खाने से आपका कोलस्ट्रोल लेवल भी कंट्रोल में रहता है। नियमित रूप से इसका सेवन करने पर कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है।
कंट्रोल करता है आपका वजन (Controls Weight)
कच्चे केलों में अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है। कच्चे केले का सेवन करने से आपको भरा-भरा सा लगता है और ये एहसास आपको ज्यादा खाने से बचाता है। इस कारण आपका वजन कंट्रोल होता है।
डायबिटीज को करता है कंट्रोल (Controls Diabetes)
हरे और पके केले में मेन अंतर होता है कि हरे केले में कार्बोहाइड्रेट मुख्य रूप से स्टार्च के रूप में होता है। यह पकने की प्रक्रिया के दौरान धीरे-धीरे शुगर में बदलता है, इसलिए ज्यादातर लोग पके केले खाना पसंद करते हैं क्योंकि वे मीठे होते हैं। इसलिए हरे केले डायबिटीज के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। हरे केले में कार्ब्स मुख्य रूप से शुगर के बजाय स्टार्च से आते हैं, इसलिए पके केले की तुलना में उनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है। और आप जानते हैं कि कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स आपके ब्लड शुगर को उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले भोजन की तुलना में अधिक धीरे-धीरे बढ़ाएगा।केले में कार्बोहाइड्रेट मुख्य रूप से स्टार्च के रूप में होता है। यह पकने की प्रक्रिया के दौरान धीरे-धीरे शुगर में बदलता है, इसलिए ज्यादातर लोग पके केले खाना पसंद करते हैं क्योंकि वे मीठे होते हैं। इसलिए हरे केले डायबिटीज के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। हरे केले में कार्ब्स मुख्य रूप से शुगर के बजाय स्टार्च से आते हैं, इसलिए पके केले की तुलना में उनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है। और आप जानते हैं कि कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स आपके ब्लड शुगर को हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले भोजन की तुलना में अधिक धीरे-धीरे बढ़ाएगा।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source