November 29, 2022

FIFA World Cup में एक और विवाद, ईरान ने इंग्लैंड के खिलाफ मैच से पहले नहीं गाया राष्ट्रगान

wp-header-logo-389.png

फीफा वर्ल्ड कप (FIFA World Cup) इस समय कतर में चल रहा है। सोमवार को मैदान पर ईरान और इंग्लैंड ( Iran and England) की टीमें आमने-सामने थीं। इस मुकाबले में इंग्लैंड ने 6-2 के अंतर से बड़ी जीत दर्ज की। ईरान केवल हार की वजह से नहीं बल्कि अन्य कारण के चलते विवादों में आ गई। दरअसल, ईरानी फुटबॉल (Iranian football) टीम ने मैच से पहले राष्ट्रगान गाने से साफ इनकार कर दिया। बताया जा रहा है कि खिलाड़ियों ने हिजाब के खिलाफ देश में चल रहे आंदोलन को समर्थन देने और सरकार की तरफ से प्रोटेस्टर (Protesters) पर हो रहे अत्याचार के विरोध में राष्ट्रगान नहीं गाया है।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ईरान के कप्तान अलिर्ज़ा जहानबख्श (Alireza Jahanbakhsh) ने इस मैच से पहले कहा कि टीम के सभी खिलाड़ी मिलकर तय करेंगे कि वह सरकार के खिलाफ प्रदर्शन के समर्थन में राष्ट्रगान गाने से मना करेंगे या नहीं। इस मैच से पहले जब ईरान का राष्ट्रगान बजा तो खलीफा इंटरनेशनल स्टेडियम (Khalifa International Stadium) में ईरान के 11 खिलाड़ी गंभीर मुद्रा में खड़े थे, लेकिन उन्होंने राष्ट्रगान नहीं गाया।
#BREAKING: Iran national team players choose not to sing national anthem at World Cup match; some of the Iranian crowed booing their own national anthem pic.twitter.com/6tYqjloYYi
बता दें कि ईरानी खिलाड़ी पहले भी प्रदर्शनों का समर्थन कर चुके हैं। एक फ्रेंडली मैच के दौरान खिलाड़ियों ने देश के सिंबल को काली जैकेट (black jackets) के साथ कवर करके विरोध जताया था, जबकि कुछ ने गोल दागने पर जश्न नहीं (not celebrate) मनाया था।

इस वजह से जताया गया विरोध
बता दें कि सितंबर 2022 में ईरानी पुलिस ने 22 वर्षीय महसा अमिनी (Mahsa Amini) को हिजाब न पहनने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया था। कुछ दिन बाद पुलिस कस्टडी में उनकी मौत हो गई। इस घटना के बाद से पूरे देश में हिजाब के विरोध में आंदोलन शुरू हो गया। आज यह आंदोलन हिंसक रूप ले चुका है। ईरानी सरकार आंदोलन दबाने के लिए तमाम सख्ती कर रही है। प्रदर्शनकारियों (Protesters) पर अत्याचार जारी है, लेकिन फिर भी विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस घटना के बाद ईरान के कुछ खिलाड़ियों ने सरकार के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन के समर्थन में राष्ट्रगान नहीं गाने (national anthem) का निर्णय ले रखा है। कई खिलाड़ी ऐसे हैं, जो जीत के बाद भी जश्न नहीं मनाते हैं।
मालूम हो कि इस टूर्नामेंट के शुरू हुए महज दो दिन हुए हैं और तीसरा बड़ा विवाद सामने आया है। इससे पहले डेनमार्क के एक पत्रकार को कुछ लोगों ने वीडियो बनाने से रोक दिया था। इस पर कतर ने बाद में माफी भी मांगी थी। इसके बाद एक महिला पत्रकार लूट का शिकार हुई थीं।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author