December 3, 2022

International Stuttering Awareness Day की थीम और इतिहास, जानें क्यों मनाया जाता है ये दिन

wp-header-logo-321.png

International Stuttering Awareness Day 2022: अंतर्राष्ट्रीय हकलाना जागरूकता दिवस (International Stuttering Awareness Day) 22 अक्टूबर को मनाया जाता है। यह दिन भाषण विकार के बारे में जागरूकता पैदा करता है जिसे हकलाना (Stuttering) कहा जाता है। हकलाना बोलते समय अटकने को कहते हैं, इसके लक्षणों में शब्दों न चाहते हुए भी रिपीट हो जाते हैं और बोलने में तकलीफ या कुछ ध्वनि या शब्दों को सही तरह से ना बोलना आदि शामिल हैं। इस बीमारी से प्रभावित लोगों को अक्सर उपहास और अपमान का सामना करना पड़ता है। इस तरह के लोगों को सामाजिक बहिष्कार (social boycott) का सामना करना पड़ता है, लेकिन हर बीमारी का कोई न कोई इलाज होता ही है। इस स्थिति का स्पीच थेरेपी के माध्यम से उपचार किया जा सकता है। आज हम इस वर्ष के आयोजन की थीम, इसके इतिहास और इस मुद्दे के बारे में अधिक जागरूकता कैसे पैदा कर सकते हैं, इस बारे में जानेंगे।
International Stuttering Awareness Day 2022: थीम (Theme)
2022 के अंतर्राष्ट्रीय हकलाना जागरूकता दिवस की थीम “देखा जा रहा है, सुना जा रहा है: मुख्यधारा में हकलाना का प्रतिनिधित्व और सामान्यीकरण” (Being Seen, Heard: Representing and Normalizing Stuttering in the Mainstream) है। यह थीम इस तथ्य पर प्रकाश डालती है कि हकलाना एक ऐसी चीज है जो समाज में कई लोगों को प्रभावित करती है और इससे प्रभावित लोगों में कुछ भी असामान्य नहीं है। आईएसएडी जो हकलाने से जुड़े सामाजिक कलंक को दूर करने का इरादा रखता है, सालाना 1 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक इस मुद्दे पर एक ऑनलाइन सम्मेलन भी आयोजित करता है।

International Stuttering Awareness Day: इतिहास (History)
दुनिया भर में सात करोड़ से अधिक लोग हकलाने की समस्या से प्रभावित हैं। इंटरनेशनल स्टटरिंग एसोसिएशन (आईएसए) ने अंतर्राष्ट्रीय हकलाना जागरूकता दिवस के माध्यम से इस मुद्दे को उजागर करने का निर्णय लिया। 1995 में स्वीडन के लिंकोपिंग में आयोजित एक सम्मेलन के दौरान, आईएसए ने एक इच्छा सूची तैयार की जिसमें एक अंतर्राष्ट्रीय हकलाना जागरूकता दिवस की आवश्यकता के बारे में बात की गई थी।

फिर, 1997 में इंटरनेशनल फ्लुएंसी एसोसिएशन (IFA) सम्मेलन में, नेशनल स्टटरिंग प्रोजेक्ट के सह-संस्थापक माइकल सुगरमैन ने हकलाने की जागरूकता के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय दिवस का आह्वान किया। सुगरमैन की इच्छा 1998 में पूरी हुई जब यूरोपीय लीग ऑफ स्टटरिंग एसोसिएशन, इंटरनेशनल फ्लुएंसी एसोसिएशन और आईएसए ने 22 अक्टूबर को स्टटरिंग अवेयरनेस डे के रूप में घोषित कर दिया था।
International Stuttering Awareness Day: जागरूकता पैदा करना (Creating Awareness)
हर साल 22 अक्टूबर को संगठनों और संघों ने हकलाने की घटनाओं पर ध्यान केंद्रित किया और हकलाने वाले लोगों के सामने आने वाली कठिनाइयों को उजागर करने के लिए अभियान चलाने और समाधान पेश करने पर ध्यान केंद्रित किया। लोग हकलाने वालों को कम बुद्धिमान और भयभीत समझते हैं और उनका मजाक उड़ाते हैं। हकलाने वालों के प्रति हानिकारक और भेदभावपूर्ण व्यवहार विकार के बारे में अज्ञानता से उपजा है। जन जागरूकता अभियानों के माध्यम से जनता को शिक्षित करना पूर्वाग्रह को दूर करने की कुंजी है।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author