December 3, 2022

दीवाली पर कोरोनाकाल जैसी गाइडलाइन: सिर्फ 2 घंटे ही कर सकेंगे आतिशबाजी, इन जिलों में बैन

wp-header-logo-319.png

जयपुर। प्रदेश दीपावली पर होने वाली आतिशबाजी को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी गई है। कोरोना के बाद सब कुछ अनलॉक हो गया, लेकिन पटाखों पर पाबंदियां कोरोनाकाल जैसी ही रहेगी। इस बार भी आतिशबाजी के लिए दो घंटे का ही समय मिलेगा। वहीं, अलवर और भरतपुर में पटाखों पर पूरी तरह से बैन रहेगा। गृह विभाग ने पटाखों को लेकर पिछले साल की गाइडलाइन को ही जारी रखने का फैसला किया है।
रात 8 से 10 बजे के बीच होगी आतिशबाजी
जारी जाइडलाइन के अनुसार, इस बार भी इको फ्रेंडली ग्रीन पटाखे और ग्रीन आतिशबाजी की ही अनुमति होगी। ज्यादा शोर करनेवाले और प्रदूषण फैलाने वाले पटाखे नहीं चला सकेंगे। दिवाली पर रात 8 बजे से 10 बजे तक ही ग्रीन आतिशबाजी कर सकेंगे। रात 8 बजे से पहले और रात 10 बजे बाद किसी तरह की आतिशबाजी और पटाखे चलाने पर रोक रहेगी।
31 जिलों में लागू होगी गाइडलाइस
प्रदेश के 31 जिलों में इस बार केवल ग्रीन पटाखे, ग्रीन आतिशबाजी बेचने के ही लाइसेंस दिए गए हैं। गृह विभाग ने सभी कलेक्टर और जयपुर-जोधपुर पुलिस कमिश्नर को पटाखों की गाइडलाइन के निर्देश भेज दिए हैं। सितंबर में ही कलेक्टर ने पटाखों की गाइडलाइन को लेकर गृह विभाग से गाइडेंस मांगा था। गृह विभाग ने पुरानी गाइडलाइन को ही स्थायी रूप से लागू रखने का फैसला किया है। इसके मुताबिक दीपावली पर 31 जिलों में केवल दो घंटे ग्रीन आतिशबाजी कर सकेंगे।
क्रिसमस और न्यू ईयर पर भी रहेगी पाबंदी
गृह विभाग की गाइडलाइन में ग्रीन आतिशबाजी के लिए टाइम स्लॉट तय किया है। दिवाली, गुरुपर्व और अन्य त्योहारों पर रात 8 से 10 बजे तक ही ग्रीन पटाखे, ग्रीन आतिशबाजी की अनुमति होगी। छठ पर्व पर सुबह 6 से 8 बजे तक आतिशबाजी की अनुमति होगी। ​क्रिसमस और न्यू ईयर पर रात 11:55 से 12:30 बजे तक ग्रीन आतिशबाजी की जा सकेगी।
ग्रीन पटाखों और ग्रीन आतिशबाजी की अनुमति
गृह राज्य मंत्री राजेंद्र यादव ने कहा-पटाखों पर सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के हिसाब से ही प्रदेश में गाइडलाइन लागू की है। पिछले साल वाल गाइडलाइन ही इस बार लागू रहेगी। प्रदेश में इस बार केवल ग्रीन पटाखों को ही बेचने की अनुमति दी गई है, ग्रीन कैटेगरी से बाहर कोई पटाखा या आतिशबाजी बेचने के लाइसेंस ही जारी नहीं किए हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की पालना के लिए हम बाध्य हैं। पर्व, त्योहारों पर लोग खुशी से सेलिब्रेट कर सकें इसलिए ग्रीन पटाखों और ग्रीन आतिशबाजी की अनुमति दी गई है।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source

About Post Author