December 3, 2022

कर्ज से परेशान BJP नेता प्रभु प्रजापत ने की आत्महत्या, 1500 लोगों की चलाता था वीसी

wp-header-logo-320.png

जयपुर। प्रदेश के उदयपुर जिले में बीजेपी ओबीसी मोर्चा जिला अध्यक्ष प्रभु प्रजापत ने अपने घर में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। यह मामला उदयपुर के भूपालपुरा का है। बताया जा रहा है कि भाजपा नेता 1500 लोगों की वीसी चलाता था। ऐसे में इन लोगों का करोड़ों रुपए जमा थे। कोरोना के बाद उस पर लाखों रुपए का कर्जा हो गया था। बताया जा रहा है कि वे बीते दिनों से डिप्रेशन में चल रहे थे। गुरुवार को फंदा लगा लिया।
वीसी चलाने बढ़ गया कर्जा
इस घटना के बारे में बात करते हुए भूपालपुरा थाना अधिकारी हनुवंत सिंह सोढ़ा ने बताया कि 58 वर्षीय बीजेपी नेता प्रभु प्रजापत 18 साल से भूपालपुरा और अशोक नगर के लोगों के साथ मिलकर वीसी चला रहा था। इस दौरान उस पर कर्जा बढ़ गया था। वीसी के जरिए उसे 50 लाख रुपए लोगों को देने थे। सामने आया कि प्रभु ने दीवाली के बाद लोगों को रुपए देने की बात कही थी। इसके बाद से वह डिप्रेशन में आ गया था।
कमरे में फंदे पर लटका मिला शव
आज सुबह यानी गुरुवार को 6 बजे जब बेटी चाय देने के लिए कमरे में गई तो पिता फंदे पर लटके मिले। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को एमबी हॉस्पिटल की मॉर्च्युरी में रखवाया गया, यहां 11 बजे बाद पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंप दिया गया है।
ऑडी कार और फार्म हाउस भी बेच दिया था
बीजेपी नेता प्रभु प्रजापत की उदयपुर में ही पशु आहार की दुकान है। वीसी के जरिए कई लाेागों के रुपए उसके पास जमा थे। लेकिन, वह उन रुपए को दूसरी जगह इन्वेस्ट कर देता था। पुलिस ने बताया कि इसके बाद जब उस पर कर्जा बढ़ने लगा तो तीन साल पहले अपनी ऑडी कार बेच दी थी। इतना ही नहीं फार्म हाउस बेचकर भी उसने कुछ कर्जा उतारा था। कई लोगों के रुपए बाकी थे। इसके लिए कुछ दोस्तों से भी रुपए उधार लिए थे।
2 साल पहले 20 लाख रुपए लिए थे उधार
बीजेपी में 20 साल से एक्टिव प्रभु को 2 साल पहले ही उसने ओबीसी मोर्चा के जिला अध्यक्ष का पदभार मिला था। प्रभु के घर प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया भी आए थे। गुलाबचंद कटारिया के साथ उनके हर कार्यक्रमों में शामिल होता था। प्रारंभिक जांच में सामने आया कि महंगे शौक और लग्जरी लाइफ स्टाइल की वजह से रुपए खर्च हो जाते थे। 2 साल पहले उसने कर्जा उतारने के लिए 20 लाख रुपए अलग-अलग दोस्तों और परिचितों से उधार भी लिए थे। इधर, पिछले कुछ दिनों से वीसी में रुपए जमा करवाने वाले लोग रुपए लौटाने की बात कह रहे थे।
प्रभु के है दो बेटियां
प्रभु की दो बेटियां है। एक एलएलबी औरर दूसरी एक ग्रेजुएशन कर रही है। इधर, परिजनों का कहना है कि प्रभु ने सुसाइड नहीं किया है और उन्हें हार्ट अटैक आया था। वे प्रभु पर किसी भी तरह के कर्जे से मना कर रहे हैं। जबकि पुलिस का कहना है कि कमरे में प्रभु फंदे पर लटके हुए मिले थे। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source

About Post Author