August 13, 2022

राजस्थान में फिर बढ़ रहा है कोरोना, जयपुर में 4 बच्चे पॉजिटिव

wp-header-logo-390.png

जयपुर। देश में कोरोना वायरस एक बार फिर से तेज से फैल रहा है। बीते कुछ दिनों से कोविड़-19 के आंकड़ों में काफी इजाफा हुआ है। राजस्थान में भी कोरोना की चौथी लहर का खतरा फिर बढ़ने लगा है। जयपुर में बुधवार को मिले 21 पॉजिटिव केस सामने आया है। जिसमें 4 बच्चे भी शामिल हैं। इनकी उम्र 18 साल से कम है। इसमें से 2 स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे हैं। राहत की बात यह है कि बच्चों में गंभीर लक्षण नहीं हैं। सभी को होम आइसोलेशन में रखा गया है। वहीं, एसएमएस स्कूल में एक बच्चे के पॉजिटिव मिलने के बाद स्कूल प्रबंधन ने 8वीं तक के बच्चों की क्लास हाइब्रिड मोड पर चलाने का निर्णय किया है।
21 पॉजिटिव केस में 4 बच्चे
सीएमएचओ की रिपोर्ट में जयपुर में मिले 21 केस में से 4 मामले साेडाला इलाके के थे। इसके अलावा मानसरोवर और वैशाली नगर में 3-3, जवाहर नगर में 2, विद्याधर नगर, सांगानेर, मालवीय नगर, जगतपुरा, आदर्श नगर और तूंगा में एक-एक केस मिले हैं। इनमें चार बच्चे हैं। हालांकि, इन चारों बच्चों में किसी तरह के कोई गंभीर लक्षण नजर नहीं आए है। सभी को होम आइसोलेट करने के निर्देश दिए हैं। 21 में से 3 ऐसे मामले हैं, जिनका कोई एड्रेस ट्रेस नहीं हो पाया है।
जयपुर में सबसे ज्यादा एक्टिव केस
प्रदेश में कोरोना की स्थिति देखें तो अभी पूरी तरह कंट्रोल में है, लेकिन पिछले कुछ दिनों से जयपुर में केस में मामूली इजाफा देखने को मिला है। वर्तमान में पूरे प्रदेश में 129 एक्टिव केस हैं, जिसमें से 110 एक्टिव केस केवल जयपुर जिले में हैं। वहीं, 8 जिले ऐसे है, जहां एक से 4 एक्टिव केस हैं। शेष सभी 23 जिलों में अभी एक भी एक्टिव केस नहीं है।
देश में कोविड के 2380 नए केस, 56 लोगों की गई जान
भारत में गुरुवार को बीते 24 घंटे में कोरोना के 2,380 नए कोविड -19 मामले सामने आए हैं। वहीं एक दिन पहले बुधवार को यहां 2,067 मामले दर्ज किए गए थे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी। इसी अवधि में, कोरोना से 56 लोगों की मौत हुई है, जिससे महामारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 522,062 हो गई। इस बीच, देश में सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 13,433 हो गई है, जो कुल पॉजिटिव मामलों का 0.03 प्रतिशत है।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source

About Post Author