January 27, 2023

सर्दियों से निजात नहीं… मौत के करीब ले जा रही चाय की चुस्कियां? पढ़ें क्या कहता है नया शोध

wp-header-logo-309.png

Disadvantages Of Tea Bags: प्लास्टिक एक ऐसी चीज है, जो इंसानों के साथ-साथ प्रकृति के लिए भी बहुत ही ज्यादा हानिकारक होती है। देश में सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन लगाने के बाद भी लोग बिना किसी खौफ के धड़ल्ले से कहीं न कहीं प्लास्टिक का इस्तेमाल कर ही रहे हैं। हम सभी को प्लास्टिक के इस्तेमाल की इतनी आदत हो गई है कि इसके बिना जीना मुश्किल लगने लगता है। हमारी तो सुबह का आगाज भी प्लास्टिक वाली चाय के साथ ही होता है। अब आप सोच रहे होंगे प्लास्टिक वाली चाय क्या है? दरअसल आज कल के टाइम में लोग टी बैग का इस्तेमाल करने लगे हैं। आपने अक्सर ऑफिस से लेकर रेलवे स्टेशन तक इन टी बैग्स का इस्तेमाल होते हुए देखा होगा। अब तो कई लोग इनका इस्तेमाल घर पर भी करने लगे हैं।
सर्दियों में चाय की चुस्कियां खिन बन ना जाए परेशानी का सबब
सर्दियों के मौसम में लोग अपने आप को गर्म रखने के लिए दिन के 2 कप की जगह 3 या 4 चाय भी पी लेते हैं। ऐसे में एक स्टडी के मुताबिक हम प्लास्टिक वाले डिस्पोजेबल कप, पॉलीथिन और टी बैग्स का इस्तेमाल करके अपनी सेहत के साथ ही खिलवाड़ कर रहे हैं। आप चाय की सुकून देने वाली चुस्कियों के साथ प्लास्टिक का भी सेवन कर रहे हैं। एक शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि टी बैग के साथ अरबों छोटे-छोटे प्लास्टिक के कण हमारे शरीर में चले जाते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। आमतौर पर टी बैग पेपर के बने होते हैं, लेकिन इन टी बैगों को सील करने के लिए पॉलीप्रोपेलीन का इस्तेमाल किया जाता है, जो प्लास्टिक का ही एक प्रकार है।
जानिए टी बैग सेहत के लिए कितने हानिकारक?
कई ब्रांड प्लास्टिक के टी बैग्स का इस्तेमाल करते हैं, विशेषज्ञों की माने तो टी बैग को 203° फॉरेनहाइट तापमान (95° सेल्सियस) पर पानी के खास कंटेनरों में गर्म करने। इसके बाद इन्हें इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोस्कोप से देखने पर पता चला कि इन टी बैग से करीब 11.6 बिलियन (1160 करोड़) माइक्रोप्लास्टिक के टुकड़े और 3.1 बिलियन (करीब 300 करोड़) नैनो प्लास्टिक के कण निकले। जो आपको बहुत बीमार बनाने के लिए काफी हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक टी बैग से निकलने वाले प्लास्टिक का लेवल अन्य खाद्य पदार्थों की तुलना में हजारों गुना ज्यादा है। टेबल नमक एक माइक्रोप्लास्टिक कंटेट है, इसके प्रति ग्राम नमक में 0.005 माइक्रोग्राम प्लास्टिक के कण होते हैं। वहीं, टी बैग वाली एक कप चाय में 16 माइक्रोग्राम प्लास्टिक के कण होते हैं।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author