December 6, 2022

हाड़ौती के किसानों के लिए खुशी की बात, रबी की फसल के लिए नहरों में जलप्रवाह शुरू

wp-header-logo-282.png

news website
संदेश न्यूज। कोटा. मध्यप्रदेश और राजस्थान के किसानों को रबी फसलों में सिचाई के पानी के लिए सिंचित क्षेत्र विकास आयुक्त दीपक नंदी के निर्देश पर बुधवार को किशोरपुरा गेट स्थित केनाल से नहरों में जल प्रवाह शुरू किया गया।
अतिरिक्त क्षेत्र विकास आयुक्त नरेश कुमार मालव के नेतृत्व में चम्बल सिंचिंत क्षेत्र के अधीक्षण अभियंताओं ने विधि विधान के साथ पूजा अर्चना कर केनाल से पानी छोड़ा गया। अतिरिक्त क्षेत्र विकास आयुक्त ने कहा कि चम्बल की नहरों में साफ-सफाई एवं आवश्यक मरम्मत के बाद किसानों से परामर्श कर उनकी मांग के आधार पर नहरों में पानी प्रवाहित किया गया है। उन्होंने बताया कि इससे हाड़ौती के कोटा, बारां एवं बूंदी जिले के किसानों को अगेती फसलों की बुवाई के लिए पर्याप्त रूप में पानी मिल सकेगा। इस अवसर पर अधिशाषी अभियंता एमपी सामरिया, सहायक अभियंता आशीष बैरवा, कनिष्ठ अभियंता सरिता चौधरी, मलिका मुस्कान एवं आकाश चौधरी उपस्थित रहे।
मार्च माह के अंत तक चलेंगी नहरें
सीएडी ने रबी सीजन की फसलों की पलेवा के लिए दाई मुख्य नहर में पानी छोड़ दिया है। नहरों में पानी मार्च अंत तक चलेगा। इससे राजस्थान व मध्यप्रदेश के किसानों को फायदा होगा। हालांकि पिछले दिनों हाड़ौती अंचल में बारिश हुई थी। ऐसे में पानी की बहुत ज्यादा जरूरत नहीं है। हाड़ौती के किसानों ने पानी की मांग भी नहीं की थी, लेकिन संभवत: टेल क्षेत्र तक समय पर पानी पहुंचाने के उद्देश्य से नहरों में इस बार जल्दी जल प्रवाह प्रारंभ किया गया है। हालांकि मध्यप्रदेश सरकार ने पानी की डिमांड की है।
सीएडी कमांड एरिया है 2.29 लाख हेक्टेयर
अतिरिक्त क्षेत्रीय विकास आयुक्त सीएडी चंबल नरेश मालव ने बताया सीआईडी का कमांड एरिया 2.29 लाख हेक्टेयर है। इसमें से दाई मुख्य नहर से कोटा जिले के लाडपुरा, दीगोद,पीपल्दा, बारां जिले की अंता मांगरोल तहसील की 1.27 लाख हेक्टेयर जमीन में सिंचाई होती है। नहर में पानी की क्षमता 6600 क्यूसैक है। इसमें से आधे से ज्यादा पानी का हिस्सा मध्यप्रदश दिया जाता है। बाईं मुख्य नहर से कोटा जिले की लाडपुरा, बूंदी जिले की केशोरायपाटन, इंदरगढ़ तहसील की 1.2 लाख हेक्टेयर जमीन में सिंचाई होती है। नहर की क्षमता 1500 क्यूसेक है।
पहले इटावा के टेल क्षेत्र को और
बाद में मध्यप्रदेश को दिया जाएगा पानी
दाई मुख्य नहर के 124 किलोमीटर पॉइंट पार्वती हेड पर तीन-चार दिन में पानी पहुंचने की संभावना है। मध्यप्रदेश को पार्वती हेड से पानी दिया जाएगा। इससे पहले नहरी टेल इटावा क्षेत्र के किसानों को सरसों की बुवाई के लिए पानी दिया जाएगा। इसके लिए नहर की इटावा ब्रांच में पानी छोड़ा जाएगा। उसके बाद अयाना,अंता, पलायथा, डाबर ,दीगोद कल्याणपुरा,मानसगांव, किशनपुरा समेत ब्रांच डिस्ट्रीब्यूटरों में पानी छोड़ने की किसानों की डिमांड आने पर एक एक में पानी छोड़ दिया जाएगा।
 
Your email address will not be published. Required fields are marked *







This is the News Website by Chambal Sandesh
Rajasthan, Kota
THIS IS CHAMBAL SANDESH YOUR OWN NEWS WEBSITE

  • एजुकेशन
  • कर्नाटक
  • कोटा
  • गुजरात
  • Chambal Sandesh

    source

    About Post Author