December 6, 2022

वसुंधरा राजे पर गहलोत के बयान पर पूनिया का वार, कहा- पहले अपने गिरेबान में झांके

wp-header-logo-280.png

जयपुर। प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को लेकर सीएम अशोक गहलोत के बयान पर अब राजनीति गर्माती नजर आ रही है। BJP प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने सीएम गहलोत पर पलटवार किया है। बता दें कि गहलोत ने राजे के बारे में बोलते हुए कहा था कि उनके साथ BJP जो अन्याय कर रही है, वो भी सबके सामने है। पूनिया ने ट्वीट कर गहलोत को कहा- ‘डूंगर की बलती दिखै, पगां की बलती कोनी दिखे।’
गहलोत को दिखाया आईना
आपको बता दें कि डूंगर की बलती दिखै, पगां की बलती कोनी दिखे इस राजस्थानी कहावत का मतलब ये है कि अपने पैरों के पास जलती आग तो दिखाई नहीं देती, दूर पहाड़ पर जलती हुई आग दिखाई दे जाती है। पूनिया ने देसी कहावत के जरिए- गहलोत पर सियासी पलटवार करते हुए उन्हें आईना दिखाया है कि गहलोत को अपनी पार्टी कांग्रेस के दोष नहीं दिख रहे हैं, दूसरी पार्टी ‌BJP के दिखाई दे जाते हैं।
दो खेमे में बंटी हुई राजस्थान कांग्रेस
कांग्रेस पार्टी में भीतरी चल रहे घमासान की तरफ इशारा करते हुए पूनिया ने गहलोत को सियासी जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि पूर्व डिप्टी CM सचिन पायलट और CM गहलोत के खेमे में राजस्थान में कांग्रेस पार्टी बंटी हुई है। आपसी खींचतान के बीच गहलोत सरकार 92 विधायकों से इस्तीफे भी लिखवाकर विधानसभा अध्यक्ष को दिलवा चुकी है। गहलोत सरकार ने ही 92 इस्तीफों का दावा किया है, जो अब तक स्पीकर ने स्वीकार नहीं किए हैं।
कांग्रेस में गुटबाजी और अंदरूनी लड़ाई जारी
कांग्रेस सरकार और पार्टी में चल रही गुटबाजी और अंदरूनी लड़ाई जब से सरकार बनी है, तभी से चल रही है। 2020 में भी सियासी संकट के दौरान गहलोत सरकार को बाड़ेबंदी में इसी कारण जाना पड़ा था।
राजे ने बेरोजगारी को लेकर कही थी ये बात
पूर्व CM वसुंधरा राजे ने जयपुर में गहलोत सरकार पर आरोप लगाए हैं कि राजस्थान में बेरोजगारी बढ़ती जा रही है। काम-धन्धे नहीं होने के कारण राजस्थान से लोग पलायन कर रहे हैं। वो प्रदेश छोड़कर दूसरे राज्यों में जा रहे हैं। उन्होंने साथ ही कहा था कि हम ऐसा नहीं होने देंगे। वो सब यहां पर ही रहेंगे। उनके काम होंगे। उनके धन्धे लगेंगे और राजस्थान आगे बढ़ेगा।
CM गहलोत ने क्या कहा
राजे के आरोपों को लेकर CM गहलोत ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी, जयपुर में राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनाव की वोटिंग के बाद मीडिया से रूबरू होकर कहा- BJP ने वसुंधरा राजे की जो स्थिति बनाई है। इसलिए उनका फर्ज बनता है कि वो कुछ बातें ऐसी बोलें, जिससे वो वापस सर्कुलेशन में आ सकती हैं। ये स्वाभाविक है, मैं उनका बुरा नहीं मानता हूं, क्योंकि उनके साथ ‌BJP जो अन्याय कर रही है वो भी सबके सामने है।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source

About Post Author