November 27, 2022

Beware of Salt: खाने में नमक की मात्रा का रखें ख्याल नहीं तो गंभीर बीमारियों के हो जाएंगे शिकार, यहां पढ़ें एक्सपर्ट्स की राय…

wp-header-logo-400.png

Be Careful With Salt Intake: आपने सुना होगा की किसी भी चीज की अति सेहत के लिए हानिकारक होती है, ठीक उसी तरह किसी चीज की जरूरत से ज्यादा कमी भी सेहत को नुक्सान को पहुंचती है। ऐसा ही कुछ हमारे रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाले नमक के साथ भी होता है, नमक एक ऐसी चीज है जो ना ही जरूरत से कम खानी चाहिए और ना ही ज्यादा। नमक का सेवन क्यों जरूरी है, इसका सेवन ज्यादा करना क्यों घातक है, आपके इन सभी सवालों का जवाब आयुर्वेदिक फिजिशियन डॉ. विनायक एब्ट ने दिया है।
चटपटा खाना हम भारतीयों की आदत है। इसलिए हमारे सभी खाद्य-पदार्थों में नमकीन व्यंजनों की मात्रा अधिक होती है। जिसका परिणाम यह होता है कि हम स्वाद के चक्कर में दिनभर में औसत से अधिक नमक का सेवन कर लेते हैं। आमतौर पर हम प्रतिदिन छह से सात ग्राम नमक का सेवन कर सकते हैं, लेकिन अपने स्वास्थ्य को देखते हुए हमें पूरे दिन में पांच ग्राम से अधिक नमक नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इससे हमारी सेहत को काफी नुकसान (Benifits and Disadvantage of Salt) उठाना पड़ सकता है।

शरीर में नमक की जरूरत : शुद्ध नमक सोडियम और क्लोराइड से बनता है। इन तत्वों को शरीर नहीं बना पाता है। इसलिए भोजन में नमक का सेवन जरूरी है। नमक शरीर में तमाम खनिजों के बीच संतुलन बनाने और कोशिकाओं को सक्रिय रखने के लिए जरूरी होता है। शरीर में पानी की मात्रा को नियंत्रित करने के लिए हमें सोडियम की आवश्यकता होती है। मस्तिष्क से शरीर के अन्य अंगों तक और अन्य अंगों से मस्तिष्क तक सूचनाओं के आदान-प्रदान करने के लिए सोडियम की जरूरत होती है।

नमक के अधिक सेवन से नुकसान : आवश्यकता से अधिक नमक का सेवन रक्तचाप को बढ़ा कर हार्ट अटैक का कारण बन सकता है। यही नहीं इसके अधिक सेवन से दिल के रोग, किडनी संबंधी रोगों का खतरा रहता है। इसके अलावा नमक का अधिक सेवन ऑस्टियोपोरोसिस, हाथ-पैरों में सूजन, डिमेंशिया, मोटापा और कैंसर जैसी भयंकर बीमारियों को भी जन्म देता है। ऐसे रोगियों को तो प्रतिदिन दो से तीन ग्राम से अधिक नमक नहीं लेना चाहिए।

बचाव के उपाय : नमक का सेवन कभी भी एकदम बंद नहीं करना चाहिए, यह जान लें कि शरीर में नमक की अधिकता प्रतिदिन के भोजन यानी दाल-चावल, रोटी-सब्जी के मध्याम से नहीं होती है। जहां तक शरीर में सोडियम की अधिकता की बात है तो इसका कारण वो नमक है, जो कि डिब्बाबंद खाद्य-पदार्थों जैसे- नमकीन, पापड़, चिप्स, अचार, कैचअप, केक, बटर, चीज, बिस्कुट, सूप आदि में होता है। क्योंकि डिब्बा बंद खाद्य-पदार्थ में नमक की मात्रा अत्यधिक होती है। अगर आप नमक के सेवन को कम करना चाहते हैं तो सबसे पहले डिब्बा बंद वस्तुओं का सेवन कम करें। भोजन में हल्का नमक डालकर पकाएं। खाने में ऊपर से कभी भी नमक ना डालें। नमकीन, मूंगफली, नमकीन, मेवे और पिज्जा आदि खाने से बचें। चाट, मसाला, अचार, चटनी और पापड़ इत्यादि नियंत्रित मात्रा में खाएं। जिन्हें बीपी, किडनी संबंधित बीमारियां हैं, वो तो भूलकर भी इन चीजों सेवन ना करें।

कुछ और बातें भी लाएं अमल में : आप कुछ और बातों का रोजमर्रा के जीवन में अमल करके नमक की अधिक मात्रा से बच सकते हैं –

प्रस्तुति : गीता सिंह
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author