Deprecated: strpos(): Passing null to parameter #1 ($haystack) of type string is deprecated in /var/www/vhosts/rajasthancoverage.com/httpdocs/wp-content/plugins/latest-posts-block-lite/src/fonts.php on line 50

Deprecated: strpos(): Passing null to parameter #1 ($haystack) of type string is deprecated in /var/www/vhosts/rajasthancoverage.com/httpdocs/wp-content/plugins/magic-content-box-lite/src/fonts.php on line 50
May 29, 2023

Heat Stroke: हीट स्ट्रोक से बचने के लिए जानें इसके लक्षण और उपचार

wp-header-logo-726.png

Deprecated: Automatic conversion of false to array is deprecated in /var/www/vhosts/rajasthancoverage.com/httpdocs/wp-content/plugins/traffic-goliath-pro/includes/autolinks_tags.php on line 122

हीट स्ट्रोक से बचने के उपाय।
Heat Stroke: गर्मी का मौसम आते ही लोगों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। हालांकि हर कोई इस मौसम के लिए अपने आपको तैयार कर लेता है। लेकिन, हर साल गर्मी का एक नया रूप देखने को मिलता है। यह गर्मी कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को अपने साथ लेकर आती है और इन समस्याओं में सबसे प्रमुख हीट स्ट्रोक यानि लू लगना होता है। तो आइए चलिए जानते है हीट स्ट्रोक के बारे में…
हीट स्ट्रोक

हीट स्ट्रोक को साधारण भाषा में लू लगना कहते हैं। मौसम विभाग के अनुसार अगर देश के मैदानी हिस्से में तापमान 40 डिग्री, तटीय हिस्से में 37 डिग्री और पहाड़ी इलाकों में 30 डिग्री तक पहुंच जाए तो यह दशा हीट वेव कहलाती है। ऐसा तब होता है जब हीट स्ट्रोक के कारण किसी व्यक्ति का शरीर अपने तापमान को काबू नहीं कर पाता है और तेजी से बढ़ने लगता है। हीट स्ट्रोक की स्थिति पर व्यक्ति को पसीना आना बंद हो जाता है। हीट स्ट्रोक की चपेट में आने पर व्यक्ति के शरीर का तापमान 10 से 15 मिनट के अंदर 106 डिग्री फेरानाइट या इससे ज्यादा भी हो सकता है। अगर सही समय पर हीट स्ट्रोक से पीड़ित व्यक्ति को इलाज न मिले तो उसकी मौत तक हो सकती है।
Also Read- मांसपेशियों में किस वजह से आती है जकड़न, पढ़िये वजह और संकेत
हीट स्ट्रोक के प्रमुख लक्षण

मांसपेशियों में दर्द
सिर दर्द
डिमेंशिया
तेज बुखार
मतली और उल्टी
त्वचा का लाल होना
हार्ट रेट बढ़ना
त्वचा का नर्म होना
त्वचा का सूखना
हीट स्ट्रोक से बचने के उपाय

हर समय खुद को हाइड्रेटेड रखने की कोशिश करें।
हल्के रंग वाले सूती कपड़े पहनें।
यात्रा करते समय पानी और प्याज अपने साथ रखें।
दिन के समय घर से बाहर निकलते वक्त चश्मा, छाता या टोपी, जूते या चप्पल का इस्तेमाल करें।
हाई प्रोटीन वाले खाद्य पदार्थों का सेवन कम से कम करें।
शराब, चाय, कॉफी और कोल्ड ड्रिंक्स का सेवन कम करें। ये डिहाइड्रेशन का कारण बनते हैं।
कमजोरी या बीमार महसूस करने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।
घर में बनाए गए तरल पदार्थ जैसे ओआरएस, लस्सी, नींबू पानी, छाछ, नारियल पानी आदि का नियमित रूप से सेवन करें।
पशुओं को धूप से बचाए रखें और उन्हें पर्याप्त मात्रा में पानी पीने के लिए दें।
पंखे, पर्दे का इस्तेमाल करके अपने घर को ठंडा रखें।
हीट स्ट्रोक हो जाने पर करें ये उपाय

व्यक्ति को छाया में बिठाएं और पानी में भीगे हुए स्पंज की मदद से शरीर ठंडा करने की कोशिश करें।
व्यक्ति की बॉडी का तापमान सामान्य या कम करने के लिए उसके सिर पर नॉर्मल तापमान का पानी डालें।
पीड़ित व्यक्ति को ओआरएस या नारियल पानी पीने के लिए दें ताकि उसकी बॉडी हाइड्रेट रह सके।
व्यक्ति को जल्दी से किसी नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराएं।
© Copyrights 2023. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source