August 15, 2022

लेक्चरर मां ने नहीं दिलाई बेटे को ड्रेस, तो बेटे ने जन्मदिन पर फांसी लगाकर दे दी जान

wp-header-logo-298.png

जयपुर। जिंदगी कई बार इंसान को ऐसे हादसों के बीच घसीट ले जाती है, जहां अफसोस और गम के सिवा कुछ बाकी नहीं रह जाता। बहरोड़ में शुक्रवार को एक बेटे ने अपनी मां से स्कूल यूनीफॉर्म दिलाने की मागं की, स्कूल जाने की जल्दी में बेटे को यूनीफॉर्म नहीं दिला सकी, गुस्से में आकर 15 साल के इकलौते बेटे ने अपने ही घर में फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली।
मृतक की मां कंचन का शुक्रवार को 40वां जन्मदिन था और उसी दिन बेटे ने अपनी जान दे दी। कमरे में सुसाइड नोट मिला जिसमें लिखा था अब आप कभी स्कूल के लिए लेट नहीं होगी, दुनिया का सबसे अच्छा बर्थ डे गिफ्ट हैप्पी हर्थ डे मम्मी जी। सुसाइड नोट पढ़ते ही मां का कलेजा फटा का फटा रह गया। मृतक के पिता रामवतार मीणा की तीन साल पहले ही मौत हो चुकी है। पुलिस ने बताया कि बहरोड़ कस्बे के वार्ड नंबर 2 में स्थित गूंती में मृतक रोहित अपनी मां कंचन के साथ किराये के मकान में रह रहा था। कंचन की एक बेटी भी है वह ननिहाल में रहकर 12वीं की पढ़ाई कर रही है। मृतक के पिता रामवतार मीणा की मौत के बाद विधवा कोटे से ही कंचन की नौकरी लगी थी।
आपको बता दें कि कंचन विद्यालय में लेक्चरर पद पर कार्य करती है। सुबह कंचन स्कूल जा रही थी तो बेटे रोहित ने जिद करते हुए कहा कि उसे स्कूल यूनिफॉर्म चाहिए। मां ने डांटते हुए कहा कि अभी में स्कूल के लिए लेट हो रही हूं, शाम को छुट्टी से घर आकर दिलवा दूंगी। शाम को कंचन घर लौटी तो घर का कमरा अन्दर से बंद मिला। बेटे को आवाज लगाई तो कोई जवाब नहीं आया। घबराई मां ने पड़ोसियों को सूचना दी। लोगों ने गेट को तोड़ा तो अंदर 15 साल का रोहित फंदे से लटका हुआ था पड़ोसियों ने रस्सी को काट कर उसे नीचे उचारा। सूचना पर एएसआई राजकमल मौके पर पहुंचे। रोहित को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस मामले में लोगों से पूछताछ कर पड़ताल में लगी है।
कॉपी एडिटर – आकाश वर्मा


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source

About Post Author