August 18, 2022

मानसून के आते ही बढ़ा 'काला अजार' का आतंक, लक्षण से लेकर बचाव तक जानिए सभी अहम जानकारियां

wp-header-logo-290.png

बंगाल (Bengal) के ग्यारह जिलों में पिछले कुछ हफ्तों में काला बुखार या काला अजार के कम से कम 65 मामले सामने आए हैं। यह बेहद ही खतरनाक तरह का बुखार होता है, जिन लोगों को इस बीमारी से संबंधित ज्यादा जानकारी नहीं है उनके लिए यह खबर काफी इनफॉर्मेटिव हो सकती है। तो आइये जानते हैं क्या है काला बुखार (Black Fever) या काला अजार (Kala Azar) बीमारी और इससे जुड़ी सभी अहम जानकारियां।
काला अजार से जुड़ी सभी जानकारियां
काला अजार लीशमैनियासिस (Leishmaniasis) का सबसे खतरनाक और जानलेवा रुप माना जाता है। यह रोग 76 देशों में पसरा हुआ है, जिस कारण लगभग 200 मिलियन लोगों को संक्रमण होने का खतरा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक लीशमैनिया का संक्रमण मादा फ़्लेबोटोमाइन सैंडफ्लाइज़ (Female Phlebotomine Sandflies) के काटने से फैलता है। लीशमैनियासिस के 3 मुख्य रूप हैं- आंत (काला अजार जो कि बीमारी का सबसे गंभीर रूप है), त्वचीय (सबसे आम जहां त्वचा प्रभावित होती है), और म्यूकोक्यूटेनियस।
लक्षण

सैंडफ्लाइज़ के काटने के स्थान पर त्वचा के घावों या अल्सर बनते हैं, यदि रोग बढ़ता है तो यह प्रतिरक्षा प्रणाली पर हमला करता है। इसके लक्षणों में बुखार, वजन कम होना, थकान, एनीमिया और लीवर और स्प्लीन में सूजन शामिल हैं। अगर इस बीमारी को अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो बीमारी लगभग हमेशा मृत्यु का परिणाम देती है।

रोकथाम और नियंत्रण

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक लीशमैनियासिस की रोकथाम और नियंत्रण के लिए हस्तक्षेप रणनीतियों के संयोजन की आवश्यकता होती है। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक अगर इस बीमारी का शीघ्र उपचार रोग के प्रसार को कम करता है और विकलांगता और मृत्यु को रोकता है। यह संचरण को कम करने और बीमारी के प्रसार की निगरानी करने में मदद करता है।
नियंत्रण विधियों में कीटनाशक स्प्रे, कीटनाशक-उपचारित जालों का उपयोग, पर्यावरण प्रबंधन और व्यक्तिगत सुरक्षा शामिल हैं। पशु जलाशय मेजबानों का नियंत्रण जटिल है और इसे स्थानीय स्थिति के अनुरूप बनाया जाना चाहिए। सामाजिक लामबंदी और प्रभावी व्यवहार परिवर्तन हस्तक्षेपों के साथ साझेदारी को मजबूत करना हमेशा स्थानीय रूप से अनुकूलित किया जाना चाहिए।

इलाज

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, लीशमैनियासिस के निदान वाले सभी रोगियों को शीघ्र और पूर्ण उपचार की आवश्यकता होती है। बता दें कि लीशमैनियासिस एक इलाज योग्य बीमारी है, “जिसके लिए एक इम्यूनोकोम्पेटेंट सिस्टम की आवश्यकता होती है क्योंकि दवाएं शरीर से परजीवी से छुटकारा नहीं पाती हैं, इस प्रकार इम्यूनोसप्रेशन होने पर रिलेप्स का जोखिम होता है।”
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author