January 30, 2023

Hooch tragedy: बिहार में Alcohol Poisoning ने मचाया हाहाकार, जानिए जहरीली शराब के असर से कैसे बचाएं अपनी जान

wp-header-logo-239.png

Bihar Alcohol Poisoning: बिहार के छपरा में जहरीली शराब के सेवन से मरने वालों की संख्या में इजाफा हो रहा है। आज यानी शुक्रवार तक बिहार में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या बढ़कर 53 हो गई है। केवल बिहार ही नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश में भी जहरीली शराब पीने से कई लोगों की जान चली जाती हैं। यूपी समेत जिन राज्यों में शराब पर प्रतिबंध नहीं है, वहां भी कच्ची शराब पीने के चलते कई लोगों की अकाल मृत्यु हो जाती है। हम इस रिपोर्ट में बताने जा रहे हैं कि आखिर शराब में ऐसा क्या मिलाया जाता है, जो कि शराब को जहरीला बना देती है।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह जहरीली शराब ज्यादातर गैर-ब्रांडेड है और उन मानकों का पालन नहीं करती हैं, जो प्रोडक्ट की क्वालिटी और सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं। इस कारण कई मौतें होती हैं। इस शराब में स्थानीय रूप से उपलब्ध सामग्रियों से बड़े पैमाने पर इथेनॉल का इस्तेमाल करके बनाया जाता है, जो नेचुरल फर्मेंटेशन (natural fermentation) प्रोसेस का उपयोग करने के बजाय क्विक वर्क के लिए आसानी से उपलब्ध होता है। ज्यादातर अवैध शराब का कारोबार काला बाजार में किया जाता है। इसके अलावा इन्हें फिर से पैक किया जाता है और ब्रांडों के नकली नामों में बेचा जाता है।
इथेनॉल सेहत के लिए क्यों है हानिकारक?
रोग निवारण और नियंत्रण केंद्रों (Centers for Disease Prevention and Control) के मुताबिक, इथेनॉल की वजह से अल्कोहल जहरीली खतरनाक रूप से आपके श्वास, हृदय गति, शरीर के तापमान और गैग रिफ्लेक्स (gag reflex) को प्रभावित कर सकती है। इससे इंसान कोमा में या फिर मृत्यु तक हो सकती है। इथेनॉल विभिन्न प्रकार के सामान्य घरेलू उत्पादों में भी पाया जाता है, जिनमें माउथवॉश, परफ्यूम, कोलोन और ओवर-द-काउंटर दवाएं शामिल हैं।
सीडीसी का कहना है कि एक बार जब इथेनॉल पानी में घुलनशील होता है, तो यह जल्दी से कोशिका झिल्लियों (cell membranes) को पार कर जाता है और छोटी आंत (small intestine) और पेट (Stomach) तक पहुंच जाता है। जब पेट खाली होता है, तो अंतर्ग्रहण (ingestion) के एक घंटे के बीच रक्त में इथेनॉल का स्तर चरम पर पहुंच जाता है, जिससे जहर हर जगह फैल जाता है। इथेनॉल से अल्कोहल जहरीली होकर इंसान के दिमाग को नुकसान पहुंचाती है और मृत्यु का कारण बन सकती है।
संकेत और लक्षण
शराब विषाक्तता के लक्षणों और लक्षणों में शामिल हैं:
भ्रम
उल्टी और चक्कर आना
बरामदगी (seizures)
सांस फूलना
अनियमित श्वास
नीली रंग की त्वचा या पीली त्वचा
कम शरीर का तापमान या विकासशील हाइपोथर्मिया
बेहोशी की हालत
भ्रम
उल्टी के रूप में सांस लेने में गंभीर परेशानी

निर्जलीकरण
प्रगाढ़ बेहोशी
दिल का दौरा
मौत
शराब विषाक्तता के मामले में क्या करना चाहिए?
यदि किसी ने जहरीली शराब पी ली है, तो निम्नलिखित उपाय करें:
व्यक्ति को अकेला मत छोड़ो।
उन्हें जगाए रखने की कोशिश करें।
डिहाइड्रेशन से बचने के लिए उन्हें पानी पिलाते रहें।
उन्हें गर्म कपड़ों से ढक दें।
एक डॉक्टर को बुलाएं जो उन्हें IV के माध्यम से लिक्विड देगा, ऑक्सीजन देगा और उनके ब्लड से इथेनॉल का असर कम करने की कोशिश करेगा।
शराब के जहर को कैसे रोकें?
जब भी आप परिवार और दोस्तों के साथ ड्रिंक करने जा रहे हों तो इन बातों का ध्यान जरूर रखें:
किसी भी कीमत पर सस्ती देशी शराब पीने से परहेज करें।
हमेशा मॉडरेशन में पिएं।
यदि आप दवाएं ले रहे हैं, तो शराब पीने से बचें।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author