September 25, 2022

Tips For Frozen Shoulder: जानिए क्या है फ्रोजन शोल्डर और कितना हो सकता है खतरनाक, डायबिटीज के मरीज रहें सावधान!

wp-header-logo-318.png

बढ़ती उम्र के लोगों में फ्रोजन शोल्डर (Frozen Shoulder) यानी कंधे की अकड़न की समस्या होने की आशंका अधिक होती है। डायबिटीज पेशेंट्स को इससे अधिक सचेत (Diabetes Causes Frozen Shoulder) रहना चाहिए। जानिए कैसे होता है फ्रोजन शोल्डर, इसके रोकथाम और इलाज के बारे में। सीताराम भारतीय इंस्टिट्यूट और होली फैमिली हॉस्पिटल, दिल्ली के सीनियर ऑर्थोपेडिक कंसल्टेंट-जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जन डॉ. बीरेन नादकर्णी ने बातचीत में बताया की फ्रोजन शोल्डर के क्या कारण है और इससे कैसे बचा जा सकता है।
उन्होंने कहा कि कंधे की अकड़न मतलब फ्रोजन शोल्डर, यह एक ऐसी समस्या है, जो कंधे के जोड़ में अकड़न और परेशानी का कारण बनती है। इसे एडहेसिव कैप्सुलिटिस भी कहा जाता है। यह समस्या तब सामने आती है, जब कंधे के जोड़ के आस-पास के ऊतकों में सूजन आ जाती है। जिससे वे सख्त और कठोर हो जाते हैं। साथ ही कंधे का मूवमेंट भी प्रभावित होता है। सूजन की वजह से रोजमर्रा के कार्यों को करना भी मुश्किल हो जाता है। इस समस्या में बहुत दर्द होता है।

हमारे कंधे, हड्डियों, मांसपेशियों और टेंडन से बने होते हैं। जब कंधे के जोड़ के आस-पास का कैप्सूल मोटा और कड़ा हो जाता है, तो यह कंधे की मूवमेंट को प्रभावित करने लगता है। जिससे दर्द और बेचैनी महसूस होती है। ध्यान न देने पर यह समस्या धीरे-धीरे बढ़ जाती है। इस समस्या की शुरुआत में कंधे को हिलने-डुलने में दर्द होता है। इसके बाद कंधे के ऊतकों में कठोरता विकसित हो जाती है, जिससे मूवमेंट में फर्क पड़ता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं को फ्रोजन शोल्डर होने का खतरा अधिक होता है। साथ ही 40 से अधिक आयु के लोगों को इससे पीड़ित होने की अधिक संभावना होती है।
फ्रोजन शोल्डर की रोकथाम इसके लक्षणों के आधार पर किया जा सकता है। याद रखें यह जरूरी है कि आपको अपनी डायबिटीज को नियंत्रित रखना है। इसके अलावा अपने कंधे की गति की सीमा को बनाए रखने के लिए नियमित रूप से स्ट्रेचिंग और व्यायाम करना बहुत महत्वपूर्ण है।
इससे पीड़ित व्यक्ति को शुरुआती स्तर पर डॉक्टर कुछ दवाएं और विशेष व्यायाम करने की सलाह देते हैं। अधिकांश रोगी शुरू में गैर-ऑपरेटिव उपचारों का ही चयन करते हैं। कुछ लोग जोड़ों की परेशानी को दूर करने और गति की सीमा को बढ़ाने के लिए स्टेरॉयड इंजेक्शन का भी विकल्प चुनते हैं। लेकिन ध्यान रखें कि यदि आपको डायबिटीज है तो वे खतरनाक रूप से उच्च रक्त शर्करा का कारण बन सकते हैं। इसलिए इससे निदान पाने के लिए किसी स्पेशलिस्ट की देख-रेख में ही इलाज करवाएं। अगर आपको फायदा नहीं होता तो अधिक व्यापक प्रक्रियाओं जैसे ओपन कैप्सुलर रिलीज या आर्थोस्कोपिक सर्जरी का सहारा भी लिया जा सकता है। राहत पाने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखें-
– अपने डायबिटीज के लेवल को कंट्रोल में रखें।
– नियमित रूप से व्यायाम और स्ट्रेच एक्सरसाइज करें।
– फीजियोथेरेपी की मदद से भी कंधे को मजबूत और उसकी गति सीमा को बढ़ाएं।
– दर्द के बावजूद भी अपनी बांह का पूरी तरह से इस्तेमाल करना बंद न करें।
– अगर आपको शुरुआती इलाज से आराम नहीं मिलता तो सर्जरी एक बेहतर विकल्प हो सकता है।
डायबिटीज पेशेंट रहें सावधान (Diabetes patient be careful)
फ्रोजन शोल्डर के अधिकतर मामलों में आपकी उम्र उतनी ही अधिक होगी, जोखिम उतना अधिक होगा। साथ ही अनियंत्रित मधुमेह का स्तर कोलैजन को बदल सकता है। यह एक महत्वपूर्ण प्रोटीन होता है जो आपके संयोजी ऊतक को बनाता है। इसलिए डायबिटिक पेशेंट्स में फ्रोजन शोल्डर डेवलप होने की संभावना अधिक होती है। दरअसल, जब शुगर कोलैजन से जुड़ती है तो यह चिपचिपा हो जाता है। जिससे यह गतिशीलता को सीमित कर देता है और कंधे को सख्त कर देता है। इससे समस्या बढ़ती है।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author