July 1, 2022

कोरोना के बाद अब सामने आया लासा बुखार, जानें क्या है इसके लक्षण, कारण और ट्रीटमेंट

wp-header-logo-254.png

Health: अभी कोरोना वायरस (Corona Virus) से विश्व संभला नहीं है कि लासा बुखार (Lassa Fever) ने दस्तक दे दी है। यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom) के तीन लोग इस बीमारी से ग्रसित हो चुके हैं, जिनमें से एक की मौत हो गई है। डब्ल्यूएचओ (WHO) के अनुसार, लासा बुखार एक तीव्र वायरल हेमरेज बीमारी है, जो लासा वायरस (Lassa Virus) के कारण होती है। ये एरेनावायरस (Arenavirus) का एक सदस्य है और 2 से 21 दिनों के बीच रहता है। आमतौर पर इस वायरस से संक्रमित चूहों के मूत्र या मल से, दूषित भोजन या घरेलू सामान के संपर्क में आने के कारण लोग इससे संक्रमित हो जाते हैं। लासा वायरस का नाम नाइजीरिया के एक शहर के नाम पर रखा गया है जहां 1969 में सबसे पहले इसके मामले सामने आए थे। हालांकि इस बीमारी की मृत्यु दर कम है, लेकिन कुछ लोगों जैसे तीसरी ट्राइमेस्टर की प्रेग्नेंट महिलाओं (Pregnant Women in Third Trimester) में इसका गंभीर रूप सामने आ सकता है।
क्या है इसके लक्षण (Symptoms)
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आमतौर इस लासा बुखार के लक्षण एक्सपोजर के 1-3 सप्ताह बाद दिखाई देते हैं। आम तौर पर, वे हल्के होते हैं, जिन्हें पता कर पाना मुश्किल है। बुखार, थकान, कमजोरी और सिरदर्द कुछ ऐसे लक्षण हैं जिनका इस बीमारी में लोग सामना करते हैं। हालांकि, 20 प्रतिशत संक्रमित व्यक्तियों में, यह बीमारी अधिक गंभीर लक्षणों में बदल सकती है, जिसमें मसूड़ो, नाक या आंखों से खून आना, सांस लेने में कठिनाई, बार-बार उल्टी, चेहरे की सूजन, छाती, पीठ और पेट में दर्द शामिल हैं। इसके अलावा इस बुखार में सुनने की क्षमता कम हो जाती है, कंपकंपी और एन्सेफलाइटिस सहित न्यूरोलॉजिकल समस्याओं भी सामने आईं हैं।
क्या करें उपाय (Treatments)
मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इस वायरस से बचने का एकमात्र तरीका चूहों के संपर्क से बचना है और उन जगहों पर न जाना है जहां पर ये रोग स्थानिक है। घर और अन्य जगहों पर साफ-सफाई और साफ-सफाई बनाए रखना भी जरूरी है। चूहों को घर में प्रवेश करने से रोकना और खाने को चूहों की पहुंच से दूर रखना इस वायरस से खुद को बचाने के लिए एक बेहतरीन कदम हो सकता है। इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति से दूर रहना भी इसके बचाव का एक तरीका हो सकता है, क्योंकि शारीरिक तरल या फिर म्यूकस मेंब्रेन के जरिए फैलता है। इसलिए अगर ऐसे किसी संक्रमित व्यक्ति के पास जाने से बचना चाहिए या फिर मास्क पहनना चाहिए।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source