May 23, 2022

कई रोगों से लड़ने में सक्षम है Sun Oil, इसे बनाना है बहुत आसान

wp-header-logo-337.png

Health Tips: सूरज की किरणें (Sun rays) हमारे लिए काफी जरूरी होती हैं। सुबह- सुबह सूरज की किरणों से हमें विटमिन डी (Vitamin D) मिलता है, जो कि हमारी हड्डियों और दांतो (Vitamin D for Bones and Teeth) को मजबूत बनाए रखने के लिए बहुत जरूरी है। सूर्य प्रकाश की गर्मी और उसमें मौजूद एनर्जी हमारे शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होती है। आयुर्वेद (Ayurveda) में तो इससे तैयार किए गए सूर्य के तेल (Sun Oil) का वर्णन मिलता है, जो कई रोगों में काफी असरदार होता है।
ऐसे बनता है सूर्य का तेल
सूर्य का तेल बनाने के लिए 200 ग्राम सूरजमुखी और इतनी ही मात्रा में तिल के तेल में 4 ग्राम लौंग और 8 ग्राम केसर मिलाएं। अब इस तेल के मिश्रण को लाल रंग की कांच की बोतल में डालकर 15 दिनों तक लगातार सूरज की रौशनी में रखें। अगर आपके पास लाल रंग की कांच की बोतल न हो, तो आप सफेद रंग की बोतल में इस मिश्रण को रखकर, बोतल के सिरे को लाल कपड़े या फिर लाल रंग के कागज से ढंक दें और फिर इसे सूरज की रौशनी में रखें। 15 दिनों बाद सूर्य का तेल तैयार हो जाएगा।
ये हैं इसके फायदें
अगर आप हाई ब्लड प्रेशर या फिर दिल की बीमारी से पीड़ित हैं, तब पूरे शरीर पर सूर्य के तेल की मालिश करने से आपको लाभ मिलता है। वहीं अगर आपके घर में छोटे बच्चे हैं तो इस तेल से उनकी मालिश करने पर उनके शरीर में विटामिन डी की कमी नहीं रहेगी। इसके अलावा सूर्य के तेल का डेली इस्तेमाल करने से आपके चेहरे पर एक अलग ही ग्लो निकल कर आता है। इस तेल के अच्छे और बेहतर रिजल्ट के लिए इसका इस्तेमाल रविवार से शुरू करें। यदि आप डेली इसे इस्तेमाल नहीं कर सकते, तो हफ्ते में एक बार यानी रविवार के दिन सूर्य के तेल का प्रयोग जरूर करें। सर्दी के मौसम में अगर गुनगुनी धूप में बैठकर इस तेल की मालिश की जाए तो 15 दिनों के अंदर ही इसके असरदार परिणाम नजर आनें लगेंगे। इसी के साथ ही आप इस बात का भी ध्यान रखें कि धूप में इस तेल की मालिश करने के एक घंटे बाद ही गर्म पानी से नहाएं।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source