July 1, 2022

नीले घोड़े पर सवार होकर निकले श्याम बाबा: खाटू में इतनी भीड़ पहुंची, कैंसिल करनी पड़ी हेलिकॉप्टर पुष्पवर्षा

wp-header-logo-254.png

जयपुर। आज एकादशी के मौके पर बाबा श्याम का विशेष फूलों से श्रृंगार किया गया। बाबा श्याम जनकल्याण के लिए सुबह करीब साढ़े 9 बजे नगर भ्रमण पर निकले। इस रथ यात्रा में काफी श्रद्धालु शामिल हुए। बाबा श्याम के इस नीले घोड़ों वाले रथ को खींचने और उनकी एक झलक पाने के लिए श्रद्धालुओं में होड़ मच गईं। बाबा श्याम जिस रथ पर नगर भ्रमण पर निकले उसे भी फूलों से सजाया गया है। रथ यात्रा मंदिर से दोपहर 12:30 बजे रवाना होकर श्याम कुंड,शनि मंदिर, हॉस्पिटल रोड होते हुए पुराना बस स्टैंड से कबूतर चौक होते हुए दो घंटे बाद वापस मंदिर पहुंची। इस दौरान बाबा श्याम ने सवा किमी नगर भ्रमण किया।
हेलिकॉप्टर से पुष्पवर्षा निरस्त
आज एकादशी के मौके पर खाटू में पांच लाख श्रद्धालुओं के पहुंचने का अनुमान है। माना जा रहा है मेले में यह अब तक की रिकॉर्ड भीड़ होगी। आज एकादशी के मौके पर हेलिकॉप्टर से पुष्पवर्षा होनी थी, लेकिन सुरक्षा कारणों के चलते सीकर कलेक्टर ने इस कार्यक्रम को निरस्त कर दिया है।
खास फूलों से बाबा का विशेष शृंगार
अलौकिक रूप में आज बाबा श्याम लोगों को दर्शन देंगे। एकादशी पर बाबा की पांच आरती होंगी। चोला बदला जाएगा। दिनभर मंदिर के कपाट खुले रहेंगे। बाबा श्याम के श्रृंगार के लिए करीब 20 किलो कार्नेशन फूल, लाल गुलाब व सफेद फूल मंगाए गए हैं। एक दिन पहले ही बाबा के श्रृंगार के लिए कारीगरों ने तैयारी शुरू कर दी थी।
56 भोग के​ लिए खरीदे गए नए बर्तन
श्याम मंदिर ट्रस्ट की ओर से रथ यात्रा से पहले बाबा श्याम को 56 भोग अर्पित किए जाएंगे। यह भोग मंदिर परिसर में ही तैयार कराया जाता है। 56 भोग के लिए नए बर्तन खरीदे जाते हैं। इन बर्तनों को दोबारा से इस्तेमाल नहीं किया जाता है। भोग अर्पित करने के बाद इन बर्तनों को भक्तों या जरूरतमंद लोगों में बांट दिया जाता है।
30 लाख से ज्यादा श्रद्धालु कर चुके है दर्शन
बाबा खाटूश्यामजी का लक्खी मेला अब पूरी तरह से परवान चढ़ चुका है। पिछले दो साल में जहां कोरोना की पाबंदियों के चलते श्रद्धालुओं की भीड़ कम रही। वहीं, इस साल 6 मार्च से शुरू हुए बाबा खाटूश्याम के मेले में अब तक करीब 30 लाख से ज्यादा श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source