January 20, 2022

Delhi Metro Facts: ये है दिल्ली का सबसे गहरा मेट्रो स्टेशन, यहां 10 मंजिल की गहराई पर हैं मेट्रो ट्रैक

wp-header-logo-335.png

Delhi Metro Facts: दिल्ली मेट्रो अपने आप में एक पूरी किताब है। इस किताब से हम आपके लिए हर रोज एक नया चैप्टर लेकर के आते हैं। दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) देश की सबसे बड़ी और सबसे व्यस्त मेट्रो रेल लाइन है। दिल्ली मेट्रो लाइन (Delhi Metro Line) दिल्ली और एनसीआर के 254 मेट्रो स्टेशन को कवर करती है। आज की अपनी इस स्टोरी में हम बात करेंगे दिल्ली मेट्रो के सबसे गहरे मेट्रो स्टेशन (Delhi Metro Deepest Metro Station) के बारे में।
मजेंटा लाइन (Magenta Line) पर स्थित हॉज खास मेट्रो स्टेशन (Hauz Khas Metro Station) दिल्ली का सबसे गहरा स्टेशन है। ये मेट्रो स्टेशन 32 मीटर की गहराई पर स्थित है। मजेंटा लाइन पर पड़ने वाला हॉज खास मेट्रो स्टेशन हुडा सिटी सेंटर-समयपुर बादली वाली येलो लाइन (Yellow Line) पर पुराने हौज खास स्टेशन के ठीक नीचे स्थित है। यह स्टेशन दिल्ली मेट्रो नेटवर्क का सबसे गहरा अंडरग्राउंड स्टेशन है। इस मेट्रो स्टेशन का ट्रैक 32 मीटर गहरा है, जो आमतौर पर 10 मंजिला इमारत की ऊंचाई होती है। ये 32,000 वर्ग मीटर में फैला हुआ है, जिसे लगभग 1,69,414 लोगों की भीड़ के हिसाब से बनाया गया है। इसमें एसी कूलिंग सेट्स की संख्या नॉर्मल मेट्रो स्टेशन के मुकाबले दोगुनी है और लगभग 22 एस्केलेटर लगाए गए हैं। ये मेट्रो की येलो लाइन और मजेंटा लाइन को जोड़ता है। इसे लोगों की सुविधा को ध्यान में रखकर बनाया गया है, ताकि लाइन चेंज करने के लिए यात्रियों को मेट्रो स्टेशन के बाहर न निकलना पड़े। हालांकि लाइन चेंज करने के लिए यात्रियों को 250 मीटर की दूरी को चल कर तय करनी पड़ती है।
जहां येलो लाइन पर स्थित हॉज खास मेट्रो स्टेशन की शुरुआत 3 सितंबर 2014 को हुई थी। वहीं मजेंटा लाइन पर हॉज खास मेट्रो स्टेशन की शुरुआत 29 मई 2018 को हुई है। इस स्टेशन ने राजीव चौक और मंडी हाउस जैसे स्टेशन की भीड़ को भी कम कर दिया है। द्वारका में रहने वाले लोग गुड़गांव और फरीदाबाद जाने के लिए इस स्टेशन से आराम से इंटरचेंज कर अपनी मंजिल तक पहुंच जाते हैं।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source