February 7, 2023

13 साल के यश चावडे ने खेली 508 रन की पारी, जानें इससे पहले किस खिलाड़ी ने तोड़ा था सचिन और लारा का रिकॉर्ड

wp-header-logo-197.png

महाराष्ट्र के युवा बल्लेबाज यश चावडे (Yash Chavda) ने 40 ओवर के मुकाबले में 508 रन की शानदार पारी खेल इतिहास रच दिया। शुक्रवार को नागपुर में खेले गए मुंबई इंडियंस जूनियर स्कूल (U-14) क्रिकेट टूर्नामेंट (Mumbai Indians Junior School cricket tournament) में यश ने नाबाद 508 रनों की पारी खेली। वे अब ऐसे करिश्मा करने वाले दुनिया के दूसरे बल्लेबाज बन गए हैं, जिन्होंने 500 का आंकड़ा पार किया है।

नागपूर के झूलेलाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ग्राउंड में यश ने 81 चौके, 18 छक्कों की मदद से 178 गेंदों में 508 रन बनाए और टीम का स्कोर बिना किसी नुकसान के 714 रनों पर पहुंचा दिया। यश के साथ मैदान में उतरे उनके साथी बल्लेबाज तिलक वाकोडे ने 97 गेंद पर 127 रन बनाकर एक रिकॉर्ड शुरुआती विकेट की साझेदारी की। दाएं हाथ के चावडे ने पूरे भारत में इंटर-स्कूल क्रिकेट टूर्नामेंट में लिमिटेड ओवर फॉर्मेट में सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर का रिकॉर्ड बनाया। चावडे की पारी की बदौलत सरस्वती विद्यालय ने भी 40 ओवरों में 714 रनों के लक्ष्य का एक रिकॉर्ड बनाया। दूसरी पारी में सरस्वती विद्यालय ने विपक्षी टीम सिद्धेश्वर विद्यालय को 5 ओवर में 9 रन पर समेट दिया।
लिमिटेड ओवर फॉर्मेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज
13 वर्षीय चावडे लिमिटेड ओवर के क्रिकेट में 500 प्लस रन बनाकर दुनिया के दूसरे बल्लेबाज बन गए हैं। श्रीलंका के चिराथ सेलेपेरुमा अभी भी पहले नंबर पर हैं। सेलेपेरुमा ने अगस्त 2022 में अनुराधापुरा, श्रीलंका में एक अंडर 15 इंटर स्कूल टूर्नामेंट में नाबाद 553 रन बनाए थे। क्रिकेट एक्सपर्ट मोहनदास मेनन ने बताया कि चावडे सभी प्रारूपों और आयु समूहों में 500+ का स्कोर बनाने वाले केवल 10वें बल्लेबाज हैं।
ऐसी रेस में दूसरा भारतीय खिलाड़ी कौन
क्रिकेट में हर दिन रिकॉर्ड बनते और टूटते रहते हैं। बीते महीने दिसंबर 2022 को ग्रेटर नोएडा के रयान इंटरनेशनल स्कूल में खेले गए U 14 मुकाबले में तन्मय सिंह (Tanmay Singh) ने 132 गेंदों का सामना करते हुए 401 रन जड़ दिए। तन्मय ने अपनी रिकॉर्ड पारी में 30 चौके और 38 छक्के लगाए। तन्मय ने अपनी पारी से क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ दिया। सचिन ने शारदाश्रम विद्या मंदिर के लिए खेलते हुए 326 रन की पारी खेली थी। दूसरे छोर पर कांबली थे, जिन्होंने 349 रन बनाए थे।

यश ने स्केटिंग छोड़ क्रिकेट खेलना किया शुरू
यश के पिता श्रवण ने कहा, “यश ने स्केटिंग छोड़ने के बाद 11 साल की उम्र में खेलना शुरू किया था। महज तीन साल पहले यश चावड़े स्केटिंग रिंक करते थे। वह राज्य और राष्ट्रीय टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन भी कर रहे थे। स्केटिंग में अस्पष्ट भविष्य को देखते हुए, उनके पिता श्रवण ने उन्हें क्रिकेट में डालने का फैसला किया।
© Copyrights 2023. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author