January 31, 2023

युवाओं में बढ़ रहा हार्ट अटैक का खतरा, 30 के बाद इस तरह रखें अपने दिल का ख्याल

wp-header-logo-212.png

हार्ट अटैक के क्या कारण होते हैं?

Increasing Risk Of Heart Attack: बिगड़ते लाइफस्टाइल (Lifestyle) के कारण बीमारी होने की कोई फिक्स उम्र नहीं है। आजकल किसी भी उम्र के लोग हार्ट अटैक (Heart Attack) जैसी गंभीर बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, वैसे ही बीमार होने का खतरा भी बढ़ने लगता है। 30 की उम्र पार करने के बाद हमारे शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं। लोग जोड़ों में दर्द, अधिक थकान महसूस करना और साथ ही सहनशक्ति की कमी महसूस करने लगते हैं। इन समस्याओं के अलावा 30 के बाद हार्ट संबंधित बीमारियां भी बढ़ने लगती हैं। लेकिन, अगर हम हेल्दी लाइफस्टाइल को फॉलो करना शुरू करें, पौष्टिक आहार लें और एक्सरसाइज करें, तो इन समस्याओं से खुद को बचा सकते हैं।
हालांकि रूह कपकपा देने वाली सर्दी के कारण पिछले कुछ समय में हार्ट अटैक के मामले तेजी से बढ़े हैं। अब यह समस्या कम उम्र के लोगों में भी देखने को मिल रही है। आंकड़ों की मानें तो हार्ट अटैक के कुल मामलों में 30 साल से ज्यादा उम्र के लगभग 40 प्रतिशत लोग शामिल हैं। यह काफी हैरान करने वाला आंकड़ा है, इसलिए हमारे लिए 30 साल की उम्र के बाद अपने दिल का विशेष ध्यान रखना बहुत ज्यादा जरुरी हो जाता है।
किन कारणों से बढ़ रहे हार्ट अटैक के मामले
आमतौर हार्ट अटैक होने के कई कारण हो सकते हैं, लेकिन कोरोनरी आर्टरी (coronary artery) डिजीज इसका मुख्य कारण बनता है। इस बीमारी में एक या एक से ज्यादा आर्टरी का मार्ग संकरा हो जाता है, जिससे ब्लड की सप्लाई हार्ट तक ठीक से नहीं पहुंचती है। ऐसा आर्टरी में कोलेस्ट्रॉल जमा हो जाने के कारण होता है। जिसे मेडिकल भाषा में प्लॉक कहते हैं, ब्लड का रुकना ही हार्ट अटैक का सबसे बड़ा कारण है।
हार्ट अटैक आने के ये लक्षण होते हैं
– सीने में दर्द
– सीने में जकड़न
– दर्द या बेचैनी होना
– पसीना आने पर ठंड लगना
– थोड़ी सी मेहनत पर थकान
– अचानक चक्कर आना
– जी मचलाना
– सांस लेने में तकलीफ
– बाएं हाथ मे दर्द होता है
जानिए कैसे रखना है अपने दिल का ख्याल
अच्छे स्वास्थ्य के लिए संतुलित बेलेंस डाइट लेना बहुत जरूरी है। 30 की उम्र के बाद हमें अपने डेली रूटीन में हाई फाइबर कम फैट वाले आहार को शामिल करना चाहिए। ऐसे में आप ताजी सब्जियां, फल, बीन्स, कम फैट वाले डेयरी प्रोडक्ट्स का सेवन कर सकते हैं। इसके साथ ही आपको नमक, चीनी, शराब, रेड मीट का सीमित मात्रा में सेवन करें। स्वाद के साथ सेहत का ख्याल रखना बहुत जरूरी है।
धूम्रपान हुए इंसान की सेहत लिए हानिकारक होता है, कम उम्र में दिल के दौरे के बढ़ते खतरे का सबसे बड़ा कारण धूम्रपान है। इसलिए धूम्रपान की बुरी आदत को छोड़कर , आप रोगमुक्त जीवन जी सकते हैं। धूम्रपान से ब्लड प्रेशर और सूजन को बढ़ावा मिलता है। इस वजह से आर्टरी में फैट जमने लगता है। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि धूम्रपान छोड़ने के करीब एक साल बाद हृदय रोग का खतरा 50 प्रतिशत कम होता है।
अगर आप अपने शरीर से ज्यादा काम कर लेते हैं तो आपके ऊपर बीमारियों का खतरा मंडराता है। लेकिन अगर आप शरीर से पर्याप्त काम नहीं ले रहे हैं, तब भी आप हार्ट अटैक के शिकार हो सकते हैं। शारीरिक गतिविधि न होने से वजन बढ़ता है। इससे ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल भी बढ़ने लगता है। हेल्थ एक्सपर्ट की मानें तो हर किसी को प्रति सप्ताह 150 मिनट हल्की गतिविधि वाली एक्सरसाइज करनी चाहिए।
स्वस्थ वजन और बॉडी मास इंडेक्स को मेंटेन रखकर भी आप हार्ट अटैक के खतरे को काम कर सकते हैं। ज्यादा वजन और मोटापा हार्ट के अलावा दूसरी कई गंभीर बीमारियों को भी बुलावा देता है। इसलिए अपने वजन पर हमेश कंट्रोल बनाए रखें।
© Copyrights 2023. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author