September 25, 2022

Hindi Diwas 2022: भारत के साथ इन देशों में भी बोली जाती है हिंदी, जानिए विश्वभर में कैसे बढ़ रहा भाषा का कद?

wp-header-logo-335.png

Hindi Diwas 2022: हर साल 14 सितंबर को भारत में हिंदी दिवस मनाया जाता है, यह देश की आधिकारिक भाषा (Official Language Hindi) के रूप में हिंदी की लोकप्रियता को बढ़ावा देने के लिए मनाया जाता है। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 343 के तहत हिंदी भाषा को अपनाया गया था। पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 को मनाया गया, हिंदी भारत में उपयोग की जाने वाली प्रमुख भाषाओं में से एक है क्योंकि देश की आबादी का एक बड़ा हिस्सा आम बोलचाल की भाषा में हिंदी का इस्तेमाल करता है। स्कूल, कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थान कविता प्रतियोगित और डिबेट जैसे कार्यक्रम आयोजित करके हिंदी दिवस (Hindi Diwas 2022) को बड़े ही उत्साह से मनाते हैं।
हिंदी दिवस देश की आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप में हिंदी को अपनाने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। 14 सितंबर, 1949 को राष्ट्रीय संविधान द्वारा हिंदी को अपनाया गया और यह देश की आधिकारिक भाषा बन गई। अंग्रेजों से मिली आजादी के बाद भारत के पहले प्रधानमंत्री बने जवाहरलाल नेहरू (Jawaharlal Nehru) ने 14 सितंबर को हिंदी दिवस (14 September Hindi Diwas) के रूप में मनाने का फैसला किया। हिंदी दिवस यानी 14 सितंबर के दिन व्यौहार राजेन्द्र सिंह (Beohar Rajendra Simha) का जन्मदिन भी मनाया जाता है, जिन्होंने देवनागरी लिपि में हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार करवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनका जन्म 14 सितंबर 1916 में हुआ था।

हिंदी भाषा से जुड़े रोचक तथ्य (Amazing Facts about Hindi Language)

हिंदी भाषा देवनागरी लिपि में लिखी गई है और संस्कृत की वंशज है।

भारत में 50 करोड़ से अधिक लोग हिंदी बोलते हैं।

आमतौर पर इस्तेमाल होने वाले हिंदी शब्द जैसे ‘सूर्य नमस्कार’ और ‘जुगाड़’ ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी का हिस्सा हैं।

हिंदी भाषा की पहली पत्रिका 2000 में इंटरनेट पर प्रकाशित हुई थी।

हिंदी शब्द फारसी शब्द हिंद से लिया गया है जिसका अर्थ है “सिंधु नदी की भूमि”।

हिंदी विश्व की चौथी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। पहले तीन चीनी, स्पेनिश और अंग्रेजी हैं।

हिंदी नेपाल, पाकिस्तान, श्रीलंका, न्यूजीलैंड, संयुक्त अरब अमीरात, बांग्लादेश, मॉरीशस, टोबैगो आदि देशों में बोली जाती है।

केंद्रीय हिंदी निदेशालय, भारत सरकार हिंदी भाषा से संबंधित प्रावधानों को विनियमित करती है।

भारत का पहला राज्य जिसने हिंदी को अपनी आधिकारिक भाषा के रूप में स्वीकार किया वह बिहार था।

पहली हिंदी कविता अमीर खुसरो द्वारा रचित और जारी की गई थी।

भारत के पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने 1977 में संयुक्त राष्ट्र में हिंदी भाषा में भाषण दिया था।

जानिए क्या है आर्टिकल 343 (Article 343: Official Language of the Union)

1. अनुच्छेद 343 के अनुसार हिंदी भाषा की देवनागरी लिपि संघ की राजभाषा होगी। इसमें यह भी प्रावधान किया गया है कि हिंदी के साथ-साथ अंग्रेजी भाषा का प्रयोग संविधान के लागू होने की तारीख से 15 और वर्षों तक, यानी 25 जनवरी 1965 तक जारी रहेगा।

2. अनुच्छेद 343 के भाग 3 में संसद को 25 जनवरी 1965 के बाद भी आधिकारिक उद्देश्यों के लिए अंग्रेजी भाषा के उपयोग को जारी रखने के लिए कानून बनाने की शक्ति निहित है।

3. संविधान यह स्पष्ट करता है कि राष्ट्रपति आदेश द्वारा संघ के किसी भी आधिकारिक उद्देश्यों के लिए हिंदी भाषा के उपयोग को मंजूरी दे सकते हैं।

4. इन परिस्थितियों में, संसद ने राजभाषा अधिनियम 1963 को अधिनियमित किया। राजभाषा अधिनियम, 1963 की धारा 3 जनवरी 1965 के दिन लागू हुई और संघ के अंग्रेजी भाषा के आधिकारिक उद्देश्यों को जारी रखने, संसद में लेनदेन और व्यवसाय के लिए प्रदान की गई।

5. इस अधिनियम ने यह भी निर्धारित किया कि अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषाओं का इस्तेमाल कई उद्देश्यों के लिए किया जाएगा, जैसे आदेश देना, संकल्प पारित करना, अधिसूचनाएं, नियम, समझौते, लाइसेंस, अनुबंध, नोटिस, निविदा प्रपत्र आदि।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author