November 26, 2022

आजादी के 75वें साल में कोटा शहर की सड़कों की हालत ऐसी कर दी, बुझा रही घरों के चिराग: गुंजल

wp-header-logo-287.png

news website
कोटा. कोटा उत्तर के पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल ने शनिवार को कोटा शहर के विकास पर सवाल उठाते हुए कहा कि आजादी के 75वें साल में अमृत महोत्सव के अवसर पर शहर की सड़कों की कल्पना पेरिस जैसी होनी चाहिए थी, लेकिन यहां तो हालत ऐसी कर दी कि सारी सड़कें जानलेवा हो गई। सड़कें कम, गड्ढे ज्यादा हैं। रोज दुर्घटनाएं हो रही हैं और अब तक 26 परिवारों के चिराग बुझ गए।
कोटा शहर में उखड़ी व टूटी हुई सड़कों, जानलेवा गड्ढों व अनियोजित विकास के विरोध में पूर्व विधायक प्रहलाद गुंजल के नेतृत्व में शनिवार को रैली निकालकर आक्रोश जताया गया। इस रैली में बड़ी संख्या में कार्यकर्ता शामिल हुए। सुबह 10 बजे से ही कार्यकर्ता बड़े जत्थों के रूप में हाथों में तिरंगा व भाजपा का झंडा लिए नारे लगाते हुए मल्टीपरपज स्कूल पहुंचे। करीब 11:30 बजे गुंजल के नेतृत्व में मल्टीपरपज स्कूल से रवाना हुई रैली में भारी संख्या में उपस्थित कार्यकर्ताओं का जोश देखते ही बन रहा था।
रैली के प्रारंभ में गुंजल ने कार्यकर्ताओं से अनुशासन बनाए रखने की अपील की। रैली में गुंजल सबसे आगे खुली गाड़ी में चल रहे थे, वही कार्यकर्ता भ्रष्टाचार बंद करो, अनियोजित विकास बंद करो, टूटी सड़कें सही करो, नरेंद्र मोदी जिंदाबाद, बीजेपी जिन्दाबाद जैसे नारे लगाते चल रहे थे। रैली गुमानपुरा से प्रारंभ होकर सूरजपोल, कैथूनीपोल, गंधीजी का पुल, श्रीपुरा, सब्जीमंडी, अग्रसेन बाजार, रामपुरा, लाडपुरा, नयापुरा होते हुए कलेक्ट्री पहुंच सभा में परिवर्तित हो गई।
Prahlad Gunjal

सभा को संबोधित करते हुए गुंजल ने कहा कि हमारी सरकार आने पर जितनी भी गड़बड़ियां हो रही हैं, सबकी जांच कराएंगे। अधिकारी गलत काम करने से बचें। वरना गलत काम करने वाले अधिकारियों को भी जेल जाना पड़ेगा। गुंजल ने कहा कि आज पूरा देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगे को स्वदेशी तोपों से सलामी दी जाएगी, यह संकेत है कि देश तरक्की कर रहा है।
कोटा शहर भी घर-घर तिरंगा फहरा रहा है। लेकिन आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर मुझे बहुत तकलीफ के साथ कहना पड़ रहा है सारे शहर में विकास का ढिंढोरा पीटने वाले मंत्रीजी ने शहर की सड़कों की हालत ऐसी कर दी कि यहां 26 परिवारों के चिराग बुझ गए। अंधेरा छा गया उन 26 परिवारों में। ये 26 परिवार अनियोजित विकास की भेंट चढ़ गए। सारा शहर उखड़ा पड़ा है, कोई गली नहीं जहां आसानी से व्यक्ति निकल जाए अब तो अखबारों में भी आने लग गया है, ‘सावधान किसी को रेलवे स्टेशन जाना हो तो एक घंटा पहले निकले आज इधर का रास्ता बंद है उधर का चालू है।’
रजत सिटी को मेन रोड पर लाने के लिए कुन्हाड़ी चौराहे को बिगाड़ा
गुंजल ने यह भी आरोप लगाया कि कुन्हाड़ी में यूआईटी के जरिए करोड़ों रुपए की बर्बादी इसलिए कराई जा रही है कि चौराहे पर स्थित रजत सिटी में पहली व दूसरी मंजिल पर मौजूद उनके बेटे की प्रॉपर्टी मेन रोड पर आ जाए, प्रॉपर्टी की कीमत बढ़ जाए। जिसकी रजिस्ट्री भी हो गई है। इसलिए सारे रास्ते वंडर मार्ट के आगे से निकाल दिए और पूरे चौराहे को दुर्घटना ग्रस्त क्षेत्र बना दिया गया।
गुंजल ने कहा कि शहर में जो डेकोरेटिव लाइट के खंभे लगाए जा रहे हैं, उनकी कीमत तीस हजार रुपए हैं जबकि एक-एक खंभे का लाखों रुपए का भुगतान कर रही है। इससे पूर्व संचालन करते हुए पूर्व पार्षद बृजेश शर्मा नीटू ने अपने संबोधन में शहर में चल रहे कामों को अनियोजित विकास बताते हुए गंभीर आरोप लगाए। प्रदर्शन में पूर्व मंडल अध्यक्ष पंकज साहू, शिव नारायण शर्मा, किशन प्रजापति, प्रेम सिंह गौड़, सत्तू लोधा, पार्षद बलविंदर सिंह बिल्लू, राकेश पुटरा, बीरबल लोधा, नवल हाड़ा, नंद लाल मेवाड़ा, पूर्व पार्षद विकास तंवर, इंद्र कुमार जैन,चंद्रप्रकाश सोनी, वरिष्ठ कार्यकर्ता पंडित अनिल औदिच्य, प्रताप भान सिंह, मनीष शर्मा, प्रशांत सक्सेना, घनश्याम कुमावत, प्रवीण अग्रवाल, राजेन्द्र महावर, कौशल मेहरा सहित कई कार्यकर्ता उपस्थित रहे।
नयापुरा चौराहे को बना दिया प्रयोगशाला
गुंजल ने आरोप लगाया कि विकास के नाम पर नयापुरा चौराहे को प्रयोगशाला बना कर रख दिया है। क्या हुआ उस गोबरिया बावड़ी के अंडरपास का, जिसे रोज बैरिकेड लगाकर बंद करना पड़ रहा है? जेडीबी कॉलेज, पॉलिटेक्निक कॉलेज चौराहे सहित शहर के सभी चौराहों को भूल भुलैया व एक्सीडेंटल जोन बनाकर रख दिया। रोज दुर्घटनाएं हो रही हैं लगातार शहर के डॉक्टर बयान दे रहे हैं कि शहर की उधड़ी व टूटी पड़ी सड़कों के कारण शहर में आॅर्थो व न्यूरो के मरीज बढ़ रहे।
स्मार्ट सिटी के ढाई हजार करोड़ रुपए खर्च करने की जल्दी में शहर रेडलाइट मुक्त तो नहीं बना, पर भूल भुलैया व एक्सीडेंटल जोन युक्त शहर जरूर बन गया है। गुंजल ने सरकार को चेतावनी दी कि वह सड़कों की मरम्मत कर गड्ढे भरवाए, अन्यथा कार्यकर्ता घर-घर जाकर सरकार के खिलाफ अलख जगाएंगे।
Your email address will not be published. Required fields are marked *







This is the News Website by Chambal Sandesh
Rajasthan, Kota
THIS IS CHAMBAL SANDESH YOUR OWN NEWS WEBSITE

  • एजुकेशन
  • कर्नाटक
  • कोटा
  • गुजरात
  • Chambal Sandesh

    source

    About Post Author