August 9, 2022

प्रदेश के 9 जिलों में दो दिन से अच्छी बारिश, आबू रोड में होटल की बिल्डिंग गिरी

wp-header-logo-165.png

जयपुर। राजस्थान के कई हिस्सों में मौसम का मिजाज बदल चुका है। प्रदेश में मानसून को लेकर अच्छी खबर है। राज्य में डूंगरपुर-बांसवाड़ा के रास्ते 10 दिन में मानसून की एंट्री हो सकती है। प्रदेश के कई हिस्सों में मौसम का मिजाज बदल चुका है। बीते 48 घंटों से उदयपुर, कोटा संभाग के साथ ही पाली जिले के कुछ हिस्सों में प्री मानसून की बारिश हुई है। रविवार रात को सिरोही, उदयपुर में 2 इंच तक बारिश हुई। आबूरोड में मावल हाईवे पर तेज बारिश में होटल गिर गया, जिससे जहां खड़ी गाड़ियां चपेट में आ गई। वहीं सोमवार को अधिकांश जिलों में बादल छाए रहे, जिससे लोगों को गर्मी से राहत मिली। मानसून 20 जून तक राजस्थान की सीमा में एंट्री हो सकती है।
9 जिलों में अच्छी बारिश
प्रदेश के जयपुर, कोटा, उदयपुर, भरतपुर, जोधपुर और अजमेर संभाग के 29 जिलों में आज सुबह से आसमान बादलों से ढका है। वहीं, धूप नहीं निकलने से लोगों को गर्मी से राहत मिली। इससे पहले रविवार देर शाम से आज सुबह तक दक्षिणी राजस्थान के 9 जिलों में अच्छी बारिश हुई।
होटल की बिल्डिंग गिरी, कई गाड़ियां चपेट में आई
सिरोही के आबू रोड पर पिछले 24 घंटे के दौरान 43MM बरसात हुई। इसी तरह बांसवाड़ा के घाटोल, सलोपत, शेरगढ़, सज्जनगढ़, कुशलगढ़, धौलपुर के सरमथुरा, बाड़ी, करौली के हिण्डौन, उदयपुर के झाड़ोल और अलवर, जयपुर जिले के कई हिस्सों में भी बारिश हुई। अलवर में 26MM तक बारिश हुई। बारिश के दौरान आबूरोड के मावल हाईवे पर बड़ा हादसा हो गया। तेज बारिश में होटल गिर गया, जिससे जहां खड़ी गाड़ियां चपेट में आ गई।
भीषण गर्मी और उमस का सितम जारी
प्री मानसून की बारिश के साथ ही उमस ने सताना शुरू कर दिया है। बीती रात अधिकतर जिलों में रात के तापमान में बढ़ोतरी दर्ज की गई। 15 जिलों में बीती रात का तापमान पहुंचा 30 डिग्री के पार पहुंच गया। 33.3 डिग्री के साथ धौलपुर में सबसे गर्म रात रही। राजधानी जयपुर में भी रात का पारा 31.7 डिग्री पर पहुंचा। करीब दो दर्जन जिलों में रात का पारा 27 डिग्री के पार दर्ज किया गया। कल प्रदेश के करीब आधा दर्जन जिलों में प्री मानसून की बारिश का असर रात को देखने को मिला।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source

About Post Author