September 25, 2022

Knowledge News: क्या है SWIFT, जिससे अमेरिका ने रूस को किया अलग

wp-header-logo-245.png

Knowledge News: संयुक्त राज्य अमेरिका (United States Of America) और यूरोपीय संघ (European Union) ने रूस पर आर्थिक दबाव डालने के लिए स्विफ्ट (SWIFT) को अपना हथियार चुना है। दुनिया के सबसे महत्वपूर्ण पेमेंट नेटवर्क स्विफ्ट (Payment Network SWIFT) से कई रूसी वित्तीय संस्थानों (Russian Financial Institutions) को अलग कर दिया गया है। मॉस्को (Moscow) की अपने विदेशी भंडार तक पहुंच को सीमित करते हुए केंद्रीय बैंकों की संपत्ति भी फ्रीज की जा सकती हैं। ये प्रतिबंध मास्को के खिलाफ सबसे कठोर हैं, क्योंकि रूस की सेना (Russian Army) ने यूक्रेन (Ukraine) पर आक्रमण किया है और उनका एक ऐसे देश पर पर्याप्त प्रभाव पड़ने का अनुमान है। जो महत्वपूर्ण प्राकृतिक संसाधन लेनदेन, विशेष रूप से तेल और गैस निर्यात के लिए स्विफ्ट प्लेटफॉर्म पर बहुत अधिक निर्भर करता है। किसी देश को स्विफ्ट से अलग करना ऐसा है जैसे उसे वित्तीय दुनिया में उस देश के इंटरनेट एक्सेस को रोक देना। अपनी इस स्टोरी में हम आपको बताएंगे कि स्विफ्ट असल में किस चिड़िया का नाम है और रूस को इससे अलग करने का क्या मतलब है।
क्या है स्विफ्ट (What is SWIFT)
स्विफ्ट सिस्टम या सोसाइटी फॉर वर्ल्डवाइड इंटरबैंक फाइनेंशियल टेलीकम्युनिकेशन, एक सुरक्षित इंफ्रास्ट्रक्चर है, जो वित्तीय संस्थानों को धन हस्तांतरण जैसे वैश्विक मुद्रा के लेनदेन के बारे में जानकारी का आदान-प्रदान करने देता है। जबकि स्विफ्ट सीधे धन का हस्तांतरण नहीं करता है, यह 200 से अधिक देशों में 11,000 से अधिक संस्थानों के लिए एक बिचौलिया के रूप में कार्य करता है, जो सुरक्षित वित्तीय संचार सेवाएं प्रदान करते हैं। इसका मुख्यालय बेल्जियम में है और इस पर ग्यारह औद्योगिक देशों कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, नीदरलैंड, स्वीडन, स्विट्जरलैंड, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा कंट्रोल रखा जाता है।
रूस को इससे अलग करने से क्या होगा
स्विफ्ट प्लेटफॉर्म से रूसी बैंकों को बाहर करने से देश की अर्थव्यवस्था पर भारी असर पड़ने की उम्मीद है। अगर व्हाइट हाउस के शब्दों में कहें तो यह देश को भुगतान करने के लिए टेलीफोन या फैक्स मशीन पर निर्भर कर देगा। जैसा कि आप जानते हैं कि कुछ रूसी बैंकों को ही इससे अलग किया गया है, जिसका मतलब है कि दोनों को आगे बढ़ने का ऑप्शन खुला रखना है। इसके साथ ही इसका मतलब यह सुनिश्चित करना है कि प्रतिबंधों का मास्को पर अधिकतम संभव प्रभाव हो, लेकिन रूसी बैंकों के साथ उनके गैस आयात के भुगतान के लिए यूरोपीय कंपनियों पर बड़े प्रभाव को रोका जा सके। इसके साथ ही, रूस के केंद्रीय बैंक पर प्रतिबंध प्रभाव को सीमित करने के लिए इसे अपनी जमा विदेशी मुद्रा को डूबने से बचाने के लिए भी लगाया गया है।
इसके साथ ही आपको बताते चलें कि मॉस्को इसी तरह का एक सॉफ्टवेयर बनाने की कोशिश में है, लेकिन अभी तक कोई सफलता नहीं मिली है। पिछले सात वर्षों से, रूस विकल्पों पर काम कर रहा है। जिसमें सिस्टम फॉर ट्रांसफर ऑफ मनी मैसेज भी शामिल है, जो कि रूसी सेंट्रल बैंक के स्विफ्ट मनी ट्रांसफर सिस्टम का एक एनालॉग है। सूत्रों के अनुसार, रूस इस पर चीन के साथ मिलकर काम कर रहा है। अब ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा कि क्या मॉस्को आंशिक प्रतिबंध को दूर करने के लिए इस मंच का कुछ हद तक लाभ उठा सकता है, जिसे जल्द ही पूर्ण रूप से बढ़ाया जा सकता है।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author