January 20, 2022

शीतलहर ने छुड़ाई धूजणी, घने कोहरे से सड़क और रेल यातायात भी प्रभावित

wp-header-logo-295.png

जयपुर। राजस्थान में कड़ाके की ठंड का दौर जारी है। दरअसल, बारिश के बाद तापमान में गिरावट आई है। इस वजह से ठंड में इजाफा हुआ है। राज्य के सीकर और भीलवाड़ा में न्यूनतम तापमान चार डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विभाग के अनुसार राज्य के अनेक हिस्से आने वाले दिनों में शीत लहर और कोहरे की चपेट में रहेंगे। घने कोहरे की वजह से सड़क और रेल यातायात प्रभावित हो रहा है। उसके अनुसार बीती रात सबसे कम न्यूनतम तापमान सीकर और भीलवाड़ा में चार-चार डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं फतहपुर में यह 4.4 डिग्री, चित्तौड़गढ़ में 4.6 डिग्री, नागौर में 5.0 डिग्री, पिलानी में 5.9 डिग्री, चुरू में 6.3 डिग्री, संगरिया में 6.5 डिग्री, बीकानेर में 6.6 डिग्री और गंगानगर में 6.8 डिग्री सेल्सियस रहा।
कोहरे और शीतलहर से जनजीवन प्रभावित
गुरूवार सुबह घना कोहरा छाया रहा। देर सुबह तक भी कोहरे की चादर छाई रही। सुबह से ही सूर्यदेव भगवान ने दर्शन नहीं दिए और सर्द हवाओं ने लोगों को कंपा कर रख दिया। हाईवे पर वाहन दिखाई नहीं दिए। शहर के बीच गांधी तिराहे पर भी वाहन लाईट जलाकर गुजरते देखे गए। शीतलहर से लोगों का जनजीवन प्रभावित कर दिया, लोग ठिठुरते रहे। खास कर गांवों में स्कूल जाने वाले छोटे बालकों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। ऐसे में सुबह से ही जगह-जगह लोग अलाव जला कर तापते नजर आए।
मौसम विभाग का येलो अलर्ट जारी
मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों तक राज्य के अलवर, भरतपुर, झुंझुनू, सीकर, बीकानेर, चुरू, हनुमानगढ़, गंगानगर और नागौर आदि जिलों में शीत लहर चलने एवं कोहरा छाए रहने की चेतावनी (येलो अलर्ट) जारी की है. वहीं बाजारों से सुबह दुकानें देरी से खुली। लोग गर्म कपड़ों में लिपटे रहे फिर भी सर्दी से धूजणी लगी रही। इधर चाय की दुकानों पर भी दिनभर भीड़ नजर आई। तापमान का पारा भी पांच डिग्री सेल्सियस पर आ गया।
जमीं ओस की बूंद
सुबह फसलों के पत्तों पर ओस की बूंदे भी जमी दिखाई दी। यहां मावठ के बाद एकाएक तापमान में हुई गिरावट के बाद बढ़ी सर्दी ने लोगों के कंपकंपी छुडाकर रख दी है। हालात यह हैं कि बंद कमरे में भी लोगों के धूजणी छूटती रही। सर्दी के कहर के चलते लोगों का जनजीवन और दिनचर्या प्रभावित हुई।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source