May 21, 2022

Health Tips: दिल को रखना है हेल्दी तो इन आदतों को अपने लाइफस्टाइल में करें शामिल

wp-header-logo-245.png

Health Tips: दिल की बीमारी (Heart Diseases) दुनिया भर में होने वाली मृत्यु के प्रमुख कारणों में से एक है। कभी-कभी, बिना कोई चेतावनी के संकेत दिए, ये हृदय की स्थितियां बहुत गंभीर साबित होती हैं, यही कारण है कि नियमित रूप से अपने दिल की जांच करवाना बहुत महत्वपूर्ण हो गया है। एक हेल्दी हार्ट (Healthy Heart) पूरे अच्छे स्वास्थ्य का केंद्र है और हृदय के अनुकूल लाइफस्टाइल का पालन करने से दिल की बीमारियों को रोका जा सकता है। इसके साथ ही संतुलित आहार और बाहरी कारकों का ध्यान रखना भी दिल को हेल्दी रखने के लिए बहुत जरूरी है। यहां हम आपको दिल को हेल्दी रखने की कुछ टिप्स बताएंगे…
अनहेल्दी स्नैक्स हैबिट
खाने को लेकर हमारी खराब आदतें फिजिकल इनएक्टिविटी, शराब और धुम्रपान की तुलना में स्वास्थ्य को ज्यादा नुकसान पहुंचाते हैं। सैचुरेटेड फैट और ट्रांस फैट ये दो बैड फैट हैं जो हमारे हार्ट हेल्थ के लिए हानिकारक साबित होते हैं। आजकल इनका सेवन हमारे आहार के माध्यम से बड़ी मात्रा में सेवन किया जा रहा है। आलू के चिप्स का एक पैकेट एक व्यक्ति में फैट की आधी मात्रा को पूरा कर देता है। वहीं अगर आप चाय के साथ भुजिया खाते हैं, तो आपको कैलोरीज के साथ नमक और ट्रांस फैट की हाई मात्रा फ्री मिल जाती है। वहीं फ्राइज फैट से भरी हुईं होती हैं। अधिकांश स्नैक्स में इस्तेमाल किया जाने वाले तेल में कम से कम 13-19 प्रतिशत सैचिरेटेड फैट होता है। इसलिए फ्राइड फूड से बचें और भुनें चने, फल और मल्टी ग्रेन बिस्किट को अपनी स्नैक्स आदतों में शामिल करें। अपने शुगर इन्टेक को बैलेंस करें और ताजे फल-सब्जियों का इस्तेमाल करें।
ज्यादा नमक
आहार में अत्यधिक नमक हाई ब्लडप्रेशर में योगदान देता है जो हृदय रोग, दिल का दौरा और कंजेस्टिव दिल की खराबी का एक प्रमुख कारण है। बहुत अधिक नमक खाने से शरीर में बहुत अधिक पानी बना रहता है या जमा हो जाता है, जिससे दिल की खराबी से जुड़े द्रव का निर्माण बिगड़ जाता है। वयस्कों को प्रतिदिन 6 ग्राम से कम नमक खाना चाहिए – यानी लगभग एक चम्मच। इसमें वह नमक शामिल है जो ब्रेड जैसे रेडीमेड खाद्य पदार्थों में पहले से होता है, साथ ही वह नमक जो आप खाना पकाने के दौरान और टेबल पर मिलाते हैं। बच्चों को अपनी उम्र के हिसाब से बड़ों से कम नमक खाना चाहिए।
फिजिकल एक्टिविटी की कमीं
शारीरिक गतिविधि की कमी के साथ हाई ब्लडप्रेशर, दिल का दौरा, स्ट्रोक और अन्य हृदय संबंधी समस्याओं सहित कई जोखिम होते हैं। अपने समग्र स्वास्थ्य को प्रभावी ढंग से सुधारने के लिए आप सबसे सरल, सकारात्मक परिवर्तन कर सकते हैं, चलना शुरू करें। रोजाना 30-40 मिनट की ब्रिस्क वॉक करें, इससे आपका हार्ट हेल्दी रहेगा। वहीं एक्सपर्ट एक हफ्ते में 150 मिनट मीडियम एक्सरसाइज या फिर 75 मिनट विगरस एक्सरसाइज करने की सलाह देते हैं।
शराब का अत्याधिक सेवन
अत्यधिक शराब हाई ब्लड प्रेशर, ब्लड फैट का हाई लेवल और दिल की खराबी के अधिक जोखिम से जुड़ा हुआ है। इसके अलावा, अतिरिक्त कैलोरी से वजन बढ़ सकता है, हृदय स्वास्थ्य के लिए खतरा हो सकता है। शराब की कोई भी मात्रा आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छी या निर्धारित नहीं है।
धूम्रपान और तंबाकू चबाना
धूम्रपान से हृदय रोग विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है, जिसमें कोरोनरी हृदय रोग और स्ट्रोक शामिल हैं। इस प्रकार धूम्रपान आपकी धमनियों के अस्तर को नुकसान पहुंचाता है, जिससे वसायुक्त पदार्थ (एथेरोमा) का निर्माण होता है जो धमनी को संकरा कर देता है। इससे एनजाइना, दिल का दौरा या स्ट्रोक हो सकता है। तंबाकू के धुएं में कार्बन मोनोऑक्साइड आपके रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा को कम कर देता है। इसका मतलब है कि आपके दिल को शरीर को आवश्यक ऑक्सीजन की आपूर्ति करने के लिए अधिक पंप करना पड़ता है। निष्क्रिय धूम्रपान करने वालों के लिए भी यह बुरा है।
अत्यधिक तनाव
स्ट्रेस सीधा-सीधा आपके दिल पर प्रभाव न डाल कर इसे अन्य तरह से प्रभावित करता है। यह संभव है कि तनाव आपके ब्लडप्रेशर को बढ़ा सकता है, आपको अधिक खाने पर मजबूर कर सकता है, आप स्ट्रेस के कारण कम एक्सरसाइज करते हैं और अधिक धूम्रपान कर सकता है और इस प्रकार आपको हृदय की समस्या होने की संभावना बढ़ सकती है। तनाव को मैनेज करना आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। हालांकि अपने जीवन को पूरी तरह से तनाव मुक्त जीना असंभव है, लेकिन किसी के दिल पर तनाव के हानिकारक प्रभावों को कम करने के लिए अपनी जीवन शैली में कुछ बदलाव करना संभव है। आराम करने के लिए समय निकालें, अपने आप को एक शौक या मनोरंजक गतिविधि में शामिल करें, ध्यान और सांस लेने के व्यायाम को अपने लाइफ स्टाइल में शामिल करें जो अच्छे तनाव निवारक हो सकते हैं।
नोट: यहां दी गई जानकारी सामान्य है, दिल के मामले में एक्सपर्ट की सलाह लेना अति आवश्यक है।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source