May 21, 2022

Knowledge News: हर भारतीय नागरिक के पास है 6 मौलिक अधिकार, क्या इनकी डिटेल्स जानते हैं आप?

wp-header-logo-178.png

Knowledge News: हमारा भारत (India) दुनिया का सबसा बड़ा लोकतांत्रिक देश (Democratic Country) है। हमारे संविधान (Indian Constitution) के तहत भारत के नागरिकों को कई सारे अधिकार मिलें हैं। अपनी इस स्टोरी में हम बात करेंगे मौलिक अधिकारों (Fundamental Rights) के बारे में। हम यहां आपको विस्तार से समझाएंगे कि मौलिक अधिकार क्या होते हैं और भारत में मिलने वाले 6 मौलिक अधिकार कौन-कौन से हैं और संविधान के किस अनुच्छेद (Article) के अंतर्गत आते हैं।
क्या है मौलिक अधिकार?
मौलिक अधिकार भारत के संविधान में निहित अधिकारों का एक चार्टर है। मौलिक अधिकारों ने सभी भारतीयों को यह सुनिश्चित करने का आश्वासन दिया कि हम भारत के नागरिकों के रूप में शांति और सद्भाव से रहें। भारत में मौलिक अधिकार हमारे संविधान के भाग III के अनुच्छेद 12-35 के तहत हर भारतीय नागरिक को मिलने वाले अधिकार हैं। हमारे संविधान में भारत के नागरिकों को कुल 7 मौलिक अधिकार दिए गए थे, लेकिन बाद में इनमें से संपत्ति के अधिकार को खत्म कर दिया गया। यहां हम आपको 6 मौलिक अधिकारों के बारे में विस्तार से बताएंगे…
1. समानता का अधिकार (Right to Equality)
समानता का अधिकार यह सुनिश्चित करता है कि कानून के तहत प्रत्येक नागरिक समान है। इसलिए, किसी भी व्यक्ति को उम्र, लिंग, जाति, पंथ, धर्म, भाषा और सामाजिक स्थिति के बावजूद समान माना जाता है। समानता का अधिकार यह सुनिश्चित करता है कि सभी व्यक्तियों के साथ समान व्यवहार किया जाए। समानता का अधिकार के तहत भारत में धर्म, नस्ल, जाति, लिंग या जन्म स्थान के आधार पर भेदभाव करना हमारे देश में अवैध है।
संविधान में निम्नलिखित अनुच्छेद सभी भारतीयों के लिए समानता का अधिकार सुनिश्चित करते हैं।
अनुच्छेद 14 (Article 14)– कानून के समक्ष समानता।
अनुच्छेद 15 (Article 15)– केवल लिंग, धर्म, मूलवंश, जाति या जन्म स्थान के आधार पर भेदभाव का निषेध।
अनुच्छेद 16 (Article 16)– सार्वजनिक रोजगार के मामलों में अवसर की समानता।
अनुच्छेद 17 (Article 17)– अस्पृश्यता का उन्मूलन।
अनुच्छेद 18 (Article 18)– उपाधियों का उन्मूलन, सैन्य और शैक्षणिक भेदों को छूट दी गई है।
2. स्वतंत्रता का अधिकार (Right to Freedom)
भारतीय नागरिकों को संविधान के अनुसार छह स्वतंत्रताएं प्राप्त हैं। स्वतंत्रता का अधिकार यह सुनिश्चित करता है कि भारतीय नागरिक सरकार द्वारा अनुचित प्रतिबंध, उत्पीड़न या निगरानी के बिना अपने दैनिक जीवन को शांतिपूर्ण ढंग से चला सकें। संविधान के अनुच्छेद 19 के तहत छह मौलिक स्वतंत्रताएं प्रदान की गईं हैं।
अनुच्छेद 19 के अलावा संविधान के निम्नलिखित अनुच्छेद सभी भारतीय नागरिकों के लिए स्वतंत्रता का अधिकार सुनिश्चित करते हैं।
अनुच्छेद 20 (Article 20)– अपराधों के लिए दोषसिद्धि के संबंध में संरक्षण।
अनुच्छेद 21 (Article 21)– जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता की सुरक्षा।

अनुच्छेद 22 (Article 22)– कुछ मामलों में गिरफ्तारी और नजरबंदी के खिलाफ संरक्षण।
3. शोषण के खिलाफ अधिकार (Right against Exploitation)
सभी भारतीय नागरिकों को शोषण या दुरुपयोग के खिलाफ अधिकार प्राप्त है। संविधान के तहत प्रदान किया गया शोषण के खिलाफ अधिकार बच्चों, कमजोर और गरीबों को बंधुआ मजदूरी, बाल श्रम और मानव तस्करी से बचाता है। संविधान में निम्नलिखित अनुच्छेद सभी भारतीयों के लिए शोषण के खिलाफ अधिकार सुनिश्चित करते हैं।
अनुच्छेद 23 (Article 23)– मानव तस्करी और जबरदस्ती मजदूरी का निषेध।
अनुच्छेद 24 (Article 24)– बच्चों के रोजगार पर रोक (14 वर्ष से कम आयु वाले)।
4. धर्म की स्वतंत्रता का अधिकार (Right to Freedom of Religion)
भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है जहां विभिन्न धर्मों के लोग सद्भाव में रहते हैं। भारतीय नागरिक अपनी पसंद के धर्म का पालन कर सकते हैं और अपने धार्मिक रीति-रिवाजों के अनुसार अनुष्ठान या गतिविधियां कर सकते हैं। संविधान के अनुसार, सभी धर्म राज्य के समक्ष समान हैं, और किसी भी धर्म को दूसरे पर वरीयता नहीं है। इसके अलावा, भारतीय नागरिक अपनी पसंद के किसी भी धर्म का प्रचार, अभ्यास और प्रसार करने के लिए स्वतंत्र हैं। संविधान में निम्नलिखित अनुच्छेद धर्म की स्वतंत्रता का अधिकार सुनिश्चित करते हैं।
अनुच्छेद 25 (Article 25)– अंतःकरण की स्वतंत्रता और धर्म के स्वतंत्र व्यवसाय, आचरण और प्रचार-प्रसार की स्वतंत्रता।
अनुच्छेद 26 (Article 26)– धार्मिक मामलों के प्रबंधन की स्वतंत्रता।
अनुच्छेद 27 (Article 27)– किसी विशेष धर्म के प्रचार के लिए कर देने की स्वतंत्रता – किसी भी व्यक्ति को किसी विशेष धर्म या धार्मिक संप्रदाय के प्रचार या रखरखाव के लिए कोई कर देने के लिए बाध्य नहीं किया जाता है।
अनुच्छेद 28(Article 28)– कुछ शैक्षणिक संस्थानों में धार्मिक शिक्षा या धार्मिक पूजा में उपस्थिति के बारे में स्वतंत्रता।
5. सांस्कृतिक और शैक्षिक अधिकार (Cultural and Educational Rights)
संविधान में सांस्कृतिक और शिक्षा अधिकार अल्पसंख्यकों के अधिकारों और रीति-रिवाजों की रक्षा करते हैं। इसके अलावा, संविधान किसी भी समुदाय के लिए जिसकी एक भाषा है, और उसकी अपनी एक लिपि को इसे संरक्षित और विकसित करने का अधिकार प्रदान करता है। संविधान में निम्नलिखित अनुच्छेद सांस्कृतिक और शिक्षा अधिकारों की रक्षा करते हैं।
अनुच्छेद 29 (Article 29)– अल्पसंख्यकों के हितों का संरक्षण।
अनुच्छेद 30 (Article 30)– अल्पसंख्यकों का शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना और प्रशासन का अधिकार।
6. संवैधानिक उपचारों का अधिकार (Right to Constitutional Remedies)
संविधान का अधिकार उपचार भारतीय नागरिकों को मौलिक अधिकारों से किसी भी तरह के इनकार के मामले में अदालत का दरवाजा खटखटाने का अधिकार देता है। यह अधिकार न्यायालयों को संविधान में निर्धारित नागरिकों के मौलिक अधिकारों को संरक्षित करने या उनकी रक्षा करने का अधिकार भी देता है।
अनुच्छेद 32 (Article 32)– अधिकारों के प्रवर्तन के उपाय।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source