January 20, 2022

मुख्यमंत्री के रूप में वसुन्धरा राजे बनी जनता की पहली पसंद, गहलोत-शेखावत की परफॉर्मेंस मंद

wp-header-logo-12.png

जयपुर। राजस्थान में विधानसभा चुनाव दिसंबर, 2023 में होने हैं। लेकिन कांग्रेस सरकार की निम्न परफॉर्मेंस को देखते हुए सीएम गहलोत के खिलाफ आमजन का गुस्सा स्पष्ट देखा जा रहा है। प्रदेश में रोज दुष्कर्म, अपहरण व हत्या जैसे अपराधों का बोलबाला है, वहीं बिजली व पेट्रोल-डीजल की महंगी दरें भी राजस्थानवासियों के लिए बड़ा सिरदर्द बनी हुई है। यही कारण है कि सोशल मीडिया पर अक्सर लोग एक बेहतर मुख्यमंत्री का चुनाव करते दिख रहे हैं और इन सब में बाजी मार रही है भारतीय जनता पार्टी की कद्दावर नेत्री, दो बार की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे।
ट्विटर सर्वे में राजे का जलवा
दरअसल सारा सचिन पायलट नाम के एक पैरोडी अकाउंट से एक ट्वीट पॉल किया गया था। जिसमें पूछा गया था कि आप राजस्थान में मुख्यमंत्री के रूप में किसे देखना चाहते हैं ? विकल्पों में क्रमशः सचिन पायलट, अशोक गहलोत, वसुन्धरा राजे और गजेन्द्र सिंह शेखावत का नाम दिया गया है। इस पोल में करीब 22 हजार लोगों ने हिस्सा लिया है तथा अपनी पहली पसंद के रूप में 57% मतों के साथ वसुंधरा राजे को राजस्थान की मुख्यमंत्री चुना है। वहीं दूसरे नम्बर पर 34% मतों के साथ सचिन पायलट वहीं तीसरे पर मात्र 6 % मतों के साथ अशोक गहलोत तथा चौथे नम्बर पर गजेन्द्र सिंह शेखावत को चुना गया है।
गजेन्द्र-गहलोत की लोकप्रियता महज 5 फीसदी
राजस्थान में मुख्यमंत्री के रूप में भले ही अशोक गहलोत खुद को 10 में से 10 नम्बर दे रहे हों, लेकिन सर्वे के नतीजों पर गौर करें तो वर्तमान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को मात्र साढ़े पांच फीसदी वोट मिले हैं। वहीं खुद को आगामी मुख्यमंत्री मान खयाली पुलाव सेकने वाले गजेन्द्र सिंह शेखावत तो इस पॉल में सिर्फ 4 फीसदी मतों के साथ सबसे फीसड्डी खिलाड़ी के रूप में नजर आ रहे हैं। वहीं राजस्थान के अन्य वरिष्ठ नेता सतीश पूनियां, राजेन्द्र राठौड़ और प्रताप सिंह खाचरियावास जैसे नेताओं को तो पोल में जगह तक नहीं मिली है।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source