December 3, 2022

Delhi Pollution: दिल्ली की जहरीली हवा बन रही आपके दिल की दुश्मन, स्टडी में हुआ बड़ा खुलासा

wp-header-logo-177.png

Delhi Air Pollution Causes Heart Diseases: दिल्ली की जहरीली हवा की चपेट में हम सभी आ रहे हैं। इस हवा में सांस लेने से हमारा शरीर गंभीर बीमारियां की चपेट में आ रहा है। प्रदूषित हवा शरीर के भीतर के अंगों को नुकसान पहुंचा रहा है, वहीं शरीर के इंजन यानी ह्रदय पर भी बुरा असर पड़ रहा है। यह खुलासा शोधकर्ताओं की रिपोर्ट में सामने आया है। शोधकर्ताओं का कहना है कि गंभीर बीमारी वाले रोगियों का स्वास्थ्य पीएम 2.5 और पीएम 10 के उच्च जोखिम के चलते अधिक बिगड़ रहा है। यही नहीं, शोधकर्ताओं का कहना है कि प्रदूषित हवा के चलते दिल का दौरा आने की संभावना भी बढ़ सकती है।
जर्नल ऑफ द अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी में प्रकाशित एक स्टडी में कहा गया है कि PM2.5 या इससे भी सूक्ष्म कणों के लंबे समय तक संपर्क में रहने से हार्ट धमनियां (Heart Arteries) अचानक अस्थायी रूप से ब्लॉक हो जाती हैं। इस कारण हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है।
स्टडी ने हार्ट अटैक की संभावना बढ़ने के दिए संकेत
बता दें कि इस स्टडी को 287 हार्ट मरीज की टेस्ट रिपोर्ट का विश्लेषण करने के बाद किया गया था। इन रोगियों की कोरोनरी एंजियोग्राफी (coronary angiography) की गई थी। इस एंजियोग्राफी को करवाने का लक्ष्य ये जांचना था कि कोरोनरी धमनियां (coronary arteries) या एनओसीएडी (NOCAD) हाइपर-रेस्पॉन्सिव (hyper-responsive) हैं या नहीं। बताते चलें कि इसके लिए एक दवा इंजेक्ट की जाती है। स्टडी में पाया गया कि 287 मरीजों में से एनओसीएडी के 176 मरीजों यानी करीब 61 फीसदी का टेस्ट पॉजिटिव आया। स्टडी में यह भी सामने आया कि जिन मरीजों का टेस्ट पॉजिटिव आया वो PM2.5 और PM10 के उच्च स्तर के प्रदूषण के संपर्क में थे।
ये हैं दिल्ली में प्रदूषण बढ़ने के कारण
कार्डियोलॉजी के प्रोफेसर के मुताबिक स्टडी में सामने आया है कि वायु प्रदूषण और कोरोनरी वासोमोटर एक दूसरे से संबंधित है। अचानक बढ़ा प्रदूषण कम अवधि में ज्यादा मौतों की वजह बन सकता है। उन्होंने कहा कि दिल्ली जैसे शहरों में जहां पहले से ही प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ रहा है, इससे लोगों को हार्ट संबंधी बीमारियां होने का खतरा ज्यादा होता है। अगर इस बात पर नजर डाली जाए कि आखिर दिल्ली में प्रदूषण बढ़ क्यों रहा है? तो इस सवाल का जवाब है, डीजल और पेट्रोल के वाहन, पराली जलाने से निकलने वाला धुआं, कारखानों और बिजली संयंत्रों से निकलता हुआ धुआं आदि। इन सभी तरहों का धुआं हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है।
दिल की बीमारियों को न्योता देता है प्रदूषण
1. प्रदूषण रक्त वाहिकाओं (blood vessels) को संकरा और हार्ड बना सकता है, जिससे ब्लड फ्लो पर असर पड़ता है। ऐसी स्थिति में ब्लड क्लॉट (blood clot) बनने की संभावना ज्यादा रहती है।
2. शरीर के दूसरे हिस्सों में खून को पहुंचाने के लिए तेजी से पंप करना पड़ता है, जिससे ब्लड प्रेशर बढ़ने लगता है।
3. प्रदूषण के कारण हार्ट की मांसपेशियों पर दबाव बढ़ने लगता है।
4. इससे हार्ट की विद्युत प्रणाली (electrical system of the heart) प्रभावित हो सकती है, जो दिल की धड़कन को नियंत्रित करता है।
5. प्रदूषण के कारण आपके शरीर में हार्ट रेट (heart rate) बिगड़ सकता है।
6. जिन लोगों को दिल की समस्या है, उनमें लंबे समय तक वायु प्रदूषण (Air Pollution) में रहने से हार्ट अटैक (Heart Attack) का खतरा बढ़ जाता है।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author