December 3, 2022

आस्था के महाकुंभ में अनंत उत्साह: जयघोष, जज्बात और जोश के साथ घर-घर से विदा हुए गजानन, दो साल बाद दो गुना उत्साह

wp-header-logo-225.png

news website
कोटा. लहराता धर्म ध्वज, गूंजते गणपति के जयघोष, उड़ता गुलाल, मन में भक्तिभाव के साथ सिर पर गणेश प्रतिमाओं को लिए लाखों लोगों ने ‘अगले बरस तू जल्दी आ’ की कामना के साथ कहीं खुशी तो कहीं नम आंखों से गणपति को जल में विसर्जित कर मन वांच्छित फल की कामना के साथ विदाई दी। घर-घर से विघ्नहर्ता की विदाई सुबह से ही शुरू हो गई। शहरवासी नाचते, गाते, जयकारे लगाते अपने गजानन को विदा करने जलाशयों तक पहुंचे।
कोटा में मुख्य शोभायात्रा की शुरुआत सूरजपोल से हुई, यहां पूजा अर्चना के साथ ही जुलूस शुरू हुआ। महामंडलेश्वर हेमा सरस्वती ने विधि विधान से पूजा अर्चना कर आरती की। कार्यक्रम में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला भी उपस्थित रहे, जिन्होंने सभी साधु संतों का केसरिया दुपट्टा ओढ़ाकर सम्मान किया। विधायक संदीप शर्मा, महामंडलेश्वर हेमा सरस्वती, सनातनपुरी महाराज, भाजपा जिलाध्यक्ष कृष्ण कुमार रामबाबू सोनी, पूर्व विधायक भवानी सिंह राजावत, पंकज मेहता, रविन्द्र त्यागी सहित कई लोग उपस्थित रहे।
कोविड के बाद व्यक्ति के मन में दबी जिज्ञासाएं जाग उठी और उन्होंने तन मन धन समर्पित करते हुए पहले गजानंद को विराजमान किया। 10 दिन तक उनकी पूजा अर्चना की और उसके बाद अनंत चतुर्दशी पर उन्हें विदाई दी। किशोर सागर के साथ ही भीतरीया कुंड में नए कोटा शहर के लोगों ने गणपति को विदा किया, यहां भी भारी भीड़ देखने को मिली।



अखाड़ों ने दिखाए एक से बढ़कर एक करतब
जुलूस में अखाडे बाजों ने एक से बढ़कर एक करतब दिखाए, किसी ने तलवार की धार पर चलकर दिखाया तो किसी ने गदा युद्ध किया, एक के ऊपर एक ने चढ़कर अपनी अद्भुत कला कौशल का नजारा पेश किया। इसके साथ ही छाती पर पत्थर तोड़ना, कीलों पर चलना, आग से खेलना, चाकू से आंख में काजल लगाना सरीखे के सैकडों करतब दिखाए।

किशोर सागर सहित कई जगह विसर्जन
गणपति को विसर्जन करने के लिए हजारों की संख्या में लोग किशोरसागर तालाब की पाल पर पहुंचे और तालाब की पाल में विसर्जन किया। ढोल की थाप पर नाचते गाते लोग पहुंचे। लोगों ने गणपति की आरती उतारी, भोग लगाया, मन की मुराद मांगी और उन्हें खुशी खुशी विदा किया और अगले बरस जल्दी आने की कामना की। श्रद्धालुओं ने गणपति के साथ फोटो खिंचवाए, सेल्फी ली और उन्हें विसर्जित किया।

छोटी प्रतिमाओं को नाव और बड़ी को क्रेन से किया विसर्जित
तलाब की पाल पर छोटी गणेश प्रतिमाओं को नाव से विसर्जित किया। यहां दर्जनों नाव की व्यवस्था की गई। वहीं एसडीआरएफ की वोट के माध्यम से भी प्रतिमाओं को विसर्जित किया गया। वहीं बड़ी प्रतिमाओं को क्रेन के माध्यम से जल में प्रवाहित किया।

 
शहर में जगह-जगह ट्रैफिक जाम
कोटा शहर में जगह-जगह ट्रैफिक जाम रहा। पुलिस ने कई रास्तों को डायवर्ट किया, उसके बाद लोग कुछ समझ नहीं सके और भूल भूलैया की तरह घूमते रहे। कोटड़ी चौराह, छावनी, केशवपुरा, महावीर नगर, इन्द्रागांधी सर्किल, रामपुरा, सरोवर टाकिज, स्टेशन सहित कई जगह जाम के हालात रहे।

3 हजार 324 पुलिस अधिकारी व जवानों ने संभाला मोर्चा
अनंत चतुर्दशी पर शुक्रवार को शहर में सुरक्षा व शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए शहरभर में कुल 3 हजार 324 पुलिस अधिकारियों व जवाना तैनात रहे। ड्रोन, सीसीटीवी कैमरे, टॉवरों व छतों से नजर रखी गई। 14 टॉवरों से पुलिसकर्मी शोभायात्रा व भीड़ पर निगाह रखी। कोटा में भरतपुर, जयपुर, उदयपुर, बिकानेर, आयुक्तालय जयपुर, अजमेर-किशनगढ़, क्राइम ब्रांच, आरपीटीसी जोधपुर, इलेवन,हाड़ीरानी, आरएसी आदि रिजर्व कंपनी को बुलाया गया।

मंत्री धारीवाल इंटरनेट के माध्यम से जुलूस से जुड़े रहे
नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल जयपुर से अनंत चतुर्दशी महोत्सव की शोभायात्रा से इंटरनेट के माध्यम से जुड़े। गणपति से देश प्रदेश में सुख समृद्धि और खुशहाली की प्रार्थना की। उन्होंने शहरवासियों को शुभकामनाएं दी।
अनंत चतुर्दशी जुलूस की झलकियां
Your email address will not be published. Required fields are marked *







This is the News Website by Chambal Sandesh
Rajasthan, Kota
THIS IS CHAMBAL SANDESH YOUR OWN NEWS WEBSITE

  • एजुकेशन
  • कर्नाटक
  • कोटा
  • गुजरात
  • Chambal Sandesh

    source

    About Post Author