June 29, 2022

मशहूर संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा का निधन, 84 साल की उम्र में ली अंतिम सांस, PM मोदी ने जताया दुख

wp-header-logo-181.png

news website
नई दिल्ली. मशहूर भारतीय संगीतकार और संतूर वादक पंडित शिव कुमार शर्मा का निधन हो गया है। भारतीय संगीत को उनके खास अंदाज की वजह से अंतरराष्ट्रीय पहचान मिली थी।
फिल्मी जगत में भी पंडित शिव कुमार शर्मा का अहम योगदान रहा। बॉलीवुड में ‘शिव-हरी’ (शिव कुमार शर्मा और हरि प्रसाद चौरसिया) की जोड़ी ने कई हिट गानों में संगीत दिया। Chandni फिल्म का गाना ‘मेरे हाथों में नौ-नौ चूड़ियां’ जो कि श्रीदेवी पर फिल्माया गया था उसके लिए संगीत इस हिट जोड़ी ने ही दिया था।
पीएम मोदी ने जताया दुख
Our cultural world is poorer with the demise of Pandit Shivkumar Sharma Ji. He popularised the Santoor at a global level. His music will continue to enthral the coming generations. I fondly remember my interactions with him. Condolences to his family and admirers. Om Shanti.
— Narendra Modi (@narendramodi) May 10, 2022

संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा के निधन पर मुख्यमंत्री ने जताया दुःख
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रख्यात संतूर वादक पंडित शिवकुमार शर्मा जी के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। अपने शोक संदेश में मुख्यमंत्री ने कहा है कि सरल स्वभाव और आत्मा को सम्मोहित करने वाले संगीत कला के पारंगत पंडित शिवकुमार जी मां सरस्वती के अनन्य साधक थे। कला-संगीत के क्षेत्र में उनके विशिष्ट योगदान के लिए भारत सरकार ने उन्हें पद्म विभूषण से अलंकृत किया था।
आज उनके निधन से संगीत जगत में एक विराट शून्य उत्पन्न हुआ है। शोकाकुल परिजनों और शिष्यों के प्रति शोक संवेदना प्रकट करते मुख्यमंत्री ने शिवकुमार जी की आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।
15 मई को होने वाला था कॉन्सर्ट
सबसे दुख की बात ये है कि शिव कुमार शर्मा जी का 15 मई को इवेंट होने वाला था। इस खास पल का हिस्सा बनने के लिए कई लोग इंतजार कर रहे थे। इस इवेंट में शिव कुमार शर्मा जी हरि प्रसाद चौरसिया के प्रस्तुति देने वाले थे। लेकिन अफसोस इवेंट से कुछ दिन पहले ही शिव कुमार शर्मा ने इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया।
मंबई में हुई थी पंडित शिव कुमार शर्मा की पहली परफॉर्मेंस
पंडित शिव कुमार शर्मा का जन्म जम्मू में हुआ था। उन्होंने 13 साल की उम्र में संतूर सीखना शुरू किया था। उनकी पहली परफॉर्मेंस साल 1955 में मुंबई में हुई थी। इस महान शख्सियत ने 84 साल की उम्र में दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया है। उनके यूं जाने से हर कोई उदास है।
Your email address will not be published. Required fields are marked *







This is the News Website by Chambal Sandesh
Rajasthan, Kota
THIS IS CHAMBAL SANDESH YOUR OWN NEWS WEBSITE

  • एजुकेशन
  • कर्नाटक
  • कोटा
  • गुजरात
  • Chambal Sandesh

    source