February 6, 2023

DNA: डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक क्या होता है? जानिए डीएनए और जीन के बीच का अंतर

wp-header-logo-134.png

Information About DNA: हम सभी अक्सर डीएनए को लेकर कई चीजें सुनते रहते हैं, डीएनए सबसे फेमस बायोलॉजिकल मॉलिक्यूल में से एक है। यह पृथ्वी पर जीवन के सभी रूपों में मौजूद है। देखा जाए तो शरीर की सभी कोशिका (Cells) में डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक (deoxyribonucleic) एसिड यानी डीएनए होता है। यह जेनेटिक कोड है जो हर इंसान को पूरी दुनिया से अलग बनाता है। डीएनए सभी जीवन के विकास (development), प्रजनन (reproduction) और कामकाज (functioning) को चलाता है। शरीर की लगभग सभी कोशिकाओं में डीएनए तो होता ही है, बल्कि एक कोशिका में 6.5 फीट से ज्यादा लंबा डीएनए होता है। डीएनए की खोज दो वैज्ञानिकों, जेम्स वॉटसन और फ्रांसिस क्रिक ने 1953 में की थी। आज के इस आर्टिकल में हम आपको डीएनए के बारे में सभी अहम जानकारियां देंगे।
डीएनए क्या है? (What is DNA)
आइये अब जानते हैं कि डीएनए आखिर होता क्या है? दरअसल, डीएनए एक लंबा मॉलिक्यूल है, जिसमें हर व्यक्ति का यूनिक जेनेटिक कोड होता है। यह शरीर के सभी कार्यों के लिए आवश्यक प्रोटीन बनाने के निर्देश देता है। बता दें कि डीएनए माता-पिता से बच्चे में जाता है, जिसमें बच्चे का लगभग आधा डीएनए पिता से और आधा मां से बनता है।
डीएनए कैसे बनता है? (How is DNA made)
डीएनए एक डबल स्टैंडर्ड मॉलिक्यूल है, जो मुड़ा हुआ दिखाई देता है। यही डीएनए को यूनिक बनाता है। जिसे डबल हेलिक्स कहा जाता है। प्रत्येक दो स्ट्रैंड न्यूक्लियोटाइड्स का एक लंबा क्रम है। ये डीएनए की अलग-अलग इकाइयां हैं और ये बनी हैं:
नाइट्रोजन रिच एरिया (Nitrogen Rich Area)
चार प्रकार के नाइट्रोजन रिच एरिया हैं जिन्हें आधार कहा जाता है, जिनमें शामिल हैं:
एडिनाइन (ए)
साइटोसिन (सी)
ग्वानिन (जी)
थाइमिन (टी)
इन चार आधारों से जेनेटिक कोड बनता है। डीएनए के दो तंतुओं के आधार एक साथ चिपक कर एक सीढ़ी जैसी आकृति बनाते हैं। सीढ़ी के भीतर A, T से चिपक जाता है, और G, C से चिपक जाता है ताकि “रूंग्स” (rungs) बनाया जा सके। सीढ़ी की लंबाई फॉस्फेट समूहों के माध्यम से बनती है।
जीन क्या है? (What is a gene)
डीएनए की लंबाई जो प्रोटीन के लिए कोड करती है, एक जीन कहलाती है। उदाहरण के लिए, प्रोटीन इंसुलिन के लिए एक जीन कोड, हार्मोन जो रक्त में शर्करा (blood sugar) के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। मनुष्य के पास लगभग 30,000 जीन हैं, हालांकि इन आंकड़ों को लेकर अनुमान अलग-अलग हैं।
ऐसा माना जाता है कि डीएनए का लगभग 1% ही प्रोटीन-कोडिंग जीन से बना होता है। वैज्ञानिक बाकी 99% डीएनए के कार्य के बारे में कम जानते हैं। गुणसूत्र (Chromosome) 1 सबसे बड़ा है और इसमें लगभग 2,800 जीन शामिल हैं। सबसे छोटा गुणसूत्र (Chromosome) 22 है, जिसमें लगभग 750 जीन होते हैं।
डीएनए कितने प्रकार के होते हैं:-
1. A-DNA: डिहाइड्रेटेड डीएनए A प्रकार का होता है, जो एक्सट्रीम कंडीशंस में डीएनए की रक्षा करता है। प्रोटीन बाइंडिंग भी डीएनए से विलायक (solvent) को हटाता है और A प्रकार का डीएनए बनाता है।
2. B-DNA: यह सबसे आम डीएनए का प्रकार है, B प्रकार के अधिकांश डीएनए की बनावट सामान्य शारीरिक स्थितियों के मुताबिक होती है।

3. Z-DNA: जेड-डीएनए बायीं ओर का डीएनए होता है, यह जीन के प्रारंभिक स्थल से आगे पाया जाता है। इसलिए माना जाता है कि यह जीन को कार्यबद्ध करने में कुछ भूमिका निभाता है। जेड-डीएनए की खोज एंड्रेस वांग और अलेक्जेंडर रिच ने की थी।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author